धारावाहिक ‘जमाई राजा’ से चर्चित हुए टीवी अभिनेता रवि दूबे दिल्ली के है. उनका शुरूआती दौर काफी संघर्षपूर्ण था, लेकिन अभिनय करना उनका शौक था और इसमें साथ दिया उनके माता-पिता ने. बचपन से उन्हें आस-पास के लोगों को देखना उनके हाव-भाव को पकड़ लेना पसंद था और उसी को लेकर वे  मिमिक्री भी करते थे. जिसे बाद में उन्होंने अभिनय में प्रयोग किया.

धारावाहिक ‘12/24 करोलबाग’ के दौरान वे अपने कोस्टार सरगुन मेहता से मिले प्यार हुआ और फिर शादी. दोनों अपने शादीशुदा जिंदगी से काफी खुश है. रवि, सरगुन को अपना स्मार्ट चौइस मानते है जिसकी वजह से उनकी जिंदगी अच्छी चल रही है. दोनों एक दूसरे के फैसले का स्वागत करते है और कामयाबी को साथ मिलकर मनाते है. रवि इन दिनों स्टार प्लस की रियलिटी शो ‘सबसे स्मार्ट कौन’ के होस्ट है. मिलकर रोचक बात हुई, पेश है अंश.

प्र. इस शो को करने की खास वजह क्या है?

इस शो में बहुत सारे मजे और मस्तियां है. जिसमें आपको अधिक पढ़ा लिखा होना की जरुरत नहीं. केवल आपको उपस्थित बुद्धि ही इसमें काम आएगी. ये हम सभी में होती है, पर समय पर उसका प्रयोग नहीं कर पाते.

प्र. आपके हिसाब से टीवी पर सबसे स्मार्ट कौन है?

मेरी पत्नी सरगुन बड़े पर्दे पर और छोटे पर्दे पर दोनों में काम कर रही है, इतना ही नहीं वह जितनी आसानी से प्रोफेशनल और पारिवारिक निर्णय लेती है, वह कोई नहीं ले सकता और वही सबसे अधिक समार्ट वुमन है.

bollywood

प्र. स्मार्टनेस किसे कहा जायेगा?

मेरे हिसाब से अगर किसी ने अपने जीवन में जो भी फैसला लिया और वह ठीक चल रहा है, तो उसकी चौइस समार्ट कही जाएगी, लेकिन अगर ऐसा नहीं हुआ हो, तो आप अपने फैसले बदलने का साहस भी रखते है. असल में हर किसी के पास छिपी हुई ये प्रतिभा होती है, कोई इसका प्रयोग तुरंत कर सकता है कोई नहीं, लेकिन स्मार्ट हर कोई होता है.

प्र. आपने अभिनय किया और अब एंकरिंग, कितना अंतर महसूस करते है?

कोई भी काम मुश्किल नहीं होता अगर आपको पता है कि आप क्या करने जा रहे है तो उसी हिसाब से आप अपने आपको ढाल लेते है. सभी में उत्साह होती है. जब अलग करने का मौका मिलता है तो आपको उसे करने में मजा आता है.

प्र. आप अपनी जर्नी को कैसे देखते है?

मैं अपनी जर्नी से बहुत खुश हूं कभी जो फैसला मुझे लगा था कि मैंने गलत लिया, वह भी बाद में जाकर ठीक निकला. जब मैंने इंजीनियरिंग का एक साल पास नहीं कर पाया, तो मेरे लिए वह खराब बात थी, लेकिन उसकी वजह से आज मैं यहां आया और अपने सपने को पूरा कर पाया.

प्र. आपकी स्ट्रोंग और वीक पौइंट क्या है,जिसकी वजह से आप कामयाब हुए?

मैं अपने लिए जो भी फैसला लेता हूं, उस पर कामयाब रहता हूं. सालों पहले मैंने सरवाईवल के बारें में सोचना छोड़ दिया था, इससे मेरे इरादे मजबूत हुए. कमजोर पौइंट ये है कि मैं बहुत आलसी हूं.

प्र. सरगुन के आने से आपकी लाइफ कितनी बदली है?

वह मेरे जीवन की सबसे अच्छी चौइस है. सब कुछ बदल गया है और मैं खुश हूं.

प्र. किसी से कोई प्रतियोगिता है?

ये एक इतनी बड़ी इंडस्ट्री है कि हर दिन कुछ न कुछ होता रहता है. ऐसे में अगर मैं प्रतियोगिता के बारें में सोचू तो कुछ अच्छा नहीं कर सकता. आपको दस प्रोजेक्ट न मिले, लेकिन जो मिले वह अच्छा मिले और मैं उसी को देखता हूं. मेरी प्रतियोगिता मुझसे है कि मैं हर दिन कुछ नया करूं.

प्र. आपको यहां तक पहुंचने में परिवार का सहयोग कितना रहा?

मैं तो इंजीनियरिंग का छात्र था, माता-पिता चाहते थे कि मैं कुछ अच्छा करूं, लेकिन मेरे पिता का सपना था कि मैं एक्टर बनूं. मैं बना और खुश हूं कि उनके सपने को पूरा कर पाया.

प्र. आगे क्या कर रहे है?

मेरी एक फिल्म ‘3 देव’ आने वाली है,जिसमें अन्धविश्वास पर व्यंग्य है.

प्र. न्यू कमर को क्या संदेश देना चाहते है?

जो सोचे उसपर कायम रहे और सोच समझकर फैसला लें.

Tags: