गृहशोभा विशेष

बौलीवुड में अक्सर सेलेब्स के आत्महत्या करने की खबरें सुनने को मिलती रहती है. पर क्या आपक पता है कि रेखा के पति विनोद अग्रवाल ने आखिर क्यों खुदकुशी कर ली थी. रेखा की लाइफ बेहद हैपनिंग रही है. दोस्ती, प्यार, तकरार, शादी और अकेलापन, उन्होंने ये सभी दौर नजदीक से देखे हैं.

जीतेंद्र और विनोद मेहरा के साथ उनका नाम जुड़ा, फिर अमिताभ बच्चन के साथ अफेयर की बात हुई. लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि रेखा ने शादी भी की थी. रेखा दिल्ली के एक कारोबारी के साथ इस पवित्र बंधन में बंधी थीं. न जाने किसकी उन दोनों को नजर लगी, जो शादी के कुछ दिन बाद पति ने खुदकुशी कर ली थी. यह बात 1990 के आसपास की है जब रेखा की सहेली ने तब उन्हें बताया था कि कोई दिल्ली का कारोबारी उनके बारे में पूछ रहा था, वह उनमें इंट्रेस्टेड है. कहो तो तुम्हारा नंबर दे दूं, यह जानकर रेखा ने शुरुआत में तो इनकार कर दिया. लेकिन कुछ दिनों बाद उन्होंने ही अपनी सहेली से उसका नंबर मांगा.

चूंकि उस वक्त वह टूटेते-बिखरते रिश्तों से तंग आ चुकी थीं, रेखा अब सेटल होना चाहती थीं. शादी करना चाहती थीं, सो उन्होंने मुकेश से बात की और बात दोस्ती से शादी तक पहुंच गई. शुरू में सब ठीक रहा, लेकिन कुछ वक्त गुजारने पर रेखा को मुकेश अजीब लगे. शादी के बाद वे हनीमून मनाने लंदन गए, वहां रेखा को पता लगा कि मुकेश अवसाद के शिकार हैं. एक दिन उन्होंने ढेर सारी दवाइयां खाते देखा. फिर एक दिन उनके पूछने पर मुकेश ने कबूला कि कोई और भी उनकी जिंदगी में है. इस वाकये के बाद रेखा ने उनसे दूरी बना ली. दोनों की शादी ज्यादा दिन चल नहीं पाई. वे दोनों अलग हो गए थे. रिपोर्ट्स के मुताबिक मुकेश यही बात हजम नहीं कर सके और खुदकुशी कर बैठे.

मुकेश खुदकुशी से पहले एक नोट छोड़ गए थे, जिसमें लिखा था, “किसी को इसके लिए दोषी मत ठहराना.” इसके बाद रेखा को कातिल तक बताया गया. यासिर उस्मान की किताब ‘रेखाः द अनटोल्ड स्टोरी’ में इस बाबत सुभाष घई का बयान है. तब उन्होंने कहा था कि “रेखा फिल्म इंडस्ट्री के चेहरे पर एक धब्बा हैं. कोई भी विवेकशील डायरेक्टर उनके साथ दोबारा काम नहीं करना चाहेगा.” वहीं, अनुपम खेर ने उन्हें नेशनल वैंप बताया था.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं