गृहशोभा विशेष

अंततः कंगना रनौत और फिल्म ‘‘रानी लक्ष्मी बाई’’ के निर्देशक केतन मेहता की राहें अलग अलग हो गयीं. सर्वविदित है कि कंगना रनौत और केतन मेहता पिछले दो वर्ष से झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की बायोपिक फिल्म ‘‘रानी लक्ष्मी बाई’’ पर काम करते आ रहे हैं.

इस फिल्म के लिए केतन मेहता ने काफी शोध कार्य किया. उधर कंगना ने भी अपनी तरफ से लक्ष्मीबाई पर तमाम किताबें पढ़ डाली. पर ‘रंगून’ की असफलता के बाद कंगना रनौत झांसी की रान लक्ष्मी बाई की बायेापिक फिल्म कर तो रही हैं, मगर उन्होंने सारे समीकरण बदल डाले.

अब कंगना रनौत केतन मेहता के निर्देशन में फिल्म ‘‘रानी लक्ष्मीबाई’’ नहीं करेंगी. संभवतः अब यह फिल्म कभी नहीं बनेगी. पर कंगना ने अपने तीसवें जन्म दिन पर निर्देशक कृष की दक्षिण भारतीय भाषा के अलावा हिंदी में बनने वाली झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की बायोपिक फिल्म ‘‘मणिकर्णिका’’ के साथ खुद को जोड़ते हुए फिल्म के पोस्टर के लिए शूटिंग भी की.

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का शादी से पहले का नाम मणिकर्णिका था. उनके पिता उन्हें मनु कहकर बुलाते थे. इस फिल्म के लेखक विजयेंद्र प्रसाद हैं, जो कि ‘बजरंगी भाईजान’ और ‘बाहुबली’ जैसी सुपरहिट फिल्मों के लेखक हैं. विजयेंद्र प्रसाद मशहूर निर्देशक एस एस राजामौली के पिता भी हैं. इतना ही नहीं सूत्र दावा कर रहे हैं कि फिल्म ‘‘मणिकर्णिका’’ का निर्माण संजय लीला भंसाली करने वाले हैं.

मगर सबसे बड़ा सवाल यही है कि आखिर कंगना ने केतन मेहता को अंगूठा क्यों दिखाया? सूत्र दावा कर रहे हैं कि फिल्म ‘रंगून’ के असफल होने के बाद कंगना ने केतन मेहता के सामने शर्त रखी कि उन्हें फिल्म के लेखन व निर्देशन में भी नाम चाहिए. केतन मेहता कंगना का नाम सह लेखक के रूप में देने को तैयार थे, पर निर्देशन में केतन मेहता को किसी की भी दखलंदाजी बर्दाश्त नहीं थी. इसी के चलते सारा मामला बिगड़ गया.

वास्तव में 2014 में अमरीका के नूयार्क स्कूल से फिल्म पटकथा लेखन का कोर्स करके आने के बाद से ही कंगना बार बार ऐलान करती रही हैं कि वह बहुत जल्द फिल्म पटकथा लेखन व निर्देशन में कदम रखने वाली हैं. सूत्र दावा करते हैं कि फिल्म ‘रंगून’ की पटकथा लेखन में कंगना का योगदान था. कुछ सूत्र दावा करते हैं कि फिल्म ‘रंगून’ के कुछ दृश्य विशाल भारद्वाज की बजाय कंगना ने निर्देशित किए थे. यह एक अलग बात है कि विशाल भारद्वाज ने इस बात से साफ इंकार किया था.

उधर ‘‘रंगून’’ का हश्र देखकर केतन मेहता ने कंगना रनौत को लेखन व निर्देशन में भागीदारी से साफ इंकार कर दिया, तो कंगना ने आनन फानन में कृष के संग हाथ मिला लिया. सूत्र बताते हैं कि संजय लीला भंसाली ने कंगना की फिल्म ‘मणिकर्णिका’ के निर्माण की जिम्मेदारी उठायी है, क्योंकि संजय लीला भंसाली खुद भी शाहरुख खान व कंगना रनौत को लेकर एक फिल्म का निर्देशन करने वाले हैं. वैसे शाहरुख खान कह चुके हैं कि वह कंगना के साथ फिल्म नहीं करेंगे. मगर बॉलीवुड में किस दिन क्या नए समीकरण बन जाए, कोई कह नहीं सकता.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं