गृहशोभा विशेष

सवाल
मेरी 10 वर्षीय बेटी के ऊपरी होंठ पर बहुत बाल हैं. कृपया उन्हें हटाने के उपाय बताएं?

जवाब
हलदी का गाढ़ा पेस्ट बनाएं और उसे ऊपरी होंठ पर लगा कर आधे घंटे के लिए छोड़ दें. जब पेस्ट सूख जाए तो धो लें. ऐसा लगातार 4-5 हफ्तों तक करें. धीरेधीरे बालों की ग्रोथ में कभी आएगी. इस के अतिरिक्त आप नीबू व चीनी को मिला कर ऊपरी होंठ पर लगाएं और 15-20 मिनट लगा रहने दें. सूखने पर धो लें. इसी तरह आटा, दूध व हलदी का पेस्ट बना कर भी ऊपरी होंठ पर लगा सकती हैं. ये सभी उपाय ऊपरी होंठ के बालों की ग्रोथ को कम करने में सहायक होंगे.

ये भी पढ़ें…

अनचाहे बाल हटाएं ऐसे

अनचाहे बाल परेशानी का सबब होते हैं. शरीर पर बेढंगे रूप से दिखने वाले ये बाल कभीकभी शर्मिंदगी का भी अनुभव कराते हैं. जानिए, इन अनचाहे बालों को हटाने का बेहतर तरीका:

आईब्रोज

ट्विज करने के लिए: आईब्रोज की प्लकिंग शुरू करने से पहले उन जगहों पर एक सफेद पैंसिल से निशान लगाएं जहां से आप आईब्रोज को शुरू और खत्म करना चाहती हैं. इस से आप निर्धारित सीमारेखा से बाहर नहीं जाएंगी. इस के लिए एक ट्रिक यह है कि पैंसिल को अपनी नाक की बगल में रखें और वहां से उस जगह तक लाइनें खींचें जहां आईब्रोज है.

पैंसिल को थोड़ा तिरछा रखें ताकि वह आप की आंख के बाहरी कोने को छू सके और उस स्पौट को मार्क करे. आखिर में अपनी आईरिस के ठीक ऊपर एक डौट बनाएं. यह आप की आर्क का सब से ऊपरी बिंदु होगा. पैंसिल को अपनी आईब्रोज के निचले किनारे तक लाएं और तीनों लाइनों को मिलाएं. इस के बाद इन लाइनों के बाहर निकलने वाली भौंहों को ट्विज करें.

वैक्सिंग करने के लिए: सब से पहली और महत्त्वपूर्ण बात यह है कि खुद वैक्सिंग न करें. ब्रोज पर वैक्सिंग किसी कुशल प्रोफैशनल से ही कराएं, क्योंकि अगर वैक्स का छोटा सा टुकड़ा भी गलत जगह पड़ गया तो इस के 5 सैकंड के भीतर आप की ब्रो खराब हो सकती है. इसलिए आप स्पा या सैलून जाएं.

वैक्सिंग कराने के कम से कम 1 सप्ताह पहले से रेटिनौल, रेटिनो ए और रेनोवा जैसे रेटिनौयड्स का इस्तेमाल करना बंद कर दें ताकि लाली और जलन को रोका जा सके. सौंदर्य विशेषज्ञा से कहें कि वे आप की ब्रोज के ऊपर के रोएं साफ करे. इस से जो निखार आएगा वह आने वाले सप्ताह में और भी अच्छा दिखेगा.

ऊपरी होंठ

होंठ के ऊपरी बालों से छुटकारा: इस के लिए लेजर कराएं. लेजर बालों को उन की जड़ों से उखाड़ता है और 1 साल या अधिक समय तक दोबारा बढ़ने से रोकता है. लेजर सैशन बहुत जल्दी यानी 5 मिनट के भीतर पूरा हो जाता है. आप को केवल ऐसा महसूस होगा कि आप के चेहरे पर एक रबड़बैंड लगाया गया है (हालांकि इस से आप अच्छा महसूस नहीं करेंगी, लेकिन आप को कोई दर्द नहीं होगा). लेजर कराना थोड़ा महंगा है. ज्यादातर महिलाओं को 6 सैशन कराने की जरूरत पड़ती है.

