आमतौर पर लोग ऐसे निवेश विकल्पों की तलाश में रहते हैं जहां उन्हें बढ़िया ब्याज मिले. वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो ऐसे निवेश विकल्प ढूंढते हैं जहां उनके टैक्स की बचत हो जाए. अगर आप सिर्फ अपने निवेश पर बेहतर ब्याज चाहते हैं तो हमारी यह खबर आपके काम की है. हम अपनी इस खबर में आपको ऐसे ही कुछ निवेश विकल्पों की जानकारी दे रहे हैं जहां आप बेहतर ब्याज पा सकते हैं.

सिस्टमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (एसआईपी): सिस्टमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान एक तरह की निवेश रणनीति होती है जो निवेश को नियमित और अनुशासित निवेश के लिए प्रेरित करती है. इसमें आप 500 रुपये की न्यूनतम राशि के साथ भी निवेश शुरू कर सकते हैं. आप जब भी निवेश के बारे में सोचे तो आपकी प्राथमिकता अपने उच्च रिटर्न को अधिक करने की रहनी चाहिए. इस पर भी बाजार के आधार पर बेहतर रिटर्न मिलता है. अमूमन इस पर 10 फीसद से ऊपर का रिटर्न आसानी से मिल जाता है.

किसान विकास पत्र (केवीपी): किसान विकास पत्र को ग्रामीण क्षेत्र में निवेश का एक बेहतरीन विकल्प माना जाता है. इसमें न्यूनतम निवेश की राशि एक हजार रुपये से लेकर अधिकतम दस हजार रुपये तक है. केवीपी में 7.3 फीसद की दर से ब्याज मिलता है. केवीपी को पोस्ट औफिस के किसी भी विभाग या ब्रांच से खरीदा जा सकता है. इसमें जमा की गई रकम 118 महीनों बाद मैच्योर होती है.

finance

रेकरिंग डिपौजिट (आरडी): रेकरिंग डिपौजिट ऐसा निवेश विकल्प है जिसमें किसी भी व्यक्ति की ओर से नियमित तौर पर निवेश किया जाता है. आप अपनी सैलरी का थोड़ा थोड़ा हिस्सा बचाकर भी इसमें निवेश कर सकते हैं. हालांकि इसमें निवेश के लिए सेविंग अकाउंट की जरूरत होती है. रेकरिंग डिपौजिट राष्ट्रीय, निजी बैंक या डाकघर में भी खुलवाया जा सकता है. इसमें मैच्योरिटी पूरी होने पर ब्याज राशि जोड़कर आपको पैसा दे दिया जाता है हालांकि इस राशि पर आपको तय टैक्स स्लैब के हिसाब से टैक्स भी देना होता है.

नियमित सेविंग के लिहाज से इसे बेहतर माना जाता है. एफडी और आरडी दोनों पर ही मिलने वाला ब्याज लगभग एक जैसे ही होते हैं. आरडी पर ब्याज दरें 7.25 फीसद से 9 फीसद तक होती हैं. ये कस्टमर के प्लान और बैंक पर निर्भर करता है. इसमें सबसे बड़ा फायदा यह है कि अधिकांश बैंकों की रेकरिंग डिपौजिट में निवेश की न्यूनतम सीमा 100 रुपये से शुरू है. वहीं, अधिकतम सीमा 1.5 लाख रुपये तक है. हालांकि ज्यादातर यह सीमा बैंकों पर निर्भर करती है. खाते में पांच से 10,000 हजार रुपए तक मेंटेन रखने होते हैं.

पोस्ट औफिस मंथली इनकम स्कीम अकाउंट (एमआईएस): डाकघर की ये स्कीम भी आरडी जैसी ही है. नियमित तौर पर निवेश के लिए ये एक अच्छा विकल्प है. इसमें जमा करने की अधिकतम अवधि पांच वर्ष तक की होती है. दो या दो से अधिक लोग मिलकर संयुक्त खाता भी खुलवा सकते हैं. इस खाते को कोई भी व्यक्ति कैश या फिर चेक किसी भी माध्यम से खोल सकता है. खाता खुलवाने के पहले या बाद आप नौमिनेशन करवा सकते हैं. इस खाते को ट्रांसफर भी करवाया जा सकता है. इस खाते में जमा राशि पर 7.3 फीसद का ब्याज मिलता है. एकल खाते के लिए अधिकतम जमा राशि की सीमा 4.5 लाख है जबकि संयुक्त खाते के लिए यह 9 लाख है.

Tags: