धर्म, समाज और परिवार में व्याप्त टैबू जिसमें खासकर महिलाओं की मासिक धर्म को लेकर निर्देशक आर बाल्की द्वारा बनी फिल्म ‘पैडमैन’ अपने आप में खास है. इस फिल्म में ग्रामीण महिलाओं के पर्सनल हाईजीन और स्वास्थ्य के बारे में की  गयी अवहेलना को पूरी तरह से दर्शाया गया है. इसे अभिनेता अक्षय कुमार ने अपने उम्दा अभिनय से और अधिक बेहतर बनाया है और यह सिद्ध कर दिया है कि किसी भी समस्या को अगर फिल्मों के जरिये मनोरंजक रूप से दिखाया जाये, तो वह समाज पर अधिक प्रभाव डालती है.

VIDEO : सर्दी के मौसम में ऐसे बनाएं जायकेदार पनीर तवा मसाला…नीचे देखिए ये वीडियो

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

हालांकि ये एक सत्य घटना पर आधारित बायोपिक है, जिसमें एक पति का अपनी पत्नी की हर मुश्किलों को आसान करने की हमेशा चाहत को दिखाया गया है. ऐसी फिल्मों को बौक्स औफिस पर हिट कराना मुश्किल होता है, पर इसमें अभिनय करने वाले सभी कलाकार ने काफी मेहनत की है. जिससे फिल्म रोचक बनी है.

कहानी

गांव के लक्ष्मीकांत चौहान (अक्षय कुमार) की शादी गायत्री (राधिका आप्टे) से होती है. उसके परिवार में उसकी दो छोटी बहनें और बूढ़ी मां है. एक दिन माहवारी के दौरान उसके पत्नी का कपडे के प्रयोग को देखकर वह चौंक जाता है. वह पत्नीके लिए बाज़ार से पैड खरीद कर लाता है, लेकिन उसके मूल्य को देखकर उसे प्रयोग करने से मना कर देती है. ऐसे में वह खुद सस्ता पैड बनाने की सोचता है, लेकिन इस काम में उसे प्रयोग कर उसकी गुणवत्ता को बताने वाला उसे कोई नहीं मिलता. जिससे भी वह इसके प्रयोग से अंजाम जानने की कोशिश करता है, वह महिला उसे भला-बुरा कहती है. यहां तक की उसकी पत्नी भी उसका साथ नहीं देती.

अंत में बहनें ,पत्नी और मां सभी उसका साथ छोड़ देते है, लेकिन लक्ष्मी परिवार और गांव की इस सोच को बदलने की कसम खाता है और जो भी करना पड़े, करने के लिए राज़ी हो जाता है. इस काम में साथ देती है दिल्ली की परी (सोनम कपूर). इस तरह कहानी काफी उतार-चढ़ाव के बाद अंजाम तक पहुंचती है.

फिल्म की कहानी को रोचकता पूर्ण लिखने वाले लेखक और निर्देशक आर बाल्की धन्यवाद के पात्र हैं, जिन्होंने कुछ बेहतरीन संवाद से सबका मन लुभाया है. अंत में अमिताभ बच्चन द्वारा लक्ष्मी को दिया गया पुरस्कार भी फिल्म का आकर्षक भाग था. फिल्म का पहला भाग काफी रुचिकर था, इंटरवल के बाद फिल्म की गति धीमी रही, जो खटक रही थी. बहरहाल फिल्म देखने लायक है. संगीतकार अमित त्रिवेदी का गाना ‘आज से तेरी ……’ गाना फिल्म के अनुरूप है और गुनगुनाने योग्य है. इसे थ्री एंड हाफ स्टार दिया जा सकता है.

Tags: