गृहशोभा विशेष

संजय लीला भंसाली ने जब फिल्म ‘‘पद्मावत’’ की शुरूआत की थी, तब से इस फिल्म को लेकर विवाद ही विवाद उठते आए हैं. विवादों के ही चलते फिल्म एक दिसंबर को प्रदर्शित नहीं हो पायी. अब जब यह फिल्म 25 जनवरी को प्रदर्शित होने वाली है, तो भी विवाद थमे नहीं है. बिना फिल्म देखें फिल्म में रानी पद्मावती को गलत ढंग से चित्रित करने का आरोप लगा रही राजपूत करणी सेना का विरोध उग्र होता जा रहा है. जबकि फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली और इस फिल्म से जुड़े कलाकर लगातार ऐलान कर रहे हैं कि फिल्म में राजपूतों की वीरता को ही चित्रित किया गया है. पद्मावती को महान बताया गया है.

फिल्मकार का दावा है कि उन्होंने इतिहास के साथ छेड़छाड़ नहीं की. इसके अलावा वह यह भी कह रहे हैं कि उनकी फिल्म सूफी कवि मलिक मोहम्मद जायसी की किताब पर आधारित है, जो कि काल्पनिक रचना है.

फिर भी बिगड़े हुए हालातो के मद्दे नजर आज यानी कि 22 जनवरी की सुबह सुबह राजस्थान और माध्यप्रदेश की सरकारें सुप्रीम कोर्ट पहुंच गयी हैं. यह सरकारें चाहती हैं कि उनके राज्य में फिल्म ‘पद्मावत’ पर बैन लगा रहे. सुप्रीम कोर्ट राज्य सरकारों की इस याचिका पर कल 23 जनवरी को सुनावाई करेगा. उधर खबरें यह भी हैं कि जिस तरह से राजस्थान में करणी सेना का विरोध हिंसात्मक होता जा रहा है, उसे देखते हुए ‘पद्मावत’ की निर्माण कंपनी ‘वायकाम 18’ ने अपनी फिल्म को राजस्थान में प्रदर्शित न करने का मन बना लिया है. वैसे भी अब तक इस फिल्म को राजस्थान में वितरक नहीं मिले हैं. सभी डरे हुए हैं.

bollywood

मगर इन विवादों के बावजूद आम दर्शक ‘‘पद्मावत’’ देखने को उत्सुक हैं. जानकारों की माने तो ‘पद्मावत’ बाक्स आफिस पर सफलता के नए रिकार्ड बना सकती है. फिल्म के निर्माताओं ने 24 जनवरी को फिल्म ‘पद्मावत’ का पेड प्रीव्यू रखा है. जिसे थ्री डी और थ्रीडी आईमैक्स में दिखाया जाएगा. सीमित सीटों के लिए एक बड़ी रकम ली जा रही है. इसकी टिकटें लोग औनलाइन खरीद रहे हैं. अनुमान है कि सभी टिकटें 23 जनवरी तक बिक जाएंगी. 25 जनवरी से यह फिल्म ‘‘टू डी’’ में भी प्रदर्शित होगी.

फिल्म ‘‘पद्मावत’’ के बौक्स औफिस पर सफलता के रिकार्ड बनाने की कई वजहें नजर आ रही हैं. पहली वजह निर्देशक संजय लीला भंसाली है, जिनकी फिल्में बहुत बड़े कैनवास व भव्यता से युक्त होती हैं. दूसरी वजह फिल्म में दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह व शाहिद कपूर जैसे बड़े कलाकार हैं, जिनके अपने प्रशंसक हैं. तीसरी वजह यह है कि पिछले कुछ समय से फिल्म को लेकर जिस तरह से विवाद उठे हुए हैं, उससे दर्शकों में फिल्म को लेकर उत्सुकता काफी बढ़ चुकी है. चौथी वजह यह है कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर फिल्म 25 जनवरी को प्रदर्शित होनी है. जबकि 26 जनवरी से 28 जनवरी तक छुट्टियां हैं. इसका फायदा भी ‘पद्मावत’ को मिल सकता है. मगर यह सब कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि ‘करणी सेना’ के विरोध के चलते ‘पद्मावत’ का प्रदर्शन कितनी सहजता से हो पाता है और दर्शक खुद को सुरक्षित महसूस कर सिनेमाघर पहुंचता है या नहीं.

औरतों का जोहर की धमकी

कल चित्तौड़ में ‘‘जोहर क्षत्राणी मंच’’,‘‘श्री राजपूत करणी सेना’’ व ‘‘जोहर स्मृति सस्थान’’के बैनर तहत दो सौ से अधिक औरतों ने हाथ में तलवार लेकर ‘स्वाभिमन रैली’ का नाम लेकर जुलूस निकालते हुए ‘पद्मावत’ के प्रदर्शित होने पर जोहर करने की धमकी दी. तथा फिल्म को बैन करने की मांग की. इतना ही नहीं करणी सेना ने 25 जनवरी को भारत बंद का आव्हान भी किया है.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं