गृहशोभा विशेष

भारत विविधताओं वाला देश है. यहां अलगअलग अवसरों पर अलगअलग परिधान पहनने का रिवाज है. पुराने समय में पुरुष धोतीकुरता और फेंटा जबकि महिलाएं चोली और साड़ी पहनती थीं. समय के साथ भारतवासियों का नए फैशन के प्रति आकर्षण बढ़ने लगा. वे तेजी से वैस्टर्न फैशन को फौलो करने लगे. मगर उन्होंने अपने पारंपरिक फैशन को नहीं छोड़ा. फिर चाहे बात कपड़ों की हो या फिर गहनों की. इसीलिए तो पश्चिमी पोशाकों के साथ ट्रैडिशनल ज्वैलरी का भी क्रेज बढ़ रहा है. ज्वैलरी डिजाइनर श्रुति संचेती कहती हैं कि आजकल स्टेटमैंट ज्वैलरी का चलन है. इस का मतलब यह है कि अगर आप के पास परंपरागत आभूषण हैं जो आप को आप की दादी या नानी ने दिए हैं और उन का लुक काफी ऐलिगैंट है, तो उन आभूषणों को वैस्टर्न आउटफिट के साथ पहनने पर किसी भी महिला की खूबसूरती कई गुना बढ़ जाएगी.

आज की व्यस्त दिनचर्या में सोलह शृंगार करने के लिए किसी के पास समय नहीं होता. ऐसे में आप माथापट्टी, नथ, रानीहार, गोखरू, हथफूल आदि कई गहने हैं, जिन्हें कभी भी किसी भी अवसर पर तुरंत पहन कर सुंदर दिख सकती हैं. पोशाक और गहने ऐसे होने चाहिए जो देशविदेश कहीं भी पहने जा सकें. ब्लैक टीशर्ट, जींस के साथ माथापट्टी, गले का हार, हथफूल, गोखरू आदि में से कोई भी एक गहना पहन लेने पर सौंदर्य बढ़ जाता है. हथफूल भी 5 उंगलियों में न पहन कर केवल 1 उंगली में भी पहना जाता है. अगर आप के पास ट्रैडिशनल गहने हों तो फिर क्या कहने, क्योंकि उन जैसी कलाकारी, नक्काशी, आजकल मिलना मुमकिन नहीं. ऐसे गहने पहन कर आप भीड़ में भी अलग दिखेंगी. हैवी गहनों में चोकर नैकलैस साड़ी या सलवारकमीज के साथ सुंदर लगता है. ऐसे ट्रैडिशनल गहने बाजार में भी मिलते हैं, जिन्हें खरीद कर आप पहन सकती हैं.

माथापट्टी: माथापट्टी आजकल चलन में है. सलवारकमीज, साड़ी, गाउन या फिर स्कर्ट के साथ भी आप इसे पहन सकती हैं.बालियां: मोती लगी बालियां वैस्टर्न आउटफिट के साथ ग्लैमरस दिखती हैं.

 ज्वैल्ड हेयर कौंब: हेयरस्टाइल को ग्लैमरस लुक देने में इस तरह के कौंब अधिक उपयोगी होते हैं. वैस्टर्न पोशाक के साथ मैस्सी बन और उस पर यह ज्वैल्ड कौंब ग्लैमर की गारंटी देता है.

नैकलैस या हार: स्कर्ट, जींस, टीशर्ट, प्लाजो पैंट, फ्रौक आदि के साथ लंबी चेन या नैकपीस आप के पहनावे को आकर्षक बनाता है.

इयरकफ: इस तरह के इयरपीस पूरे कानों को ढकते हैं. हालांकि ये बड़े दिखते हैं, लेकिन होते ये हलके हैं और कानों को सुरक्षित रखते हैं. वैस्टर्न आउटफिट के साथ ये ट्रैंडी लुक देते हैं.

नथ: ज्वैलरी डिजाइनर मानते हैं कि नथ का प्रयोग राजामहाराजाओं के जमाने का है. इसे पहनने पर महिला अतिसुंदर दिखती है. गाउन, लौंगस्कर्ट, जींस, टीशर्ट के साथ आज इसे पहन सकती हैं. नथ आप के व्यक्तित्व को निखारती है. मोतीजडि़त नथ वैस्टर्न आउटफिट पर फबने के साथसाथ परंपरा का भी एहसास कराती है.

कुसुमलाई नैकलैस: सिक्कों से बना यह नैकलैस दक्षिण भारत का मशहूर आभूषण है. इसे किसी खास अवसर या त्योहार पर पहना जाता है. किसी भी हैवी गहने के 1-2 पीस ही पहनने चाहिए ताकि ग्लैमरस लुक बना रहे.

गोखरू: गोखरू गोल्डन और सिल्वर दोनों होते हैं. स्कर्ट, फ्रौक के साथ आजकल एक पांव में गोखरू पहनने का काफी रिवाज है. वैस्टर्न आउटफिट के साथ भी इसे पहना जा सकता है.

ड्रैसेज के रंगों के बारे में श्रुति संचेती कहती हैं कि इस साल चटकीले रंगों का चलन है, जिन में नीला, संतरी, गुलाबी, लाल काफी पौपुलर हैं

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं