गृहशोभा विशेष

17 साल की छोटी उम्र से अभिनय के क्षेत्र में कदम रखने वाली शिल्पा शेट्टी कुंद्रा मौडल, अभिनेत्री, पत्नी, मां और अब महिला उद्यमी हैं. उन्होंने करीब 60 फिल्मों में बतौर अभिनेत्री अभिनय किया. इन में तमिल, तेलुगू और कन्नड़ फिल्में भी शामिल हैं. शिल्पा हमेशा कुछ नया और अलग काम करने का शौक रखती हैं. यही वजह है कि अभिनय के साथसाथ व्यवसाय भी जारी रखा. इस की प्रेरणा मिली थी पहले मातापिता से और फिर शादी के बाद पति राज कुंद्रा से. शिल्पा ‘सतयुग गोल्ड’, ‘आइओसिस स्पा ऐंड सैलून’, ‘योगा ऐंड थेरैपी सैंटर्स’ और अब ‘बेस्ट डील टीवी चैनल’ की चेयरपर्सन हैं.

अभिनेत्री नहीं बनना था

शिल्पा मुंबई में ही पलीबढ़ी हुई हैं. सैंट ऐंथोनी कौन्वैंट से स्कूल की पढ़ाई की. फिर जूनियर कालेज के बाद कौमर्स पढ़ने के लिए माटूंगा के पोद्दार कालेज गईं. पढ़ाई में उन की एकदम रुचि नहीं थी. पोद्दार कालेज में भी उन्हें दाखिला स्पोर्ट कोटे से मिला, क्योंकि वे वौलीबौल की राज्य स्तरीय चैंपियन थीं. उन का सपना बिजनैस वूमन बनने का था. अभिनेत्री बनने के बारे में उन्होंने कभी नहीं सोचा था. शिल्पा तब 10वीं कक्षा में पढ़ती थीं जब उन की एक फ्रैंड ने उन के कुछ फोटो खींच कर मौडलिंग ऐजैंसी को भेज दिए. इस तरह उन्हें ऐड मिलने लगे. फिर 2 साल बाद ‘बाजीगर’ फिल्म का औफर मिला. लेकिन लाइफ में इतना बदलाव आएगा, शिल्पा ने ऐसा कभी नहीं सोचा था.

मातापिता और पति का सहयोग

अभिनय और बिजनैस कैरियर में सब से अधिक सहयोग किस ने दिया, इस बारे में शिल्पा कहती हैं, ‘‘अभिनय के वक्त मैं केवल 17 वर्ष की थी. उस समय फिल्म इंडस्ट्री को आदर से नहीं देखा जाता था. मैं पहली शेट्टी लड़की थी जो हीरोइन बनी. 22 साल पहले वह बड़ी बात थी. पिता ने यह शर्त रखी थी कि मैं अपनी पढ़ाई पूरी करूं पर वह मैं नहीं कर पाई. इस की वजह मेरा आउटडोर शैड्यूल था. दूसरी शर्त यह थी कि मैं मम्मी के साथ यात्रा करूं. यह बात मुझे मंजूर थी, क्योंकि मैं उन के बहुत करीब थी. ऐक्टिंग, फैशन, स्टाइल मैं कुछ नहीं जानती थी. उस वक्त मेरे मातापिता ने बहुत सहयोग दिया. ‘‘व्यवसाय करने के लिए समझ और पैसों की जरूरत होती है. पिता व्यवसाय में थे तो उन्होंने नहीं चाहा कि मैं ऐसा रिस्क लूं. पर जब राज मेरी जिंदगी में आए जो खुद भी व्यवसायी हैं, तो उन्होंने बहुत प्रोत्साहन दिया. योगा डीवीडी बनाने की सलाह दी. यहीं से मुझे आगे बढ़ने की प्रेरणा मिली.’’

निजी जिंदगी में शिल्पा बताती हैं कि उन्होंने ऐक्टिंग छोड़ी नहीं है पर वे उसे प्राथमिकता नहीं दे सकतीं. व्यवसाय देखने के साथसाथ उन्हें अपने बेटे वियान राज कुंद्रा की देखभाल भी करनी होती है. बेटा जब स्कूल चला जाता है तब शिल्पा अपना अधिकतर काम निबटाती हैं. शिल्पा खुद को साधारण महिला मानती हैं, जिसे क्वालिटी काम करना पसंद है. वे कहती हैं कि जब तक आप साधारण नहीं होंगे आगे काम करने में सफल नहीं हो सकते. वे बहुत धैर्यवान भी हैं.

ऐसे बनीं उद्यमी

कब और कैसे उद्यमी बनीं, पूछने पर शिल्पा कहती हैं, ‘‘शादी के बाद मैं ने पहली योगा की डीवीडी बनाई. उस के बाद ‘आइओसिस’ शुरू किया, जिसे मेरी बिजनैस पार्टनर किरन बावा और मैं चलाती हूं. अब तक करीब 17 आइओसिस स्पा ऐंड सैलून पूरे देश में हैं. 4 मेरे खुद के हैं और बाकी फ्रैंचाइज हैं. रायपुर, लखनऊ, गोहाटी, मुंबई आदि स्थानों पर हैं. ‘‘फिर राज के साथ मिल कर मैं ने ‘ग्रुप होम बायर्स’ की स्थापना की जो जरूरतमंद लोगों को एकसाथ मिल कर घर खरीदने का प्रावधान देता है. जिस में ब्रोकरेज नहीं होता. फिर ‘सतयुग गोल्ड’ की शुरुआत की ताकि आम आदमी भी सोना खरीद सके. लोग हर दिन 50 रुपए जमा कर साल में कुछ सोना खरीद सकते हैं.

‘‘इस के बाद होम शौपिंग पर ‘एसएसके’ की साडि़यां लौंच कीं. फिर मुझे लगा कि होम शौपिंग में ऐक्टर होने से अच्छा रिस्पौंस मिल सकता है. यहीं से बैस्ट डील टीवी की कल्पना मन में आई. प्रेरणा मेरे पति हैं, जिन्होंने मुझ पर विश्वास जताया कि मैं अपना कुछ कर सकती हूं.’’

चैनल की शुरुआत

शिल्पा आगे बताती हैं कि उन का बैस्ट डील टीवी चैनल सैलिब्रिटी ड्रिवेन बिजनैस वैंचर है. यह 24 घंटे, पूरे सप्ताह चलने वाला होम शौपिंग चैनल है. यहां लाइफस्टाइल, घर, फैशन, हैल्थ और ब्यूटी से संबंधित उत्पाद खरीदे जा सकते हैं. यहां आने वाले सभी सैलिब्रिटी पहले उस उत्पाद की जांच कर फिर उस की गारंटी लेते हैं. यहां कोई भी उत्पाद यों ही चैनल पर नहीं डाला जाता. सामान ले कर एक क्वालिटी लैब में डाला जाता है. सही और गुणवत्तापूर्ण उत्पाद ही यहां बेचे जाते हैं. उत्पाद को किसी सैलिब्रिटी की पसंद के साथ जोड़ा जाता है. जैसे नेहा धूपिया हेयर केयर प्रोडक्ट के बारे में बात करती हैं, तो फराह खान एअर लौक डब्बे को ऐंडोर्स कर रही हैं.

टर्निंग पौइंट

जीवन के टर्निंग पौइंट पर शिल्पा कहती हैं, ‘‘मेरे जीवन के कई टर्निंग पौइंट्स हैं जैसेकि ‘बाजीगर’ फिल्म का हिट होना, मेरा बिग ब्रदर टीवी रिऐलिटी शो का

विनर बनना, मां बनना. ये सब मुझ में बदलाव लाए.’’

शिल्पा के अनुसार किसी भी महिला का किसी भी क्षेत्र में सफलता के लिए धैर्य का होना बहुत जरूरी है. वह व्यक्तिगत जीवन से खुश रहे, अहंकार न करे. अपनी योग्यता को समझे.

गृहशोभा के जरीए ग्रोइंग वूमन को वे संदेश देना चाहती हैं, ‘‘आप वह करें, जिस में खुशी मिले. ईगो न करें. विवाहित हैं तो विवाह को बनाए रखें. हिंसा कभी सहन न करें. आत्मनिर्भर बनें.’’

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं