इस भागती दौड़ती जिंदगी के बीच सभी अपनों का भविष्य सुरक्षित करना चाहते हैं. इस लिहाज से उन्हें साधारण इंश्योरैंस पौलिसी की तुलना में टर्म प्लान ज्यादा रास आ रहा है. इस का बड़ा कारण यह भी है कि इस की किस्त काफी कम है, जिस का फायदा उठाते हुए कंपनियों ने टर्म प्लान की जबरदस्त मार्केटिंग शुरू कर दी है. विशेषज्ञों की मानें तो किसी और इंश्योरैंस पौलिसी की तुलना में टर्म प्लान सब से कम प्रीमियम में ज्यादा कवर देता है. हालांकि इस का एक कारण यह भी है कि टर्म प्लान निवेश के लिहाज से नहीं लिया जाता है. ऐसे में पौलिसी का पूरा प्रीमियम जोखिम को कवर करने में ही जाता है. अगर आप भी टर्म प्लान की खरीदारी करने की सोच रहे हैं तो आप को कुछ चीजों का ध्यान रखना होगा.

आप को कितने कवर की जरूरत है

टर्म प्लान लेने का एकमात्र मकसद यह है कि अगर परिवार के प्रमुख और कमाने वाले सदस्य की मृत्यु हो जाए तो उस पर आश्रित सदस्यों को जीवनयापन के लिए पर्याप्त धन मिल जाए. ऐसे में आप को प्लान लेते वक्त कई बातों का ध्यान रखना चाहिए. मसलन, आप के परिवार के खर्च क्या हैं. परिवार में कोई शादीब्याह तो नहीं करना पड़ेगा और अंत में यह गौर करना होगा कि आप पर कोई लोन या फिर अन्य देनदारी तो नहीं है. अगर आप का कवर पर्याप्त नहीं है तो टर्म प्लान लेने का उद्देश्य खत्म हो जाएगा.

उदाहरण के तौर पर रवि शर्मा ने 12.5 लाख का इंश्योरैंस कवर लिया, क्योंकि उन का कार लोन 3 लाख था. इस के अलावा उन के परिवार में 3 सदस्य और हैं जिन का भविष्य भी सुरक्षित करना था. इस बारे में सर्टिफाइड फाइनैंशियल प्लानर सुमित कोठारी ने बताया कि वैसे तो एक नियम है कि आप को अपनी सालाना आय का 10 से 20 फीसदी तक का कवर लेना चाहिए, लेकिन इसे सटीक पैमाना नहीं माना जा सकता है, क्योंकि हर व्यक्ति की परिस्थितियां और जरूरतें अलगअलग होती हैं.

कब तक है कवर की जरूरत

टर्म प्लान की अवधि उतनी ही जरूरी है जितनी उस की कवर की रकम. आप की कवर की अवधि कम से कम रिटायरमैंट तक तो होनी ही चाहिए, जोकि कुछ साल पहले तक 60 साल हुआ करती थी. हालांकि अब शादियां देर से होने की वजह से 60 साल की उम्र के बाद भी लोगों पर काफी जिम्मेदारियां होती हैं. नतीजतन लोग काफी लंबे समय तक काम करते रहते हैं.

विशेषज्ञों की मानें तो ज्यादातर लोगों को कम से कम 65 साल के लिए कवर की जरूरत होती है. हालांकि यह परिस्थितियों पर भी निर्भर करेगा. पौलिसी खरीदते वक्त कभी 15 से 20 साल का शौर्ट टर्म कवर न लें, क्योंकि जब आप उम्र के 40वें दशक में होंगे तो यह तभी खत्म हो जाएगा. इस का प्रीमियम कम होगा, क्योंकि आप खुद को उस अवधि में कवर कर रहे हैं जबकि जोखिम कम होता है. ऐसे में अगर आप एक बार फिर से नया इंश्योरैंस लेंगे तो आप का खर्च हद से ज्यादा बढ़ जाएगा. इस स्थिति में आप को ऐसे टर्म प्लान का चुनाव करना चाहिए जिस में अवधि तय करने की छूट मिले.

कई औनलाइन टर्म प्लान 15, 20, 25 और 30 साल की निश्चित अवधि के होते हैं. बाकी के प्लान में आप को 60 साल से ज्यादा कवर नहीं किया जाएगा. इस स्थिति में अगर व्यक्ति 32 साल का है तो वह 30 साल का टर्म प्लान नहीं ले सकता है. उस के पास 25 साल के प्लान का विकल्प बचता है और यह तभी खत्म हो जाएगा जब वह 57 साल का होगा. यही कारण है कि इस तरीके की पौलिसी से बचना चाहिए और उन्हीं प्लान का चुनाव करना चाहिए, जो आप की जरूरत को पूरा करते हों.

महंगाई का भी रखें खयाल

अगर आप ने 50 लाख की पौलिसी ली है और आप को लगता है कि यह पर्याप्त है तो आप गलत हैं. अगले 10 साल में अगर 6 फीसदी की मुद्रास्फीति भी मान कर चलें तो भी 50 लाख की कीमत केवल 28 लाख ही रह जाएगी. कई कंपनियां ऐसे टर्म प्लान औफर कर रही हैं जिन में महंगाई के साथ ही कवर भी हर साल 5 से 10 फीसदी की दर से बढ़ जाता है. इस तरीके का प्लान महंगाई और आप की आय में इजाफे का खयाल रखेगा. जब आप ऐसा प्लान लेने की सोचें तो कम से कम 10 फीसदी की सालाना बढ़ोतरी वाला या फिर महंगाई के साथ जुड़े हुए प्लान की खरीदारी करें. हालांकि इस तरह के प्लान का प्रीमियम साधारण प्लान की तुलना में ज्यादा होता है. ऐसे में अपनी आर्थिक परिस्थितियों का जायजा लेते हुए ही टर्म प्लान खरीदें.

इस के उलट कुछ प्लान ऐसे होते हैं जिन में समय के साथ कवर घटता जाता है. ऐसा प्लान बडे़ कर्ज के जोखिम को कम करने के लिए लिया जाता है. उदाहरण के तौर पर इस में होम लोन के जोखिम को कम करने के लिए लिया जाने वाला टर्म प्लान शामिल है.

टर्म प्लान की औनलाइन खरीदारी है सस्ती

अगर आप टर्म प्लान खरीदना चाह रहे हैं तो आप को इस की औनलाइन खरीदारी करनी चाहिए. झवेरी के मुताबिक अगर आप किसी एजेंट के माध्यम से टर्म प्लान की खरीदारी करते हैं, तो पौलिसी आप को 15 से 30 फीसदी तक महंगी पड़ेगी. यही कारण है कि इस की औनलाइन खुद की खरीदारी में ही समझदारी है.

अगर आप को इस में दिक्कत हो रही है तो कई बैंक और रिलेशनशिप एजेंट आप को टर्म प्लान की खरीदारी में मदद करेंगे. इस के लिए कोई शुल्क भी नहीं चुकाना पड़ेगा. पौलिसी लेते वक्त आप को सभी पुरानी पौलिसियों के बारे में जानकारी देनी चाहिए. इस से भविष्य में आप को क्लेम लेने में कोई समस्या नहीं होगी.