सैल्फी क्वीन नाम कहां से पड़ गया?

10 साल पहले जब स्मार्ट फोन में सैल्फी सुविधा नहीं थी तब मैं अकेले में अपने कैमरे या फोन से कुछ न कुछ शूट करती रहती थी. एक बार मन में आया कि क्यों न कुछ अलग गा कर खुद को शूट करूं. फिर मैं ने अपना गाते हुए वीडियो बनाया और इंटरनैट पर डाल दिया. कुछ ही दिनों में मेरे पास किसी का फोन आया कि तुम्हारा वीडियो वायरल हो गया है. लोग बहुत पसंद कर रहे हैं. इसके बाद मैं ने कुछ और वीडियो बनाए और नाम मीडिया ने दे दिया.

कितने साल का हो गया संगीत का सफर?

मैं 4 साल की उम्र से गा रही हूं. दिल्ली में ही पलीबढ़ी हूं. हम लोग ज्यादा पैसे वाले नहीं थे, इसलिए मैं शौकिया नहीं पैसे कमाने के लिए गाती थी. मेरे पापा और बड़े भाई भी मेरे साथ गाते थे. मैं ने कहीं से संगीत की शिक्षा नहीं ली. जो सीखा पापा से सीखा और स्टेज पर आ गई. स्कूल भी ज्यादा नहीं जा पाती थी, क्योंकि शोज करने होते थे, लेकिन जिस स्कूल में पढ़ती थी उस में पूरा साल धमाल करती रहती थी. मैं ने कई स्कूली कार्यक्रमों में अपनी गायन की प्रतिभा दिखाई है. इसलिए स्कूल न जाने पर भी सभी टीचर्स की चहेती बनी रहती थी.

जिस शो में एक कंटैस्टैंट बन कर आई थीं उसी में जज बनने पर कैसा लग रहा है?

12 साल पहले जब मैं इंडियन आइडियल में एक कंटैस्टैंट के रूप में आई तो मुझे रिजैक्ट कर दिया गया था. उसी दिन मैं ने सोच लिया था कि कुछ तो ऐसा करना है, जिस से नाम हो. फिर जीतोड़ मेहनत की और दूसरे सीजन की विनर बनी. आज मैं उसी शो की जज की कुरसी पर हूं. यह मेरे लिए एक सपने के सच होने के बराबर है और दूसरों के लिए सीख भी कि नाकामयाबी जीवन का अंत नहीं है.

लोग अपनी लव लाइफ छिपाते हैं और आप सब को बताती हैं?

हिमांश और मैं एकदूसरे को 4 साल से जानते हैं. हम बहुत अच्छे दोस्त हैं. जब ‘यारियां’ फिल्म रिलीज हुई थी तभी से हम एकदूसरे के साथ हैं. इस में छिपाने वाली क्या बात है. मैं बताऊंगी नहीं तो लोगों को मालूम नहीं होगा क्या? इसीलिए मैं सरेआम बताती हूं कि हम बहुत अच्छे दोस्त हैं.

दिल्ली आज भी दिल में बसी है

नेहा का पूरा बचपन दिल्ली में ही बीता है. नेहा बताती हैं कि दिल्ली की चाट और मौसम आज भी उन्हें मुंबई में याद आता है, क्योंकि दिल्ली जैसा स्वाद और भाईचारा कहीं नहीं मिल सकता.

फिटनैस का राज

नेहा बताती हैं, ‘‘मैं आज भी 11 बजे से पहले सो कर नहीं उठती हूं, लेकिन एक बात और है. चाहे रात के 4 बजे बिस्तर पर सोऊं 11 बजे उठ जाती हूं. इस के बाद वर्कआउट करती हूं. मैडिटेशन, ऐक्सरसाइज को कभी मिस नहीं करती हूं. खाने पर ध्यान देती हूं. फ्राइड फूड से तोबा कर ली है. खाने में ज्यादा से ज्यादा सलाद और फ्रूट शामिल करती हूं.’’

नया कौंसेप्ट दिया

पहले सिंगर इतने हाईलाइट नहीं होते थे. नेहा ने सिंगिंग और सिंगर को हौट बना दिया है. वे हमेशा फैशनेबल आउटफिट के साथ सोशल मीडिया पर ऐक्टिव रहती हैं.

बहुत इमोशनल हैं नेहा कक्कड़

नेहा कक्कड़ के आंसू बहुत जल्दी आ जाते हैं दर्शकों ने उन्हें रिऐलिटी शो में रोते देखा है. इस पर वे कहती हैं, ‘‘मैं ने बचपन में सुविधाओं और पैसे की कमी को झेला है, इसीलिए जब किसी कंटैस्टैंट की आपबीती सुनती हूं, तो अपने आंसुओं को रोक नहीं पाती हूं.’’

Tags: