गृहशोभा विशेष

अगर आप किसी कस्बे, छोटे गांव या ग्रामीण क्षेत्र में रहती हैं और वहीं से बिजनेस शुरू करना चाहती हैं तो यह मौका आपके लिए बेहतर मौका साबित हो सकता है. सरकार पूरे देश भर में 1.6 लाख नए कौमन सर्विस सेंटर (CSC) स्थापित करने की योजना बना रही है. कौमन सर्विस सेंटर में 2 से 2.5 लाख का निवेश करके हर महीने 15 से 20 हजार रुपए कमाए जा सकते हैं. आइए जानते हैं कि कैसे सीएससी प्राप्त किया जा सकता है और कैसे इस सेवा को लागू किया जाएगा. इसके लिए आपको कहीं जाने की भी जरुरत नहीं होगी, लोग खुद सेवाएं लेने के लिए आपके पास आएंगे.

क्या है कौमन सर्विस सेंटर (CSC)

राष्ट्रीय ई योजना के अंतर्गत सरकार सभी पब्लिक सर्विसेस तक लोगों की पहुंच आसान करना चाहती है. इससे कारण इंफौर्मेशन और टेक्नोलौजी डिपार्टमेंट कौमन सर्विस सेंटर खोला रहा है. एक सीएससी में सरकारी, प्राइवेट और सोशल सेक्‍टर जैसे टेलीकौम, एग्रीकल्‍चर, हेल्‍थ, एजुकेशन, एंटरटेनमेंट, एफएमसीजी प्रोडक्‍ट, बैंकिंग और फाइनेंशियल सर्विस, सभी तरह के प्रमाणपत्र, आवेदन पत्र और यूटिलिटी बिल की पेमेंट किया जा सकता है. आगे आने वाले वाले समय में सीएससी द्वारा 300 से ज्यादा सेवाएं देने की योजना है.

CSC सेंटर खोलने के लिए क्या चीज है जरुरी

अगर आप सीएससी सेंटर खोलना चाहते हैं तो इसके लिये आपको कम से कम एक कम्प्यूटर, प्रिंटर, डिजीटल कैमरा/वेब कैमरा. जनरेटर , इनवर्टर या सोलर पैनल, औपरेटिंग सिस्टम और एप्लीकेशन सौफ्टवेयर और ब्रौडबैंड कनेक्शन की जरुरत होगी. इसके लिए 2 से ढाई लाख रूपए का खर्च आता है.

कैसे मिलेगा सीएससी सेंटर का लाइसेंस

सीएससी सेंटर का लाइसेंस लेने के लिए सबसे जरुरी है कि आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए. इसके लिए वेबसाइट csc.gov.in पर जाकर रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है. रजिस्ट्रेशन के लिए आधार नंबर डालने पर आपको ओटीपी प्राप्त होगा. जिसके बाद आप सेंटर के लिए अप्लाई कर सकते हो. अगर आप औफलाइन अप्लाई करना चाहते हैं तो इसके लिए ग्राम पंचायत और नगर पंचायत स्तर कमेटी बनाई गई है, जिसके पास आपको अपना आवेदन जमा करना होगा. जिसके बाद आवेदन पर विचार करके लाइसेंस दिया जाएगा.

सीएससी केंद्रों द्वारा दी जाने वाली सेवाएं

सीएससी के जरिए पैन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर कार्ड, वोटर लिस्ट में नाम दर्ज कराने आदि काम किया जा सकता है. इसके अलावा मोबाइल रिचार्ज, मोबाइल बिल पेमेंट, इनस्टेंट मनी ट्रांसफर, डीटीएच रिचार्ज, डेटा कार्ड रिचार्ज, रेड बस, एलआईसी प्रीमियम, एसबीआई लाइफ, बिल क्लाउड जैसी सेवाएं निजी सेवाएं भी दी जा सकेंगी. शिक्षा और प्रशिक्षण सेवाएं जिनमें विद्यालय, महाविद्यालय, व्यवसायिक शिक्षा, रोजगार आदि के आवेदन के बारे में कार्यवाही. स्वास्थ्य सेवाएं भी सीएसी केंद्र का एक प्रमुख कार्य है.

सीएससी के जरिए कैसे होगी कमाई

टेलिकौम मंत्रालय के रिसर्च के मुताबि्क सीएससी के जरिए ग्रामीण इलाकों में सूचनाएं प्राप्त की जा सकेगी. इंटरनेट से जुड़ी सर्विस गांवों में भी पहुंच रही हैं. इन सेंटर्स में आईडी कार्ड एवं वेडिंग कार्ड की प्रिंटिंग, लेमिनेशन, डिजाइनिंग, डौक्‍युमेंट की स्‍कैनिंग व प्रिंटिंग होती है. स्‍टूडेंट्स को कम्प्‍यूटर सिखाया जाता है और वह आसपास के गांवों के युवाओं को जौब फौर्म भी देते हैं, जिन्‍हें अलग-अलग वेबसाइट से डाउनलोड किया जाता है.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं