लम्बी, सुराहीदार गर्दन को सुन्दरता का प्रतीक माना जाता है. साथ ही अगर आपको बैकलैस ड्रेस पहननी है तो आपके पीठ का साफ होना और सुन्दर दिखना भी बेहद जरूरी है. गर्दन की त्वचा की मेटाबोलिक प्रक्रिया तथा रक्त-संचालन धीमी गति से होती है, इसलिए वहां की त्वचा जल्दी रूखी, खुरदरी व बदरंग होकर बेरौनक हो जाती है.

अगर आप गर्दन और पीठ के प्रति सजगता नहीं बरतती है तो चेहरे व इनके रंग में अंतर आ जाता है, इतना ही नहीं उम्र के बढ़ने के साथ ही साथ गर्दन पर लकीरे झलकने लगती हैं. जो देखने में काफी भद्दी लगती हैं. आपकी  खूबसूरती को ये लकीरें खत्म न करें, इसके लिए जरूरी है कि हम समय समय पर इसका खास खयाल रखें और गर्दन और पीठ की सुन्दरता को बनाये रखने के लिए उपयोगी टिप्स अपनाएं.

यहां हम आपको गर्दन और पीठ की खूबसूरती बनाये रखने के लिए कुछ आसान से टिप्स बताएगें.

गर्दन की झुर्रियों से कैसे बचें

झुर्रियों से बचने के लिए नियमित रूप से गर्दन की मालिश कोल्डक्रीम में थोड़ा-सा गुलाबजल मिलाकर या औलिव औयल से करे. मालिश हमेशा नीचे से ऊपर की ओर करें.

गर्दन और पीठ का सांवलापन दूर करने के उपाय

अधिकतर महिलाओं की गर्दन और पीठ का रंग चेहरे की अपेक्षा सांवला होता है. इसलिए जरूरी है कि चेहरे के साथ गर्दन और पीठ का भी फेशियल किया जाए.

नियमित रूप से सुबह-शाम कच्चे दूध या क्लीजिंग क्रीम से गर्दन और पीठ की त्वचा की सफाई करें.

इसके अतिरिक्त पके पपीते का गूदा या टमाटर का गूदा रगड़ने से भी त्वचा की रंगत में निखार आता है.

नियमित सफाई के लिए स्नान करते समय गर्दन और पीठ को ब्रश से मले, ताकि मृत त्वचा या मैल निकल जाए. नहाने के बाद इसपर बौडी लोशन या मौइश्चराइजर अवश्य लगा लें, ताकि त्वचा मुलायम रहे.

पैक लगायें

गर्दन की झुर्रियों व सांवलापन दूर करने के लिए और पीठ की खूबसूरती बनाएं रखने में पैक बहुत उपयोगी है. इसे हफ्ते में दो बार जरूर प्रयोग करे. पैक बनाने के लिए 1 बड़ा चम्मच मैदा, 1 छोटा चम्मच मिल्क पाउडर, 1 छोटा चम्मच खीरे का रस, 1/2 छोटा चम्मच शहद, आधा छोटा चम्मच नींबू का रस, चुटकी भर हल्दी मिलाकर पेस्ट बनाए और गर्दन पर आगे-पीछे अच्छी तरह से लगा लें. सूख जाने पर धो लें और मौइश्चराइजर लगा लें. इस तरह मृत त्वचा साफ होकर कोमल बन जाएगी.

व्यायाम है बहुत जरूरी

गर्दन की सुडौलता के लिए व्यायाम बहुत जरूरी है. इसके लिए अलग से समय निकालने की जरूरत नहीं है. सुबह, शाम, दोपहर किसी भी फुरसत के क्षणों में, यंहा तक कि रसोईघर में भी आप यह व्यायाम कर सकती है.

कैसे करें व्यायाम

व्यायाम करने के लिए सीधी खड़ी हो जाएं, हाथ कमर पर रखें. गर्दन को जितना हो सके पीछे की ओर ले जाएं, फिर आगे झुकाएं. अब दायी ओर झुकाए, फिर बायी ओर ले जाए. इस क्रिया को प्रतिदिन 10-12 बार करें.

सीधी तरह जमीन पर पालथी लगाकर बैठ जाए और गर्दन को क्लौक वाइज और एंटीक्लौक वाइज 10-15 बार घुमाए. इससे गर्दन के रक्त संचार में वृद्धि होगी और सुडौलपन आएगा.

अगर आपकी गर्दन छोटी और मोटी है, तो पलंग पर पीठ के बल लेटकर गर्दन को नीचे की ओर लटकने दे, फिर लेटे-लेटे सिर को ऊपर उठाए, फिर लटकाए. इस तरह दुहराते रहने से आपकी यह समस्या खत्म हो सकती है.

इसके अतिरिक्त सोते समय तकिया न लगाए. अगर लगाना भी हो तो पतले तकिये का इस्तेमाल करें.

परिधान व आभूषण कैसे हों

लंबी गर्दन पर छोटे गले का वस्त्र पहने. इसपर खुले बाल रखें ये आपकी खूबसूरती पर चारचांद लगाता है. छोटी व मोटी गर्दन पर वी आकार के परिधान पहने, बाल छोटी रखे व आभूषण भी गले से चिपके हुए न हो.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं