हर महिला के लिए यह आवश्यक है कि उसे अपने धन के बारे में पूरी जानकारी होने के साथसाथ उस पर पूरा नियंत्रण भी हो. धन और निजी फाइनैंस की बात की जाए तो ये बातें हर महिला को हमेशा याद रखनी चाहिए:

क्या आप के पास अपना बैंक खाता है ?

यदि आप पहले कामकाजी थीं अथवा अभी भी काम कर रही हैं, तो अपने नाम का बैंक खाता होना चाहिए. इस खाते में आप अपनी बचत को सुरक्षित रख सकती हैं और अपने परिवार की आर्थिक मदद कर सकती हैं. इसी तरह यदि आप क्रैडिट कार्ड ले रही हैं तो उसे अपने नाम पर लीजिए. इस से आप का क्रैडिट स्कोर बेहतर होगा और किसी स्थिति में कर्ज लेने के वक्त यह आप के क्रैडिट का तीव्र रिकौर्ड उपलब्ध कराने में सहायता करेगा.

बडे़ निर्णयों में दें योगदान

महिलाओं की प्रवृत्ति होती है कि वे धन एवं निवेश संबंधी सभी मामलों को अपने पार्टनर या परिवार के कंधों पर डाल देती हैं. यदि आप इस कार्य के लिए किसी दूसरे को चुनती हैं तो आप को यह मालूम होना चाहिए कि आप के पैसे के साथ क्या हो रहा है. भरोसा अच्छी बात है, लेकिन जागरूक होना भी आवश्यक है. फिर

चाहे घर खरीदना हो या बीमा पौलिसी लेनी हो, अपने वित्तीय सलाहकार अथवा औडिटर से बात करें. सुनिश्चित करें कि आप इन सभी बैठकों के दौरान अपने पार्टनर के साथ उपस्थित रहेंगी और उन के सामने अपने विचार भी रखेंगी.

अपनी आय व्यय की जानकारी रखें

आप के लिए अपनी आमदनी एवं खर्चों के बारे में जानना बहुत महत्त्वपूर्ण है. अपने खर्च पर लगाम कसने के लिए हर महीने अपने धन पर पूरी नजर रखें. इस से आप को यह जानने में मदद मिलेगी कि आप कितनी बचत कर सकती हैं. अपने खर्चों पर भी पूरी निगरानी रखें खासतौर से तब जब ये आप के औसत मासिक खर्च से काफी ज्यादा हो रहे हों.

बच्चों के लिए जल्द शुरू करें बचत

यदि आप का पार्टनर ऐसा नहीं कर रहा है, तो आप को अपने बच्चे की शिक्षा के लिए बचत करने के बारे में उन से बात करनी चाहिए और इस की जल्द से जल्द शुरुआत करनी चाहिए. इस बचत को नियमित रूप से करना चाहिए. अपने बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए  बचत के बारे में भी विचार करें. जब वह 15-16 साल का हो जाएगा तब बचत आरंभ करने में बहुत देर हो चुकी होगी, तब आप कम बचत कर पाएंगी.

रिटायरमैंट को न भूलें

आप घरेलू खर्च में व्यस्त हैं, लेकिन इस सब के बीच आप को यह नहीं भूलना चाहिए कि एक दिन आप भी आराम करेंगी. इसलिए सुनिश्चित करें कि आप और आप का पार्टनर अपनी सेवानिवृत्ति के लिए पर्याप्त बचत कर रहा है. रिटायरमैंट के लिए आप को कितनी बचत करनी होगी, इस बारे में सलाहकार से परामर्श लें. यह कतई न भूलें कि आप को मुद्रास्फीति का भी सामना करना होगा, इसलिए पर्याप्त बचत करें ताकि आप बिना किसी की मदद के पूरी आजादी के साथ अपने सेवानिवृत्त जीवन में रहनसहन के बढ़ते खर्च को पूरा करने में सक्षम हों.

बचत करना काफी नहीं, निवेश पर भी दें ध्यान

महिलाएं अच्छी बचतकर्त्ता हो सकती हैं और हर महीने का खर्च पूरा करने के बाद भी कुछ न कुछ रुपए बचा सकती हैं. लेकिन आप का धन तब तक नहीं बढ़ेगा जब तक कि आप उसे बेहतरीन कर दक्ष निधि निर्माण विकल्पों में निवेश नहीं करेंगी.

आधुनिक निवेश उत्पादों के बारे में जानें

पारंपरिक बैंक जमा और डाकघर योजनाएं अथवा गोल्ड आप के लिए निवेश के पसंदीदा विकल्प हो सकते हैं पर याद रखें कि बाजार में पैसा बनाने के लिए और अधिक आधुनिक, नियमित एवं बेहद दक्ष विकल्प भी मौजूद हैं. इन में म्यूचुअल फंड, बौंड और इक्विटीज शामिल हैं जो कि आप के धन को कई गुणा बढ़ाने में मददगार हैं. इन से आप पर कर का अधिक बोझ भी नहीं पड़ेगा. इन के बारे में वैब पर पर्याप्त जानकारी उपलब्ध है. अपना होमवर्क करने के लिए इन का उपयोग करें और अपने निवेश विकल्पों को विविधीकृत करने के लिए इन उत्पादों के बारे में विस्तारपूर्वक पढ़ें.

घर खरीदने में न करें जल्दबाजी

अधिकांश लोगों का मानना है कि घर खरीदना जिंदगी पटरी पर आने का संकेत है और इसलिए वे घर खरीदना चाहते हैं. हालांकि उन्हें उन की जरूरतों के अनुसार घर मिल जाता है और वे अगले 10-15 सालों के लिए आसानी से लोन अदा कर सकते हैं, लेकिन यह उचित नहीं है. इस बात का भी ध्यान रखें कि आप कैरियर में ब्रेक ले सकते हैं और परिवार की आय कम हो सकती है. साथ ही सुनिश्चित करें कि आप का शादीशुदा जीवन भी स्थिर होना चाहिए ताकि आप अपने जीवनसाथी के साथ मिल कर घर खरीदने का फैसला कर सकें.

बीमा कराएं

परिवार के प्रत्येक सदस्य के साथ ही गृहिणी के पास भी बेसिक टर्म कवर होना चाहिए. अपने जीवनसाथी के टर्म कवर को देखें और सुनिश्चित करें कि आप भी पर्याप्त रूप से बीमित हैं. पौलिसी के नियम और शर्तों की जानकारी रखें और सुनिश्चित करें कि आप की 8 वर्ष की आय कवर्ड हो, इस से किसी भी अप्रत्याशित स्थिति से उबरने में मदद मिलेगी.

अपने फाइनैंस को औनलाइन मैनेज करें

जब आप के पास देखभाल के लिए एक परिवार है, तो आप का हमेशा यही बहाना रहता है कि अपने धन को मैनेज करने के लिए आप के पास समय नहीं है. अपने धन के निवेश, उस पर निगरानी रखने और उसे रिडीम कराने के लिए औनलाइन तरीकों का उपयोग करें और अपनी निवेश जिंदगी को झंझटरहित बनाएं. ऐसे औनलाइन तरीकों को अपनाएं जो मेल/चैट

अथवा काल्स के जरीए सलाह के साथ आते हैं. इस से आप का परिश्रम कम हो सकता है और आप खुद से बेहद स्मार्ट तरीके से निवेश में बनी रह सकती हैं.