गृहशोभा विशेष

संभव है कि हममें से अनेक लोगों की जिंदगी बढ़िया गुजर रही हो. लेकिन जरूरी नहीं कि यह स्थिति हमेशा रहे. जीवन अनिश्चितताओं से भरा है, कब क्या अनहोनी घट जाए कहना मुश्किल है. लिहाजा जीवन की कठिन परिस्थितियों से जूझने के लिए हमें स्वयं को सदैव वित्तीय रूप से तैयार रखना चाहिए.

वैसे भी किसी चीज के लिए पहले से तैयारी करना अच्छा होता है. यहां कुछ टिप्स दिए जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर हम अनिश्चितताओं से अच्छी तरह से निपट सकते हैं.

जीवन बीमा : वित्तीय योजना का सबसे पहला कदम अपनी व पूरे परिवार की मौजूदा और भविष्य की वित्तीय आवश्यकताओं का आकलन करना है. परिवार के कमाऊ मुखिया के गुजर जाने पर जीवन बीमा ही एकमात्र जरिया है जिससे परिवार को वित्तीय सहारा प्राप्त हो सकता है. जीवन बीमा एकमात्र सुरक्षा कवच है जो परिवार को वित्तीय संकट से उबार सकता है. भविष्य के लिए बचत करने से पहले हमें खुद को किसी वित्तीय आपातकाल से बचाने का पूरा इंतजाम कर लेना चाहिए.

इसके अतिरिक्त अपनी अल्पकालिक एवं दीर्घकालिक आवश्यकताओं का वर्गीकरण करें तथा प्रत्येक आवश्यकता के लिए अलग से वित्तीय उत्पाद का निर्धारण करें. ज्यादातर लोग सबसे बड़ी गलती यह करते हैं कि दीर्घकालिक आवश्यकताओं वाले अपने पैसे का निवेश तात्कालिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कर देते हैं. जीवन बीमा पौलिसी में निवेश करने से निवेश की आदत विकसित होने के साथ दीर्घकालिक आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद मिलती है.

finance

रिटायरमेंट के लिए तैयारी की उपेक्षा न करें

यह महत्वपूर्ण है कि आप अभी से अपने रिटायरमेंट की प्लानिंग करें. वजह यह है कि रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी उम्मीद से ज्यादा लंबी खिंच सकती है. उस वक्त आपको पैसों की जरूरत पड़ेगी. ऐसे में उस दौर के लिए अभी से बचत करना शुरू कर दें, ताकि रिटायरमेंट के बाद आपके पास अपने लिए पर्याप्त कोष हो.

रिटायरमेंट के बाद लोगों की आमदनी में कमी आ जाती है. पेंशन से इसकी कुछ भरपाई तो होती है, लेकिन वह काफी नहीं है. लिहाजा, पेंशन प्लान लेना चाहिए. जीवन बीमा कंपनियां इस तरह के प्लान औफर करती हैं, इनमें जितनी जल्दी निवेश शुरू करेंगे उतना बेहतर होगा. तब रिटायरमेंट के समय आपके पास इतना पैसा होगा कि आप अपने जीवन साथी के साथ आराम से जिंदगी बसर कर सकते हैं. बढ़िया रिटायरमेंट प्लानिंग के बगैर आपको जरूरी खर्च पूरे करने के लिए अपनी गाढ़ी कमाई से अर्जित संपत्ति बेचनी पड़ सकती है.

इससे आप बच्चों के लिए कुछ नहीं छोड़ पाएंगे जिससे उनकी जिंदगी की मुश्किलें भी बढ़ सकती हैं. जीवन बीमा पौलिसी खरीदते समय यह सुनिश्चित कर लें कि इसमें आपको कम से कम वार्षिक आमदनी का 8-10 गुना मृत्यु लाभ अवश्य मिल रहा है. इससे आपको अपनी वित्तीय स्थिति बरकरार रखने में मदद मिलेगी तथा आप अपने साथ बच्चों की शिक्षा भी पूरी कर सकेंगे. आपको पौलिसी के साथ अतिरिक्त सुविधाएं (राइडर) लेने पर भी विचार करना चाहिए. यह पौलिसी की सुरक्षा का स्तर बढ़ाने का किफायती तरीका है.

निर्णय लेने से पहले सारी जानकारी प्राप्त करें

आजकल जीवन बीमा समाधानों के बारे में सूचनाओं की कोई कमी नहीं है. यह औनलाइन और औफलाइन दोनों तरह से उपलब्ध है. ज्यादातर लोग या तो इन सूचनाओं पर ध्यान नहीं देते या फिर उन्हें लगता है कि इनमें माथापच्ची करना समय की बर्बादी है. अनेक लोग इस पचड़े में पड़ने के बजाय फाइनेंशियल प्लानर के पास जाना पसंद करते हैं.

फाइनेंशियल प्लानर आपकी वास्तविक आवश्यकताओं, उम्मीदों और इच्छाओं को समझने और उनके मुताबिक उपयुक्त समाधान देने के लिए प्रशिक्षित होते हैं. भविष्य की योजना बनाते समय अपने दीर्घकालिक लक्ष्यों को ध्यान में रखना और उसी के हिसाब से पौलिसी का चयन करना जरूरी है.

जीवन के हर चरण की वित्तीय आवश्यकताओं एवं खर्चों की पूर्ति के लिए जितनी जल्दी बचत शुरू की जाए उतना अच्छा. जल्दी से जल्दी बचत की शुरुआत कर तथा कुछ आसान से कदमों को परिवार के भविष्य की सशक्त आधारशिला रख सकते हैं.

इसके लिये पहले से तैयारी बेहद जरूरी है, अपने भविष्य के निर्माता आप खुद हैं, लिहाजा भविष्य की सुरक्षा सुनिश्चित करना भी आपकी ही जिम्मेदारी है.