गृहशोभा विशेष

टीवी धारावाहिक ‘हम लड़कियां’ से अभिनय कैरियर का आगाज करने वाली प्रीति का नाम किसी परिचय का मुहताज नहीं. स्वभाव से सरल प्रीति अभिनय के हर क्षेत्र को छूना चाहती हैं. उन्हें एक अच्छे कौमेडी रोल की भी तलाश है. पेश हैं, उन से हुई बातचीत के प्रमुख अंश:

अभिनेत्री ही बनना था

मैं ने जब से होश संभाला तब से मेरी अभिनेत्री बनने की ही इच्छा रही. मैं ने यहां आने के लिए संघर्ष किया है. मैं थोड़े पुराने खयालात के परिवार से ताल्लुक रखती हूं, इसलिए उन्हें इस बात पर राजी करना थोड़ा कठिन काम था. लेकिन अब वे ‘दीया और बाती हम’ देखते हैं तो मेरे काम पर गर्व महसूस करते हैं.

फिट रहें खूबसूरत दिखें

मैं सप्ताह में 3 दिन अपने केशों में तेल लगाती हूं. हरी सब्जियां खाती हूं. अपने केशों की देखभाल के लिए मैं नियमित तौर पर स्पा भी जाती हूं. मैं थोड़ी आलसी हूं इसलिए बस पानी पीने का और नियमित तौर पर क्लीनअप के लिए जाने का ध्यान रखती हूं.

यादगार पल

धारावाहिक ‘कैरी’ में फर्स्ट लीड पाना मेरी जिंदगी का खुशनुमा पल था और अब मैं धारावाहिक ‘दीया और बाती हम’ में एकदम अलग तरह की भूमिका निभा रही हूं, जिस से मुझे काफी उम्मीदें हैं. मेरे काम पर मेरे मांबाप को गर्व है और जब मांबाप आप पर गर्व करते हैं तो यह एहसास बहुत खूबसूरत होता है.

स्टाइल मंत्रा

मुझे लगता है कि किसी भी मामले में आप का एटीट्यूड आप को औरों से अलग करता है. आप चाहें किसी भी ट्रैंड या स्टाइल की ड्रैस पहनें, जब तक उसे सही तरह से कैरी नहीं करेंगी वह आप की पर्सनैलिटी को बिलकुल सूट नहीं करेगी.

निजी जिंदगी

मुझे दोस्त बनाना बेहद पसंद है. धारावाहिक ‘महाभारत’ में सुभद्रा की भूमिका निभा रही विभा आनंद मेरी करीबी दोस्त है. मैं फिल्मों की दीवानी हूं. जब भी मुझे वक्त मिलता है मैं फिल्म देखती हूं और मैं एक कमरे में सिर्फ टीवी के साथ बंद रह सकती हूं. यानी मैं लगातार टीवी देख सकती हूं.

मैं खानेपीने की शौकीन हूं और स्ट्रीट फूड में पानीपूरी और दही चाट मेरे फैवरेट हैं. जब भी मुझे तनाव होता है तो मैं संगीत और डांस में मन लगाती हूं. मेरी नजर में इस से अच्छा स्ट्रैस बस्टर कोई नहीं.

मुसकान से पौजिटिव एनर्जी

मैं हमेशा मुसकराती रहती हूं और मेरी कोशिश रहती है कि मेरे आसपास के लोग भी मुसकराते रहें. यह आप की सकारात्मकता को प्रदर्शित करता है और आप जिस से भी मिलते हैं उस पर भी उस का असर होता है. मेरे काम पर मेरे मांबाप को बहुत गर्व होता है. मेरे लिए यह एहसास बहुत खूबसूरत होता है.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं