गृहशोभा विशेष

अगर आप अपने बैंक खाते में मिनिमम एवरेज बैलेंस रखने को लेकर परेशान रहते हैं, तो हमारी यह खबर आपके काम की है. दरअसल देश के अधिकांश बैंक आपको इस समस्या का समाधान देते हैं. यह समाधान है बेसिक सेविंग बैंक डिपौजिट अकाउंट (बीएसबीडी). देश के तमाम प्रमुख बैंक इसका विकल्प देते हैं. इन खातों में मिनिमम बैलेंस रखने की जरूरत नहीं होती है. इतना ही नहीं अगर आप इन खातों में एक भी पैसा नहीं रखते हैं तो आपको कोई पेनाल्टी भी नहीं देनी होती है.

कौन से बैंक देते हैं ये सुविधा?

देश के प्रमुख बैंक जैसे कि स्टेट बैंक औफ इंडिया, आईसीआईसीआई और एचडीएफसी बैंक आपको बेसिक सेविंग बैंक डिपौजिट अकाउंट खोलने की सुविधा देते हैं. आप अपनी सुविधानुसार इनका चयन कर सकते हैं.

SBI में बीएसबीडी अकाउंट खुलवाने के फायदे: सार्वजनिक क्षेत्र के प्रमुख बैंक स्टेट बैंक औफ इंडिया (एसबीआई) की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक इस खाता के खाताधारकों को रुपे एटीएम-कम डेबिट कार्ड बिना किसी शुल्क के उपलब्ध करवाया जाता है. एसबीआई के बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट में कोई भी सालाना मेंटेनेंस चार्ज नहीं लगता है. इसमें एनईएफटी/ आरटीजीएस माध्यम के जरिए इलेक्ट्रौनिक पेमेंट से जमा और निकासी मुफ्त में की जाती है. इसमें केन्द्र/राज्य सरकारों के द्वारा जारी चेक पर जमा/निकासी की सुविधा भी फ्री में दी जाती है.

ब्याज: एसबीआई बीएसबीडी अकाउंट पर वही ब्याज दर देती है जो बचत खाते पर देती है. बैंक के सेविंग अकाउंट में अधिकतम एक करोड़ रुपये की जमा राशि पर सालाना आधार पर 3.5 फीसद का ब्याज दिया जाता है. वहीं बचत खाते में एक करोड़ रुपये से ज्यादा बैलेंस पर सालाना चार फीसद की दर से ब्याज दिया जाता है.

finance

आईसीआईसीआई में बीएसबीडी अकाउंट खुलवाने के फायदे: आईसीआईसीआई बैंक मूल शाखा (ब्रांच) पर अपने बीएसबीडी अकाउंट पर खाताधारकों को पासबुक की सुविधा देता है. इस खाते में डेबिट कार्ड के जरिए प्रतिदिन पैसे निकालने की लिमिट दस हजार रुपये तक होती है. हालांकि यह बैंक अपने ग्राहकों को एसबीआई की तरह इस खाते पर रकम निकालने और एटीएम से लेन-देन की सुविधा नहीं देता है. आईसीआईसीआई बीएसबीडी वाले ग्राहकों के लिए 15 पृष्ठों वाली चेकबुक जारी करता है. हर अतिरिक्त चेकबुक के लिए अतिरिक्त 30 रुपये देने होते हैं. इन अकाउंट होल्डर्स के लिए आईसीआईसीआई की इंटरनेट बैंकिंग सुविधा निशुल्क है.

ब्याज: आईसीआईसीआई भी बीएसबीडी अकाउंट पर उतना ही ब्याज देती है जितना सेविंग अकाउंट पर देती है. 50 लाख रुपये से कम बैलेंस रखने वालों को बैंक 3.5 फीसद सालाना ब्याज देता है जबकि 50 लाख से ज्यादा बैलेंस के लिए बैंक 4 फीसद का ब्याज देती है.

HDFC बैंक में बीएसबीडी अकाउंट खुलवाने के फायदे: एचडीएफसी बीएसबीडी अकाउंट होल्डर्स को सेफ डिपॉजिट लौकर और सुपर सेवर फैसिलिटी की सुविधाएं देता है. इसके अलावा बैंक ग्राहकों को सभी ब्रांच से एटीएम निकासी, निशुल्क पासबुक, कैश और चेक से जमा एवं निकासी, रुपे कार्ड, आजीवन बिल पे, तुरंत शिकायत निवारण और ईमेल से स्टेटमेंट की सुविधा भी देता है. एसबीआई की ही तरह इसमें आप एक महीने में चार बार पैसों की निकासी कर सकते हैं.

अगर निकासी महीने में चार बार से ज्यादा बार की जाए तो बैंक बीएसबीडी अकाउंट को साधारण खाते में बदल देता है. इसके बाद अकाउंट पर साधारण बैंक बचत खाते के सभी नियम लागू किए जाते हैं. नेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग से आप अपने खाते का बैलेंस भी चेक कर सकते हैं.

ब्याज: एचडीएफसी बैंक जीरो बैलेंस अकाउंट के लिए 50 लाख से कम की राशि पर 3.50 फीसद ब्याज देता है. वहीं 50 लाख या उससे ज्यादा के लिए ब्याज दर चार फीसद दिया जाता है. ये ब्याज दरें एचडीएफसी बैंक के सामान्य बचत खाते के बराबर है.

GS-660

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं