क्या आप बिना आस्तीन के कपडे पहनती हैं और अगर हां, तो आप उनमे कितना सहज महसुस करती हैं? अपने दोस्तों को किसी भी तरह के कपडे बिना किसी हिचकिचाहट के पहना देख आप दुखी हैं और ब्यूटी पार्लर जाकर इसका इलाज करने में भी आप शर्म महसुस कर रहीं हैं, तो यहां हम आपको बता रहे हैं कि काले बगलों का घरेलु उपचार आप कैसे करें?

अंडरआर्म्स हमारे शरीर का एक नाजुक अंग है जो भले ही शरीर में छिपा या ढंका हुआ होता है लेकिन इसकी खूबसूरती भी बहुत महत्वपूर्ण होती है. हमारी बांहे ज़्यादातर समय ढंकी हुई होती हैं और इस पर धुप या बाहरी प्रभाव कम ही पड़ता है लेकिन फिर भी आपने गौर किया होगा कि कई लोगों की त्वचा का रंग तो गोरा होता है लेकिन उनके अंडरआर्म्स काले होते हैं. काले बगलों का मुख्य कारण हेयर रिमूवल क्रीम हो सकता है जो बालों को हटाने के लिए इस्तेमाल करते समय त्वचा पर काले निशान छोड़ जाता है.

काले बगलों को छिपाने के उपाय में कुछ लोग फेयरनेस क्रीम का प्रयोग भी करते हैं लेकिन कई बार ये क्रीम संवेदनशील त्वचा में खुजली पैदा कर सकते हैं.

बेकिंग सोडा और हल्दी

एक चम्मच बेसन और एक चम्मच बेकिंग सोडा लें. इसमें दो चुटकी हल्दी पाउडर मिलाकर पानी की मदद से इसे गाढा पेस्ट तैयार करें. अब काले बगलों पर इस पेस्ट को लगाकर सूखने दें. इसके बाद गुनगुने पानी से त्वचा को धो कर साफ करें. इस प्रयोग को दो दिन के अंतराल में एक बार जरूर करें.

बेकिंग सोडा और वेनेगर

आप बेकिंग सोडा के साथ विनेगर का प्रयोग कर प्रभावी परिणाम पा सकते हैं. अक्सर घरों में एप्पल साइडर विनेगर बड़ी ही आसानी से मिल जाता है. एक चम्मच विनेगर में बेकिंग सोडा की उचित मात्रा मिलाकर गाढ़ा सा पेस्ट बना लें. इस मिश्रण को बगलों में लगाकर कुछ देर रखें फिर पानी से धो लें. आप इस प्रयोग को नियमित रूप से करने पर देखेंगी कि बगलों का कालापन पूरी तरह से चला गया है.

नींबू और बेकिंग सोडा

नींबू एक ऐसा प्राकृतिक उपहार है जिसमें ब्लीचिंग का गुण सामान्य रूप से मौजूद होता है. जो त्वचा पर जमी गहरी परतों को निकालकर रंगत को हल्का करता है. ताजे नींबू के रस में बेकिंग सोडा मिलाकर इस मिश्रण को प्रभावित जगह पर लगाये. इसे पूरी तरह सूख जाने दें और उसके बाद धो लें.

नींबू का रस

स्नान से पहले नींबू के स्लाइस से अपनी कांखों को घिसें. इसके बाद माइस्चराइजर लगाये. डिओडोरेंट थोड़े दिन इस्तेमाल न करें. नींबू एक प्राकृतिक ब्लीचिंग एजेंट है जो धीरे-धीरे कांख का रंग हल्का कर देता है.

दूध और केसर

दो चम्मच दूध या क्रीम में केसर की एक चुटकी ले और सोने से पहले कांख पर लगा लगाकर पूरी रात के लिए छोड़ दें, और अगली सुबह इसे धो डाले. इस उपाय से कांख का रंग हल्का होता है और यह बदबु पैदा करने वाले कीटाणुओं और जीवाणुओं को भी मारता है.

खीरा और आलू

आलू या खीरे के स्लाइस को कांख पर रगड़े और 15 मिनट बाद धो डालें. जल्द ही आपको कांख की त्वचा का रंग हल्का दिखने लगेगा.

गुलाब जल और चंदन

गुलाब जल के साथ चंदन का पेस्ट बनायें. इसे कांख पर लगाए. कुछ देर बाद इसे धो डालें गुलाब जल त्वचा ठंडी करेगा और चंदन त्वचा हलका रंग देगा.

वैक्सिंग

वैक्सिंग करने में थोडा दर्द होगा पर ये बालों को जड़ से निकल देगा और आपकी कांख गोरी दिखने लगेगी. वैक्सिंग से डेड सेल्स निकल जाती है.

संतरे का छिलका

संतरे के छिलके में त्वचा को गोरा करने तथा एक्सफोलिएशन के गुण होते हैं, अतः कांखों के नीचे का कालापन इससे काफी आसानी से निकाला जा सकता है. संतरे के छिलकों को सुखाकर उनका पाउडर बनाएं तथा इसे गुलाबजल तथा दूध के साथ मिलाकर स्क्रब करें. इसके बाद इसे ठन्डे पानी से धो लें.

सिरका और चावल के आटा

सिरके से भी काली हो रही कांखों से छुटकारा मिलता है. यह ना सिर्फ आपकी त्वचा का रंग निखारता है, बल्कि उन जीवाणुओं तथा बैक्टीरिया को भी मारता है, जो बदबू फैलाने वाली मृत कोशिकाओं पर निर्भर होती हैं. चावल के आटे तथा सिरके का एक गाढ़ा पेस्ट बनाएं और इसे अपनी कांखों के पर लगाएं. इसे 15 मिनट तक छोड़ दें तथा इसके बाद गर्म पानी से धो दें.

बेसन

बेसन भी कांखों के नीचे की त्वचा का कालापन दूर करने में काफी अहम है. बेसन, दही और नींबू के रस को मिलाकर एक पेस्ट बनाएं. त्वचा को गोरा करने वाले इस घरेलू पैक को कांखों के नीचे लगाएं. इसे आधे घंटे तक छोड़ दें और फिर पानी से धो लें.

नींबू तथा चीनी

नींबू तथा चीनी से कांखों को गीली उंगलियों से 15 मिनट तक स्क्रब करें. ये स्क्रब तब ज्यादा फायदेमंद हैं.

Tags: