गृहशोभा विशेष

शादी की तारीख तय होते ही युवक युवती की तैयारियां शुरू हो जाती हैं. ये तैयारियां होती हैं एक दूसरे के साथ जिंदगी की नई शुरुआत करने की. वैसे तो शादी की तैयारी में बहुत सी बातें हैं, मगर युवती और युवक को सब से ज्यादा उत्साह जिस चीज का होता है वह है, एकदूसरे के लिए सजनेसंवरने का, जिस के लिए वे काफी सारी शौपिंग करते हैं. दिलचस्प बात यह है कि अब पहले की तरह शौपिंग में न तो युवती के मातापिता का दखल होता है और न ही युवक को अपने यारदोस्तों और मामाचाचा का सहारा लेना पड़ता है. अब तो विवाह सूत्र में बंधने वाला जोड़ा एकसाथ एकदूसरे की शौपिंग में मदद करता है.

देखा जाए तो यह सही भी है, क्योंकि शौपिंग में एकदूसरे का साथ व पसंदनापसंद जानने का भी मौका मिलता है. मगर शौपिंग के दौरान नए ट्रैंड और फैशन को ध्यान में रखना भी बहुत जरूरी है. कहीं ऐसा न हो कि छोटी सी भूल सारी तैयारियों पर पानी फेर दे.

लेटैस्ट पहनावा

इस में सब से पहले आते हैं युवकयुवती द्वारा पहने जाने वाले आउटफिट्स. जाहिर है इस विशेष अवसर पर उन का खास दिखना भी जरूरी है. इस के लिए हर कार्यक्रम में लेटैस्ट ट्रैंड्स को ध्यान में रखते हुए दोनों को ही अलगअलग परिधानों का चुनाव करना चाहिए. इस बाबत फैशन डिजाइनर श्रुति संचिति कहती हैं, ‘‘शादी का अवसर अब पहले की तरह पारंपरिक नहीं बल्कि फैंसी हो गया है, जिन कार्यक्रमों का स्वरूप पहले छोटा हुआ करता था अब वे बड़े स्तर पर होते हैं. रोका, सगाई, गोदभराई, मेहंदी व हलदी कुछ ऐसे कार्यक्रम हैं जिन में दूल्हा और दुलहन पक्ष के सभी लोग उपस्थित रहते हैं. ऐसे में होने वाले दूल्हादुलहन को इन सभी कार्यक्रमों के लिए पहले से तैयारी करनी पड़ती है.’’

खासतौर पर आउटफिट्स की खरीदारी दूल्हादुलहन को एकसाथ करनी चाहिए, क्योंकि आजकल मैचिंग का ट्रैंड है और लोगों का दूल्हादुलहन के कपड़ों की मैचिंग पर ही सब से अधिक फोकस रहता है. इसलिए जब शादी के कार्यक्रमों के लिए आउटफिट्स खरीदने जाएं, तो निम्न बातों का ध्यान जरूर रखें.

साड़ी और लहंगे का क्रेज अब भी युवतियों में कम नहीं हुआ है. डिजाइनर्स ने भी इन दोनों ही परिधानों के साथ नएनए प्रयोग किए हैं, जिस से ये और भी ट्रैंडी लुक में बाजार में उपलब्ध हैं. रोका और सगाई जैसे कार्यक्रमों के लिए डिजाइनर लहंगों या प्रीड्रैप साड़ी, ऐंब्रौयडरी वाले गाउंस या डिजाइनर क्रौप टौप के साथ लाचा स्टाइल स्कर्ट को चुना जा सकता है. वहीं मेहंदी, संगीत और हलदी के कार्यक्रम के लिए इंडो वैस्टर्न अनारकली सूट्स, फ्लोर लैंथ रौ सिल्क स्कर्ट या गाउंस काफी अच्छा विकल्प साबित हो सकते हैं.

अपनी शादी में दुलहन भी अब सभी अवसरों को ऐंजौय करना चाहती है, ऐसे में उन आउटफिट्स को प्रमुखता दें जो स्टाइलिश भी हों और आरामदायक भी. नैनोट्रैडिशनल कौंसैप्ट पर तैयार लहंगे दुलहन की दोनों जरूरतों को पूरा करते हैं. पहली बात यह कि ये वजन में भारी और ज्यादा कीमती नहीं होते. दूसरा, इन्हें बाद में कस्टमाइज कर के समय के ट्रैंड के अनुसार ढाला जा सकता है, जिस से पैसों की बरबादी भी नहीं होती.

युवकों के लिए अब न केवल कोटपैंट, धोतीकुरता और शेरवानी बल्कि बाजार में वैडिंग आउटफिट्स के ढेरों विकल्प उपलब्ध हैं. इन विकल्पों में सब से अधिक लोकप्रिय ऐंब्रौयडरी, जरदोजी और सीक्वैंस वर्क वाला बंद गले का कुरता और चूड़ीदार पाजामा, चिकन, लेनिन या जामवार जैसे फैब्रिक से बनी अचकन, कुरता और लौंग कोट मौजूद हैं, जिन्हें मोजरी और जूती के साथ पहनने में क्लासी लुक आता है. चाहें तो एक हलका सा स्टौल या पगड़ी भी इस के साथ क्लब की जा सकती है, यह आउटफिट के लुक को और भी इनहैंस करता है. सब से अच्छी बात यह है कि इन आउटफिट्स को किसी भी कार्यक्रम में पहना जा सकता है, बस, इन के पैटर्न और डिजाइन का थोड़ा खयाल रखना पड़ता है.

आप को यह जान कर हैरानी होगी कि धोतीकुरते का फैशन आज भी पूरी तरह आउट नहीं हुआ है बल्कि इस के स्वरूप को और भी डिजाइनर अंदाज में पेश किया जा चुका है. खासतौर से यदि अपनी शादी के दिन आप भारीभरकम शेरवानी न पहनना चाहें तो रौ सिल्क का कुरता और कौटन सिल्क की धोती चुन सकते हैं. वैसे इसे और भी स्टाइलिश लुक देने के लिए कुरते के ऊपर डिजाइनर कोट भी पहना जा सकता है.

वैसे सही कलर कौंबिनेशन, फैब्रिक और पैटर्न का खयाल रख कर दूल्हादुलहन अपने आउटफिट्स को एकदूसरे के मैच का भी बना सकते हैं.

– दुलहन के लहंगे में जिस रंग का सब से कम इस्तेमाल हुआ हो दूल्हे को उसी रंग का आउटफिट चुनना चाहिए.

– दूल्हादुलहन एकदूसरे के आउटफिट को कौंप्लिमैंट करते हुए रंग का आउटफिट भी ले सकते हैं.

–  इस बात का भी खयाल रखें कि यदि दूल्हा वैस्टर्न आउटफिट पहन रहा है, तो दुलहन को भी वैस्टर्न आउटफिट ही पहनना चाहिए.

मेकअप में रखें ट्रैंड का खयाल

पहनावे के बाद सजनेसंवरने की कड़ी में सब से महत्त्वपूर्ण मेकअप होता है. चाहे दुलहन हो या दूल्हा शादी के लगभग सभी कार्यक्रमों में मेकअप के अनुभव से सभी को गुजरना पड़ता है. मगर इस की तैयारी भी पहले से करनी पड़ती है.

जहां दुलहन को यह तय करना पड़ता है कि उसे कैसा लुक चाहिए वहीं युवक को भी अपने आउटफिट के अनुसार बाल और दाढ़ी सैट करनी पड़ती है. इस बारे में मेकअप आर्टिस्ट अतुल चौहान कहते हैं, ‘‘दुलहन के मेकअप में ड्रामैटिक लुक, रौयल लुक, अरैबिक स्टाइल जैसी कई वैराइटी होती हैं, मगर मेकअप का कोई भी स्टाइल दुलहन के आउटफिट और ज्वैलरी पर ही तय करता है. हम होने वाली दुलहन को यही सलाह देते हैं कि पहले आउटफिट तय कर लें ताकि उस के हिसाब से मेकअप और ज्वैलरी तय की जा सके.’’ कुछ ऐसा ही दूल्हे को भी करना पड़ता है.

वैसे तो दूल्हे को दुलहन की तरह मेकअप लुक्स की ज्यादा जरूरत नहीं पड़ती मगर चेहरे पर पिंपल, टैनिंग या फिर किसी तरह के दागधब्बे हों, तो उन्हें शादी के कुछ दिन पहले ही फैशियल, ब्लीच और क्लीनअप करवाने की जरूरत होती है. वैसे यह काम दुलहन को भी करवाना पड़ता है. आजकल बहुत से ऐसे यूवी सैक्स सैलून हैं, जो दूल्हादुलहन के लिए कंबाइंड पैकेज देते हैं. इन पैकेजेस को पहले से बुक कराया जा सकता है.

इस के साथ ही युवकों को भी अपनी मेकअप किट में कुछ खास कौस्मैटिक प्रोडक्ट्स रखने चाहिए, जिन के बारे में अतुल बताते हैं, ‘‘स्किन टोन से मैच करता फाउंडेशन, कौंपैक्ट पाउडर, होंठों की स्किन टोन से मैच करती न्यूड शेड की लिपस्टिक युवकों को भी अपनी किट में जरूर रखनी चाहिए. यह उत्पाद उन के फीचर्स को इनहैंस करते हैं.’’

गहने भी हों खास

ट्रैंड के साथ युवतियों का गहनों को ले कर पसंद में भी काफी बदलाव आया है. वे अब भरीभरकम ज्वैलरी के बजाय कम वजनी और वनपीस ज्वैलरी ही पसंद करती हैं. वैसे आजकल मल्टीलेयर्ड और चोकर डिजाइन वाले नैकलैस फैशन में हैं. इन के साथ चौड़े हैंडकफ्स को क्लब किया जा सकता है. इस से दुलहन का लुक बैलेंस हो जाता है.

युवकों की बात की जाए तो वे भी अपनी वैडिंग ऐक्सैसरीज को ले कर काफी चूजी हो गए हैं. खासतौर पर पगड़ी पर लगने वाली कलगी और कोट के लिए ब्रोचेस की खरीदारी में वे काफी ट्रैंड कौंशियस हो गए हैं. इसी तरह युवकों के लिए लेयर्ड नैकलैस में भी काफी वैराइटी बाजार में उपलब्ध हैं. इन का चुनाव आउटफिट के रंग और पैटर्न के आधार पर ही होना चाहिए.

अत: यदि उपरोक्त सभी बातों का ध्यान रखा जाए तो युवकयुवतियों को अपनी शादी की शौपिंग के दौरान न तो ज्यादा मुश्किलें आएंगी और न ही उन का अधिक समय बरबाद होगा.                   

दुलहन की मेकअप किट

– दुलहन की मेकअप किट में प्राइमर अवश्य होना चाहिए. किसी भी कौस्मैटिक प्रोडक्ट के इस्तेमाल से पहले इसे जरूर लगाना चाहिए, क्योंकि यह त्वचा पर सुरक्षा कवच की तरह काम करता है और मेकअप को लंबे समय तक सैट रखता है.

– यदि फाउंडेशन लगाना पसंद नहीं है तो दुलहन अपनी मेकअप किट में बीबी और सीसी क्रीम रख सकती है. यह फाउंडेशन की तरह ही कार्य करता है और इसे लगाना भी बेहद आसान होता है.

– आजकल बाजार में कई शेड्स के आईलाइनर उपलब्ध हैं और यह काफी ट्रैंडी भी लगते हैं. अपने आउटफिट्स के हिसाब से इन्हें भी मेकअप किट में जगह देनी चाहिए. साथ ही जैल काजल भी मेकअप किट में जरूर रखें.

– अपनी ड्रैस से मैच करते हुए नेलपेंट्स के 3-4 शेड्स जरूर रखें.

– अपनी किट में लाइट शेड्स के साथ ही डार्क शेड्स की लिपस्टिक भी शामिल करें. खासतौर पर ब्लड रैड और मैरून कलर आजकल ट्रैंड में हैं, तो इन शेड्स को किट में जरूर रखें.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं