‘अकीरा’ खत्म होते होते दिमाग में पहला सवाल उठता है कि क्या इस फिल्म के निर्देशक ए मुरूगादास ही हैं, जो हिंदी में ‘गजनी’ और ‘होलीडे: ए सोल्जर नेवर आफ ड्यूटी’ जैसी फिल्में निर्देशित कर चुके हैं? कहानी, निर्देशन, अभिनय व संगीत को लेकर भी यह फिल्म निराश ही करती है.

फिल्म पूरी तरह से मुंबईया मसालों से भरपूर है. नयापन कुछ भी नहीं है. फिल्म की हीरो सोनाक्षी सिन्हा हैं, मगर उनमें हीरो जैसा अदम्य जोश या साहस कहीं नजर नही आता है.

फिल्म की कहानी के केंद्र जोधपुर में बसे अपने पूरे परिवार के साथ रहने वाली अकीरा शर्मा (सोनाक्षी सिन्हा) है, जिसके माता पिता ने उसे बचपन में ही आत्मरक्षा के लिए जूडो कराटे व बॉक्सिंग की ट्रेनिंग दिलायी है. पर कम उम्र में ही एक साथ चार पांच लड़कों की पिटाई कर देने की आदत के चलते अकीरा पर तेजाब फेंकने आए युवक पर ही तेजाब गिर जाता है. पर अदालत अकीरा को दोषी मानकर बाल सुधार गृह में भेज देती है.

सुधार गृह से निकलने के बाद अकीरा पढ़ाई करना चाहती है, पर उसके माता पिता की मौत हो जाने के कारण उसे मुंबई अपने भाई के पास जाना पड़ता है. अकीरा का भाई मुंबई के एक कालेज में अकीरा का एडमिशन करवा देता है.

यहां मुंबई में ए सी पी गोविंद राणे (अनुराग कश्यप) की एक विवादास्पद सीडी लीक हो जाती है और हालात ऐसे बन जाते हैं कि इसमें अकीरा फंस जाती है. अब पुलिस उसका एनकाउंटर करना चाहती है. अकीरा एनकाउंटर से बच जाती है, पर उसे पागल घोषित कर एक मनोचिकित्सक अस्पताल में भर्ती करा दिया जाता है. जहां उसे बिजली के झटके दिए जाते हैं. अब अकीरा को क्रूर पुलिस वालों से निपटना है.

इंटरवल के बाद फिल्म के लेखक, पटकथा लेखक और निर्देशक सभी भूल गए हैं कि वह फिल्म को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं. बेचारा दर्शक सोचता है कि फिल्म कब खत्म होगी? लेखक ने फिल्म के अंदर पात्र काफी जोड़ दिए, पर इन पात्रों को कहानी के साथ ठीक से नहीं जोड़ पाया. फिल्म के संवाद भी घटिया हैं. फिल्म का क्लायमेक्स तो बहुत घटिया है. फिल्म का गीत संगीत भी आकर्षित नहीं करता.

जहां तक फिल्म में अभिनय का सवाल है, तो फिल्म देखते समय दिमाग में बार बार एक ही सवाल गूंज रहा था कि क्या फिल्म ‘लुटेरा’ में पाखी राय चौधरी का किरदार निभाने वाली अदाकारा सोनाक्षी सिन्हा ही अकीरा शर्मा हैं. शायद यह उनके करियर का सबसे घटिया अभिनय है. या यूं कहें कि सोनाक्षी सिन्हा ने इस फिल्म में बेमन से काम किया है, तो शायद ज्यादा सटीक बैठेगा.

यदि सोनाक्षी सिन्हा ने पूरी लगन से यह फिल्म की है तो सवाल उठता है कि क्या अभिनय के स्तर पर वह चुक गयीं? बतौर अभिनेता अनुराग कश्यप भी कुछ खास नहीं कर पाए. फिल्मकार ने कोंकण सेन शर्मा की प्रतिभा को जाया किया है.

फिल्म के अंदर ग्लैमर, रोमांस, हास्य यानी कि दर्शक को आकर्षित करने वाले सारे तत्व गायब हैं. एक्शन की भरमार है. मगर एक्शन दृष्यों में सोनाक्षी सिन्हा सुस्त व दबी हुई नजर आती हैं.

दो घंटे 19 मिनट की अवधि वाली ए आर मुरूगादास द्वारा निर्मित व निर्देशित फिल्म ‘अकीरा’ के संगीतकार विशाल शेखर व कलाकार सोनाक्षी सिन्हा, अनुराग कश्यप, कोंकणा सेन शर्मा, अमित साध,अतुल कुलकर्णी हैं.