रूढिवादियों को तोड़ कर अब सामान्य घरों की महिलायें भी वैलेंटाइन डे का उत्साह मनाने लगी हैं. यह वैलेंटाइन आपस में दोस्तों के साथ मनाती हैं. जहां इनके साथ परिवार के लोग खासकर बच्चे भी शामिल होते हैं. पश्चिम के इस त्योहार ने सभी का दिल जीत लिया है. जिससे साफ पता चलता है कि हमारा समाज खुशियों के हर मौके को अपनाने का कोई अवसर गंवना नहीं चाहता है.

वैलेंटाइन डे केवल एक दिन का उत्साह नहीं रह गया है. पूरे सप्ताह यह कई अलग-अलग दिनों के रूप में पूरे देश में मनाया जाने लगा है. यह केवल टीनएज लड़के लड़कियों के बीच ही उत्साह का कारण नहीं रह गया है. अब हाउस वाइफ और वर्किंग वूमेन भी वैलेंटाइन वीक को अपने दोस्तों के साथ पूरे उत्साह से मनाती हैं. यह एक तरह से थीम पार्टी के रूप में मनाई जाने लगी है.

लखनऊ के होटल लिवाना के ईओएस डिस्क में वैलेंटाइन बैशका आयोजन किया गया. इसमें हिस्सा लेने वाली लेडीज ब्लैक और ब्लू ड्रेस में तैयार हो कर आई थीं. ज्यादातर वेस्टर्न ड्रेस में थीं.

वैलेंटाइन बैशकी आयोजक सलोनी केसरवानी ने कहा वैलेंटाइन बैशके दो मकसद थे. एक तो हमने यह तय किया कि विधानसभा चुनाव में वोट जरूर करेगे. दूसरे वैलेंटाइन डे के अलग अलग दिनों को लेकर लोगों ने गाने गाये. कार्यक्रम में इन अलग-अलग दिनों को लेकर प्रॉप्स लगाये गये थे. इसके पास आकर ही लोगों को गाने और डांस को दिखाना था.

यहां सभी ने कपल ने बेस्ट रैंप वाक, ब्यूटी ब्रेन और सुपर डांस किया. यह कपल आपस में दोस्त ही थें. सेल्फी बूथ कट आउट लगे थे. स्वीटी चावला, सलोनी केसरवानी और स्मिता कोहली ने अलग-अलग लव थीम पर गाने गाये और डांस किये. सब को उपहार में फूल दिये गये.