सुशांत सिंह राजपूत और कृति सैनन के अभिनय वाली व दिनेश विजन के निर्देशन में बनी फिल्म ‘‘राब्ता’’ 9 जून को प्रदर्शित होगी या नहीं, यह तो अब अदालत के निर्णय पर निर्भर करता है. क्योंकि तेलगू फिल्म ‘‘मगधीरा’’ के निमार्ताओं ने फिल्म ‘‘राब्ता’’ पर अपनी फिल्म की कहानी को चुराने का आरोप लगाते हुए फिल्म ‘‘राब्ता’’ के प्रदर्शन पर रोक लगाने के लिए हैदराबाद हाईकोर्ट में गुहार लगायी है. हैदराबाद हाई कोर्ट ने इस मसले पर सभी पक्षों को नोटिस भेजा है और अब अदालत इस मामले की सुनवाई एक जून को करेगा.

‘‘मगधीरा’’के निर्माताओं के अदालत में गुहार लगाने के साथ ही ‘गृहशोभा’ पत्रिका की वेबसाइट पर  20 अप्रैल 2017 को लिखी गयी हमारी खबर सच साबित हो जाती है. हमने बीस अप्रैल को ही फिल्म ‘‘राब्ता’’ का ट्रेलर देखकर   लिखा था कि यह फिल्म पांच फिल्मों की मुरब्बा पांच फिल्मों का मुरब्बा है फिल्म ‘राब्ता’ ) है, जिसमें से एस एस राजामौली की तेलगू फिल्म ‘‘मगधीरा’’ और राकेश ओमप्रकाश मेहरा की फिल्म ‘‘मिर्जिया’’ से ज्यादातर कहानी चुरायी गयी है. राकेश ओम प्रकाश मेहरा तो चुप हैं. पर ‘‘मगधीरा’’ के निर्माता चुप नहीं बैठे. क्योंकि ‘मगधीरा’ के निर्माताओं ने इसका हिंदी रीमेक बनाने का अधिकार बालीवुड के निर्माता को बेचा है. इसलिए उन्हे अपनी फिल्म की कहानी की रक्षा करने का ख्याल आ गया.

तेलगू फिल्म ‘‘मगधीरा’’ के निर्माताओं ने हैदराबाद हाईकोर्ट में फिल्म ‘‘राब्ता’’ के निर्माताओं पर अपनी फिल्म ‘‘मगधीरा’’ की यूनिक कहानी व प्लाट की चोरी कर कापीराइट उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए अदालत से मांग की है कि फिल्म ‘राब्ता’ के प्रदर्शन पर रोक लगाए. जिस पर कारवाही करते हुए हैदराबाद हाईकोर्ट ने संबंधित पक्षों को नोटिस जारी कर इस मामले की सुनवाई की अगली तारीख एक जून तय की है.

मसला अदालत पहुंचने के बाद फिल्म के निर्माता भूषण कुमार व दिनेश विजन तथा निर्देशक दिनेश विजन चुप हैं. मगर एक अंग्रेजी की वेबसाइट के अनुसार कृति सैनन व सुशांत सिंह राजपूत ‘एक तो चोरी उपर से सीना जोरी’ की राह पर चलते हुए दावा किया है कि फिल्म ‘राब्ता’ की कहानी मौलिक है.

इस मसले पर सुशांत सिंह राजपूत ने कहा है-‘‘यदि आप फिल्म पटकथा लेखन की किताबें पढ़ेंगें, तो पता चलेगा कि सिर्फ आठ अलग अलग तरह की कहानियां हैं. इसलिए आप जो भी कहानी सुनाएंगे, वह इन आठ कहानियों में से एक होगी. अब जो लोग आरोप लगा रहे हैं या जिन्हे हमारी फिल्म से समस्या है या जिन्हे हमारी व उनकी फिल्म की कहानी में समानता नजर आ रही है, वह हमारी फिल्म देखने के बाद पाएंगे कि सच क्या है.’’

जबकि कृति सैनन ने तो दो हाथ आगे बढ़ते हुए कहा-‘‘मैने तो ‘मगधीरा’ देखी है. ‘राब्ता’ की पटकथा पढ़ी है. दोनों फिल्मों में कोई समानता नहीं है. फिल्म के किरदार, कथा कथन शैली सहित जड़ से सब कुछ अलग है.’’

अब कौन कितना सच बोल रहा है, इसका निर्णय तो अदालत ही करेगी. मगर सुशांत सिंह राजपूत व कृति सैनन के साथ ही फिल्म ‘राब्ता’ की मुसीबतें तो बढ़ ही गयी हैं. क्योंकि आरोप लगाने वाले फिल्मकार एस एस राजामौली की फिल्म ‘बाहुबली 2’ की सफलता से वैसे ही सभी कलाकार अंदर से डरे हुए हैं.