गृहशोभा विशेष

20 जुलाई को सिनेमाघरों में पहुंच रही फिल्म ‘‘धड़क’’ से सेल्यूलाइड के परदे पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने जा रही अभिनेत्री जान्हवी कपूर फिलहाल अपने बारे में ज्यादा बात नहीं करना चाहतीं. वह चाहती हैं कि लोग उनका काम देखकर उनकी चर्चा करें. लोकप्रिय मराठी फिल्म ‘‘सैराट’’ पर आधारित फिल्म ‘‘धड़क’’ में सच्चे प्यार और ‘औनर किलिंग’के साथ ही परिवार की बात की गयी है.

तो उसी तरह निजी जीवन में जान्हवी कपूर के लिए अपना परिवार बहुत मायने रखता है. उन्हें उनके परिवार के हर सदस्य ने ऐसी बहुमूल्य सीख दी है, जो कि उनकी जिंदगी व करियर के हर मोड़ पर बहुत मददगार साबित होगी.

परिवार के सदस्यों द्वारा दी गयी सीख की चर्चा चलने पर जान्हवी कपूर ने कहा- ‘‘आज की तारीख में मेरी पहली फिल्म के प्रदर्शन के वक्त मेरी मम्मी श्री देवी जी नही हैं. मगर उनकी सीख हमेशा मुझे आगे बढ़ने में मदद करेगी. मेरी मम्मी ने मुझे सिखाया था कि हमें अपने काम को पूरी जिम्मेदारी व डिग्निटी के साथ करना चाहिए. उन्होंने कहा था कि अपना आत्मविश्वास बनाकर रखना चाहिए.

पापा से सीख मिली कि, ‘जो भी काम करो, जी जान लगाकर करो’. दूसरों से प्यार से पेश आना भी उन्होने ही सिखाया. मेरे पापा कहते हैं कि, ‘जब आप खुद दूसरों को इज्जत दोगे, तभी आप दूसरो से इज्जत व मान सम्मान पाओगे’. अर्जुन भईया से सीख मिली कि, ‘यदि अभिनय से प्यार है, तो अभिनय करते रहो. बाकी किसी चीज पर ध्यान मत दो. उन्होंने मुझे बताया कि अपने काम के प्रति ईमानदारी बहुत जरूरी है.

मेरे परिवार में सबसे ज्यादा अक्लमंद, ईमानदार व होशियार अर्चना दीदी ही हैं. उनसे मैंने बहुत कुछ सीखा. वह कभी झूठ नहीं बोलतीं. हर सिच्युएशन को संभालने में वह माहिर हैं. खुशी तो एकदम बिंदास लड़की है. उससे मैंने बिंदासपना सीखा.’’

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं