कोरियोग्राफी से अपने कैरियर की शुरुआत करने वाली डांसर, मौडल और अभिनेत्री डेजी शाह मुंबई की है. शुरू में उन्होंने एक तमिल फिल्म में छोटी सी भूमिका निभाई थी. इसके बाद उसे फिल्म ‘जय हो’ मिली, जिसमें उसने अभिनेता सलमान खान के साथ मुख्य भूमिका निभाई. फिल्म में उनके काम को सराहना मिली और उन्होंने ‘हेट स्टोरी 3’ में भी काम किया. डेजी अपने काम पर सौ प्रतिशत कमिटमेंट देती है और जो भी फिल्म उन्हें मिलती है उसी में कुछ अच्छा करने की इच्छा रखती हैं, यही वजह है कि डेजी को ‘रेस 3’ में भी एक अहम् किरदार निभाने का मौका मिला. स्वभाव से हंसमुख डेजी से बातचीत हुई,पेश है अंश.

प्र. इस तरह की फिल्मों में इतने चरित्र के साथ काम करने में कितना प्रेशर रहता है?

प्रेशर नहीं होता,क्योंकि हर किसी का अपना ट्रैक होता है. उसी में अभिनय करना होता है और सब मिलकर ही फिल्म को अच्छा बनाते है. मेरे चरित्र में शारीरिक रूप से फिट रहना बहुत जरुरी रहा है, इसलिए किक बौक्सिंग, मार्शल आर्ट आदि सिखने पड़े, ट्रेनिंग बहुत हुई है.

प्र.फिल्मों में आना इत्तफाक था या बचपन से ही शौक रखती थी?

ये इत्तफाक था, मैंने कभी सोचा नहीं था कि मैं फिल्म इंडस्ट्री में आउंगी. मेरे परिवार का कोई भी फिल्म इंडस्ट्री से नहीं है. डांसिंग एक पौकेट मनी के लिए शुरू किया था और कब ये प्रोफेशन बन गया पता ही नहीं चला. इतने साल मैंने इंडस्ट्री में निकाल लिए है और अब यही मेरी डेस्टिनी है.

प्र.परिवार का कितना सहयोग था?

मैं एक पारंपरिक गुजराती परिवार से हूं, जहां लड़कियों को एक उम्र में शादी करा दी जाती है. शुरू में माता-पिता को समझाना मुश्किल था, लेकिन बाद में वे मान गए. उन्होंने फिर खुद ही सहयोग दिया, क्योंकि उन्होंने समझा कि कैरियर के हिसाब से मुझे यही अच्छा लग रहा है.

bollywood

प्र.पहले आप लीड डांसर के पीछे डांस करती थी अब आगे कर रही है इसे कैसे देखती है?

मेरे हिसाब से डांस के लिहाज से ये केवल 4 स्टेप का अंतर है,लेकिन स्टेटस वाइज एक पुल की तरह है. मैंने कभी सोचा नहीं था कि मैं अभिनेत्री बनूंगी. हा इतना जरुर है कि जो भी काम मेरे दरवाजे पर आया, उसे मैंने खुले दिल से स्वागत किया और एक चुनौती के रूप में लिया. मेरी डेस्टिनी यही है.

प्र. अब तक के सफर में आपने कितना ग्रो किया है?

मुझे याद आता है कि मेरे पिता के पास एक गाड़ी थी और वे उससे आस-पास के किसी परिवार को कही ले जाया और आया करते थे. इस तरह वे एक ड्राईवर ही थे. आज मैं एक एक्ट्रेस बनी और काफी लोग मुझे जानते है, ऐसे में मुझे लगता है, अगर एक ड्राईवर की बेटी यहाँ तक अकेले पहुंच सकती है, तो किसी की भी बेटी कुछ भी बन सकती है. हां इतना जरुर है कि इसके लिए मेहनत और साहस की बहुत जरुरत पड़ती है.

प्र.कुछ खास ड्रीम है?

अभी तो मैंने शुरुआत की है और लगता है कि बहुत आगे जाना बाकी है. जो भी अलग भूमिका होगी उसे करने के लिए मैं हमेशा तैयार हूं.

प्र.आपकी वीकनेस और स्ट्रोंग पौइंट क्या है?

मेरी कमजोरी और स्ट्रोंग पौइंट दोनों ही इमानदारी है. मैं बहुत मुहफट हूं, जिसे इंडस्ट्री में अच्छा नहीं माना जाता, लेकिन मैं इससे अपने आप को रोक नहीं पाती.

प्र. इससे आपको समस्या नहीं आई?

समस्या आई, कई प्रोजेक्ट मुझे नहीं मिले,लेकिन मैं खुश हूं कि मुझे जो अच्छा लगा, उसमें मैंने काम किया.

प्र.आपको फैशन कितना पसंद करती है?

मुझे फैशन वही पसंद है, जो मुझपर जंचे और आरामदायक हो.

प्र.फिल्मों में अन्तरंग दृश्य करने में कितनी सहज है?

सहज तो कभी भी मैं नहीं हूं,लेकिन अगर कहानी की डिमांड हो तो करना पड़ता है. आज के दर्शक भी रियलिस्टिक फिल्में देखना पसंद करती है.

प्र.कुछ सोशल वर्क करना चाहती है?

मुझे जानवरों से बहुत प्यार है और उनके लिए कुछ करने की इच्छा है.

Tags:
COMMENT