गृहशोभा विशेष

सब तारीफ करते थे स्मेंथा के टीनएज में कदम रखने से पहले उस की स्किन की. लेकिन अब वह अपनी स्किन से परेशान रहती है. आए दिन उस पर दाने हो जाते हैं. हर तीसरा शख्स उसे दोनों की एक नई वजह के साथ एक नया उपाय भी मुफ्त में दे जाता है.

स्मेंथा भी नएनए उपाय अपना कर परेशान हो चुकी है. इन से उस की त्वचा के मुंहासे खत्म होना तो दूर, उस की स्किन रूखी होने के साथसाथ झुर्रियों से भी भर गई है. अपनी स्किन की वजह से वह हीनभावना से ग्रस्त रहने लगी है. अब तो वह भीड़ या दोस्तों की महफिल में जाने से भी कतराने लगी है.

यह सिर्फ स्मेंथा की समस्या नहीं है. अकसर टीनएज में ऐसी समस्याएं आ जाती हैं, जिन के बारे में उन्हें जानकारी तो होती है, लेकिन वह जानकारी सही नहीं होती. इसी के चलते परेशानी कम होने के बजाय बढ़ जाती है. स्किनकेयर को ले कर भी युवाओं में कई मिथ हैं, जिन पर अमल कर वे अपने ही हाथों से अपनी स्किन को नुकसान पहुंचा लेते हैं. आप के साथ ऐसा न हो, इसलिए सुनीसुनाई बातों को फौलो करने से पहले अच्छी तरह सोच लें.

मुंहासों पर टूथपेस्ट

अकसर चेहरे या शरीर के किसी दूसरे हिस्से पर मुंहासे होने पर लोग उस जगह टूथपेस्ट लगाने की सलाह देते हैं. लेकिन सच तो यह है कि टूथपेस्ट त्वचा में मौजूद तेल को कम कर उसे रूखा बनाता है. टूथपेस्ट में ऐसे कई तत्त्व मौजूद होते हैं, जो आप की त्वचा के मुंहासों को बढ़ाने में सहायक होते हैं. इसलिए टूथपेस्ट के बजाय किसी सौम्य आयलफ्री क्लींजर बार का इस्तेमाल करें, जो आप की त्वचा की चमक खोए बिना ही मुंहासों से हटा सके.

ब्लैकहैड्स की वजह धूल

अगर आप सोचती हैं कि आप के चेहरे पर उभर आए ब्लैकहैड्स धूल की वजह से हैं, तो आप गलत सोचती हैं. वास्तव में ऐसा नहीं है. ब्लैकहैड्स की वजह डस्ट नहीं, बल्कि आप की त्वचा में मौजूद प्राकृतिक आयल है. जब त्वचा के पोर्स खुले होते हैं और टिप में हवा जा सकती है, तो वह औक्साइज्ड हो कर ब्लैकहैड्स के रूप में दिखने लगती है. इसलिए बारबार चेहरा धो कर डस्ट हटाने के बजाय कोई अच्छी आयल कंट्रोल क्रीम इस्तेमाल करें.

चेहरे की एक्सरसाइज

अकसर लोग इस गलतफहमी में रहते हैं कि शरीर की ही तरह चेहरे की फेशल एक्सरसाइज करने से उस की मसल्स ढीली नहीं होंगी, लेकिन सच तो यह है कि फेशल एक्सरसाइज आप के चेहरे को झुर्रियों का तोहफा दे सकती है. चेहरा शरीर का एकमात्र ऐसा हिस्सा है, जिस की मसल्स त्वचा से बिना पिंगमेंट और टिशू की मदद के डायरेक्ट जुड़ी होती हैं. जब आप अपनी मसल्स पर दबाव बनाएंगे, तो वह सीधा त्वचा पर पड़ेगा. यही वजह है कि जब हम फेशल एक्सप्रेशन ज्यादा देते हैं या हंसते हैं, तो उस हिस्से में लाइनें बन जाती हैं. रोजाना फेशल एक्सरसाइज आप के चेहरे को झुर्रियों से भर सकती है.

त्वचा से जुडे़ सच

कम वसा, ज्यादा फाइबर और खूब सारा पानी त्वचा को स्वस्थ रखने में सब से ज्यादा सहायक होता है.

अगर आप की त्वचा धोने के बाद रूखी हो जाती है, तो पीएच संतुलन वाले साबुन या क्लींजर का इस्तेमाल करें. रूखी त्वचा के लिए अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, जो त्वचा को नमी देने के साथसाथ उसे कोमल बनाता है. नियमित रूप से एएचए बेस्ड प्रोडक्ट इस्तेमाल करने से भी अच्छा परिणाम मिल सकता है.

नौन कामेडोजेनिक स्किन क्रीम का इसतेमाल करें. यह त्वचा के पोर्स को बंद नहीं करती, जैसा कि दूसरी क्रीमें करती हैं.

धूप से न केवल चेहरे की त्वचा बल्कि आप के होंठों की त्वचा भी जल सकती है, इसलिए होंठों पर भी सन प्रोटेक्टिव लिपबाम इस्तेमाल करें.

काम की बातें

अपनी त्वचा को जरूरत से ज्यादा न छुएं. त्वचा को बारबार छूने से चेहरे पर बैक्टीरिया से संक्रमण हो सकता है, जिस से त्वचा पर अधिक दाने हो सकते हैं या वह फट सकती है.

मुंहासों को दबाने से त्वचा खुरच जाती है, जो बाद में भद्दे निशानों के रूप में दिखाई देती है. इसलिए इस आदत को भी दूर करें.

टीनएज लड़कियों को ज्यादा मेकअप अवाइड करना चाहिए. ज्यादा मेकअप त्वचा के पोर्स को बंद कर देता है.

लड़कों को खेलकूद या ज्यादा मेहनत या पोल्यूशन वाले काम के बाद अपनी त्वचा को साफ करना चाहिए, ताकि त्वचा के पोर्स खुले रहें, जिस से उन में जमा पसीना, तेल या डस्ट साफ हो सके.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं