ठंड का मौसम शुरू हो चुका है. हवाओं में रूखापन बढ़ रहा है. ऐसे में हमें अपने होंठों और चेहरे की अतिरिक्त देखभाल शुरू कर देनी चाहिए.

सर्दी के मौसम में रूखे और फटे होंठों की समस्या करीबकरीब हर महिला को होती है. कुछ के लिए तो लिपबाम साथ रखना उतना ही जरूरी होता है जितना कि बटुआ. क्योंकि होंठों पर तेल की ग्रंथियां नहीं होतीं और न ही इन पर पर्यावरण से सुरक्षा देने के लिए बाल होते हैं. यही वजह है कि होंठ जल्दी रूखे हो जाते हैं और फटने लगते हैं.

ऐसे में सर्दी के मौसम में अपने होंठों को देखभाल के लिए अपनाएं ये उपाय:

होंठों की नमी

त्वचा के लिए सब से ज्यादा जरूरी होता है उसे पर्याप्त नमी प्रदान करना. त्वचा और होंठों में पर्याप्त नमी बरकरार रखने के लिए हर मौसम में शरीर को पानी की जरूरत होती है. अत: सर्दी के मौसम में भी पर्याप्त पानी पीएं.

जीभ पर रखें काबू

होंठों पर बाबार जीभ फिराने से होंठ रूखे हो जाते हैं अथवा इन की त्वचा खिंचने लगती है. तब होंठों को मुलायम और नम बनाए रखने के लिए मौइश्चर की जरूरत होती है. अत: होंठों पर जीभ फिराने की आदत छोड़ दें.

आहार में विटामिन बी शामिल करें

विटामिन बी पर्याप्त मात्रा में न लेने से न सिर्फ आप का पाचनतंत्र प्रभावित होता है, बल्कि इस से आप के होंठों की सेहत भी प्रभावित होती है. होंठों के किनारे और मुंह के कोने सूख कर फट जाते हैं. विटामिन बी की कमी से मुंह में अल्सर भी हो जाता है. ऐसे में सर्दी में होंठों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी लें.

धूम्रपान न करें

धूम्रपान से होंठ काले और रूखे हो जाते हैं, इसलिए होंठों की पिंक रंगत के लिए तुरंत धूम्रपान छोड़ दें. सिगरेट पीने वालों के होंठ काले रहते हैं.

घरेलू नुसखे

शहद और नीबू की कुछ बूंदें मिला कर नियमित रूप से होंठों पर लगाएं. इस से होंठों की रंगत ठीक होगी और वे मुलायम भी रहेंगे. तेल भी होंठों के लिए अच्छा होता है. आप औलिव औयल, सरसों का तेल या लौंग का तेल होंठों पर लगा सकती हैं. इस से होंठ मुलायम और चमकदार रहेंगे. कैस्टर औयल भी होंठों के लिए बेहतरीन है. यह होंठों को फटने अथवा रंगत खराब होने से बचाता है.

होंठों के लिए कौस्मैटिक प्रौसिजर

जिन के होंठ पतले हैं और वे उन में उभार चाहती हैं, उन के लिए डर्मल फिलर जुवेडर्म बेहतरीन और प्रभावी विकल्प है. जब यह होंठों पर लगाया जाता है, तब ह्यालुरोनिक ऐसिड बेस्ड फिलर होंठों को उभार देता है. हाइडोफिलिक जैल भी होंठों में नमी का ठहराव बढ़ाता है और रूखे व फटे होंठों को नमी प्रदान करता है. इस का असर 6 से 9 महीने तक बरकरार रहता है.

यूवी किरणों से सुरक्षा

गरमी के दिनों में हम अधिकतर वक्त घर में बिताना चाहती हैं लेकिन ठंड में इस के विपरीत ज्यादा समय तक बाहर रहना पसंद करती हैं. अत: सूर्य की यूवी किरणों के संपर्क में आने से होंठों की रंगत धूमिल हो जाती है. ऐसे त्वचा की तरह होंठों को भी यूवी किरणों से सुरक्षित रखने की जरूरत होती है. होंठों को रूखा और काला होने से बचाने के लिए ऐसे बाम या जैल का इस्तेमाल करें, जो सूर्य की यूवी किरणों से सुरक्षा देता हो.

सर्दियों के लिए उपयुक्त लिपस्टिक

अगर आप लिपस्टिक लगाती हैं तो ऐसी लिपस्टिक खरीदें जिस में अच्छी मात्रा में मौइश्चराइजर भी हो. लिपस्टिक लगा कर कभी सोए नहीं. सोने से पहले इसे जरूर हटा लें और कोई अच्छा मौइश्चराइजिंग लिपबाम लगाएं. ऐसा बाम न लगाएं जिस में ग्लिसरीन, अल्कोहल, कैमिकल वाले तत्त्व अथवा रैटिनोल हो.

होंठों को भी चाहिए स्क्रबिंग

होंठों की रंगत गुलाबी रखने के लिए उन पर नियमित रूप से स्क्रब लगाने की जरूरत होती है. होंठों को स्क्रब करने के लिए आप औलिव औयल और शुगर पाउडर का मिक्सचर इस्तेमाल कर सकती हैं.

होंठों की रंगत सुधारें

होंठों को काला होने से बचाना चाहती हैं, तो नीबू का इस्तेमाल करें. नीबू में प्राकृतिक ब्लीच होती है, जिस से होंठों के धब्बे आसानी से हलके हो जाते हैं. होंठों को गुलाबी रंगत देने, उन्हें ठंडा रखने, मौइश्चराइज करने और ऐक्सफोलिएट करने के लिए चुकंदर और गुलाबजल का इस्तेमाल करें. आप गुलाबजल की कुछ बूंदें शहद में मिला कर भी होंठों पर लगा सकती हैं. अपने होंठों को पोषण और नमी देने के लिए आप इन की औलिव औयल से मसाज भी कर सकती हैं. होंठों को प्राकृतिक रूप से गुलाबी बनाने के लिए अनार के रस की कुछ बूंदों को होंठों पर मसलें. अनार के रस में पानी और क्रीम मिला कर होंठों पर लगाएं.

-डा. इंदु बलानी

डर्मेटोलौजिस्ट, दिल्ली द