कुछ सप्ताह छुटकारा पाने के लिए: इस के लिए वैक्सिंग करा सकती हैं. आईब्रोज के उलट चेहरे के इस हिस्से पर घर में भी वैक्सिंग कर सकती हैं. मगर कम तापमान वाली किट का इस्तेमाल करें, क्योंकि शरीर के अन्य हिस्सों के लिए इस्तेमाल में लाया जाने वाला वैक्स आप के चेहरे को जला सकता है. 3 अलगअलग वर्गों में वैक्सिंग करें (बायीं ओर, दायीं ओर और बीच में). वैक्स को नाक के नीचे से नीचे की तरफ फैलाएं. जब इसे हटाएं तो वैक्स स्ट्रिप को ऊपर की ओर खीचें.

इस के अलावा डिपिलेटरी क्रीम का भी प्रयोग कर सकती हैं. डिपिलेटरी क्रीम त्वचा के नीचे तक प्रभाव डालती है और 1 सप्ताह तक होंठ के ऊपरी हिस्से को बालों से मुक्त रखती है. पहली बार क्रीम को परखने के लिए अपने टखने के पास की त्वचा पर थोड़ी क्रीम लगा कर देख लें कि किसी तरह का रिऐक्शन तो नहीं हो रहा है.

कांख

शेविंग: पूरे हिस्से में शेविंग क्रीम से झाग बना लेने के बाद रेजर को ऊपर की ओर और फिर नीचे की ओर चलाएं. आखिर में एक से दूसरी तरफ रेजर चलाएं ताकि हर तरह की वृद्धि वाले बाल हट जाएं.

वैक्सिंग: छोटेछोटे बालों की समस्या से कुछ अधिक समय तक छुटकारा पाने के लिए यह एक आसान तरीका है. चूंकि इस में किसी शेविंग की जरूरत नहीं होती है, इसलिए इसे घर पर भी किया जा सकता है. लेकिन यह सुनिश्चित करें कि यह बहुत छोटे सैशन में हो. कांख के बाल आमतौर पर मोटे होते हैं और ये अलगअलग दिशाओं में उगते हैं. इसीलिए इन्हें हटाना कष्टकारी होता है.

लेजर: कांख के बालों को हटाने में लेजर से श्रेष्ठ परिणाम मिलते हैं. इस की मदद से बाल बहुत तेजी से गायब होते हैं और लंबे समय तक नहीं आते. अनेक महिलाएं यह भी बताती हैं कि लेजर ट्रीटमैंट बंद करने के बाद भी उन्हें या तो बहुत कम बाल आए या नहीं आए. यह परिणाम पाने के लिए आप को करीब 6 सैशन कराने की जरूरत पड़ेगी. हर सैशन के बाद बाल थोड़े कम घने होते जाएंगे. जब बाल दोबारा न आएं तब भी बीचबीच में लेजर सैशन करा सकती हैं ताकि कांख में बाल पैदा न हों. कुछ महीनों में 1 बार लेजर कराना पर्याप्त होगा.

फोरआर्म

वैक्स: महिलाओं को शेविंग के बजाय हमेशा वैक्सिंग का इस्तेमाल करना चाहिए. शेविंग के कारण बांह पर कांटेदार छोटेछोटे बाल उग सकते हैं. और जब ये बढ़ते हैं तो बहुत खराब लगते हैं.

लेजर: इस के लिए 1 से 3 सैशन कराने की जरूरत होती है. हालांकि यह महंगा है, लेकिन इसे कराने से बेहतर नतीजे आते हैं और पहले ही सैशन से फर्क महसूस होने लगता है.

हेयररिमूविंग क्रीम: हेयररिमूविंग क्रीम अनेक ब्रैंडों में बाजार में उपलब्ध हैं. हर ब्रैंड की क्रीम अलगअलग तरह की त्वचा के लिए है. अपनी त्वचा के वास्तविक प्रकार को जाने बगैर हेयररिमूविंग क्रीम का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, क्योंकि इस से जलन, रैशेज यहां तक कि त्वचा में कालापन भी पैदा हो सकता है. 4 मुख्य प्रकार की त्वचा को चिकनाई प्रदान करने के लिए इस्तेमाल होने वाली हेयररिमूविंग क्रीम में विभिन्न सामग्री होती है:

तैलीय त्वचा के लिए: अगर आप की त्वचा तैलीय है और आप हेयररिमूवल के लिए क्रीम की तलाश कर रही हैं तो आप मिंट आधारित क्रीम का चुनाव करें, क्योंकि इस से अतिरिक्त तेल को कम करने में मदद मिलती है और यह हेयररिमूवल के दौरान तथा बाद में कूलैंट का काम करती है.

संवेदनशील त्वचा के लिए: संवेदनशील त्वचा के लिए ऐलोवेरा सर्वश्रेष्ठ है, क्योंकि यह आप की त्वचा को कोमल बनाए रखता है और वैक्सिंग से उत्पन्न रैशेज को दूर करता है.

सूखी त्वचा के लिए: सूखी त्वचा के लिए गुलाब आधारित हेयररिमूवल क्रीम को श्रेष्ठ माना जाता है, क्योंकि गुलाब का सार आप की त्वचा को नम रखता है और उस में चमक बनी रहती है.

सामान्य त्वचा के लिए: ऐलोवेरा त्वचा को साफ करता है और हेयररिमूवल के बाद रह गई अशुद्धियों को दूर करता है. यह छिद्रों को भी बंद करता है, जिस से आप की त्वचा में ताजगी आती है और त्वचा कसी हुई दिखती है.

पैर

शेविंग: 70% महिलाएं रेजर का ही इस्तेमाल करती हैं. यह कुछ कारणों से अच्छा है. जैसे शेविंग में कम समय लगता है, इस के तुरंत परिणाम मिलते हैं, यह सस्ता है और पैरों के मामले में प्रभावी है. मगर आप शेविंगक्रीम का इस्तेमाल करना न भूलें, क्योंकि इसे जिस क्षेत्र में लगाएंगी वह मुलायम बनेगा और 1-1 बाल को निकाला जा सकेगा. आप को वीनस या जिलेट जैसे मल्टीब्लेडर रेजर का इस्तेमाल करना चाहिए और हर 5 शेव के बाद नया रेजर लेना चाहिए ताकि जलन न हो और पैर मुलायम व चिकने हों.

वैक्सिंग: इस में दर्द का स्तर अधिक हो सकता है. लेकिन वैक्सिंग के परिणाम कई सप्ताह तक रह सकते हैं. गरमी के मौसम में हर शेव के बाद छोटेछोटे बाल आना शुरू हो जाते हैं. ऐसे में वैक्सिंग की मदद से इन बालों से आप को लंबे समय तक नजात मिलेगी. अन्य क्षेत्रों की तरह ही जिस दिशा में बाल बढ़ते हैं उसी दिशा में वैक्स लगाएं तथा उस के उलटी दिशा में स्ट्रिप को खींचे. छोटेछोटे क्षेत्रों में वैक्सिंग करें. अधिक से अधिक 3 इंच लंबे क्षेत्र में. इस से आप को दर्द कम होगा.

डिपिलेटरी क्रीम का प्रयोग करें: हालांकि इस का इस्तेमाल शरीर के किसी भी हिस्से के लिए किया जा सकता है, लेकिन यह कम घने बालों के लिए अधिक प्रभावी है. यह बिकनी लाइन की तुलना में पैरों को बालों से अधिक मुक्त बनाती है. आप को कई तरह की क्रीमों का प्रयोग करना पड़ता है. ऐसे में उपचार काफी घालमेल वाला हो जाता है. इसलिए बेहतर यह है कि इसे शौवर लेने के तुरंत पहले लगाएं और फिर कुनकुने पानी का शौवर लेने के दौरान वाशक्लौथ की मदद से इसे हटा दें.

बिकनी क्षेत्र

हालांकि कुछ हद तक सफलता प्राप्त करने के लिए इस क्षेत्र पर किसी भी हेयररिमूवल का इस्तेमाल कर सकती हैं, लेकिन वैक्सिंग इस के लिए सब से अच्छी है और यह त्वचा को सब से अधिक रोएंरहित बनाती है. बढ़ने वाले बालों की मात्रा को कम करने के लिए लेजर हेयररिमूवल सब से अच्छा उपाय है. लेकिन हम ने यह कभी नहीं पाया है कि इसे लगाने से वैक्सिंग को पूरी तरह से रोक देने की जरूरत होती है. चाहे आप किसी विशेषज्ञा के हाथों वैक्सिंग कराना चाहती हों या घर में ही करती हों, पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आप के बाल काफी लंबे हों. बालों के मुलायम होने पर उन का एकचौथाई इंच लंबा होना चाहिए और मोटे होने पर आधा इंच लंबा होना चाहिए. अन्यथा वैक्सिंग ठीक से काम नहीं करेगी.

अपने पैरों को सामने रख कर दर्पण के सामने बैठ जाएं. उस के बाद एक पैर को मोड़ लें ताकि आप का पैर दूसरे पैर के घुटने पर आराम की मुद्रा में हो. अब किनारे से वैक्स को फैलाना शुरू करें और 1 से 3 इंच क्षेत्र में बालों की वृद्धि की दिशा में वैक्स को फैलाएं. छोटे क्षेत्र में इसे करने पर कम दर्द होगा.

उस क्षेत्र पर मुस्लिन स्ट्रिप को चिपकाएं, त्वचा को टाइट करें, उस के बाद बालों की वृद्धि की विपरीत दिशा में स्ट्रिप को झटके से खींचें. वैक्सिंग के बाद त्वचा पर ऐलो लोशन लगाएं. इस से त्वचा को आराम मिलेगा.

पीठ

यदि आप की पीठ पर कम बाल हैं, तो आप के लिए ब्लीचिंग बेहतर रहेगी. लेकिन ब्लीचिंग सिर्फ मुलायम बालों और बालों की कम वृद्धि के लिए कारगर है. यदि आप के बालों की अधिक वृद्धि होती है, तो आप वैक्सिंग या लेजर के विकल्प को अपनाएं. ऐसी प्रक्रिया के लिए किसी प्रोफैशनल के पास जाना बेहतर है, क्योंकि कुछ क्षेत्र ऐसे भी होते हैं जिन तक आप के हाथ नहीं पहुंच सकते हैं. लेजर से बालों को हटाने के लिए आप को 5-6 सैशन की आवश्यकता होगी.

रैंडम हेयर

आप की ठोड़ी, पोर, पैरों की उंगलियों या किसी भी अन्य असुविधाजनक क्षेत्र पर बाल के लिए, ट्विजिंग सब से आसान विकल्प है. लेकिन उन बालों को हमेशा के लिए खत्म करने के लिए इलैक्ट्रोलिसिस ही बालों को हटाने की स्थायी विधि है. यदि वे बारबार आ जाते हैं तो आप थ्रैडिंग का विकल्प चुन सकती हैं, क्योंकि इस से आप को अधिकतम 2 सप्ताह के लिए इन से नजात मिल सकती है.

– आशमीन मुंजाल, सौदर्य विशेषज्ञा

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं