गृहशोभा विशेष

कुछ माह पहले मेरे मित्र ने कहा कि उस का बेटा होटल मैनेजमैंट का कोर्स करना चाहता है पर वह उसे इस की इजाजत नहीं दे रहा, क्योंकि वह बेटे को किसी भी सूरत में मीट और अंडों के साथ काम नहीं करने देना चाहता था. मुझे तब चंद्रशेखर भूनिया का मामला याद आया. वे एक चार्टर्ड अकाउंटैंट हैं और उन्हें लगा कि शाकाहारियों के लिए होटल मैनेजमैंट का कोर्स करना असंभव है, क्योंकि उन्हें पशुओं को काटना और पकाना सीखना ही होता है. उन्होंने मंत्रियों, अफसरों और अपने समाज के लोगों को पत्र लिखने शुरू किए कि यह अनिवार्यता गलत है. उन्होंने दिल्ली आ कर इस की पैरवी शुरू की.

उन का कहना था कि कुछ वर्गों में केवल शाकाहारी खाना ही खाया जाता है और उस वर्ग के छात्र होटल मैनेजमैंट के कोर्स में मीट पकाना सीख कर क्या करेंगे जबकि उन्हें पूरे जीवन शाकाहारी खाना ही बनाना है. यह उन की मार्केट मांग, परिवार की इच्छा, पारिवारिक मूल्यों के खिलाफ है. मैं ने खुद स्कूल में बायोलौजी नहीं ली थी, क्योंकि उस में पशुओं को काटना पड़ता था.

एक ढर्रे पर चलना

होटल मैनेजमैंट कोर्स में 40 से ज्यादा विषय होते हैं, जिन में कानून, फ्रंट औफिस की देखरेख, टिकटिंग, रहने की सुविधा, कमरों की बुकिंग, मांसाहारी खाना बनाना सीखने की अनिवार्यता कर के अन्य क्षेत्रों की जानकारी से वंचित करना गलत है.

इस क्षेत्र के ढर्रे पर चल कर हम अपनी शाकाहारी पाककला को विश्व भर में फैलाने से भी रोक रहे हैं. चूंकि होटल मैनेजमैंट कोर्स में जाने वाले सारे मांसाहारी ही होते हैं, इसलिए उन्हें शाकाहारी के नियमों का और संवेदनशीलताओं का खयाल नहीं रहता. वे शाकाहारी खाने में मांसाहारी चीजें खासतौर पर अंडे इस्तेमाल करने में हिचकते नहीं हैं. वे ऐनिमल फैट्स में शाकाहारी खाने को तलने में भी कोई परहेज नहीं करते.

शाकाहारी आंदोलन अब विश्व भर में तेजी से फैल रहा है और अब हजारों होटल केवल शाकाहारियों के खुल गए हैं. कुछ रेस्तराओं, एअरलाइंस और पर्यटन शिप केवल शाकाहारी खाना ही परोसते हैं. शाकाहारी कुकिंग सीख कर लोग आसानी से इन क्षेत्रों में नौकरियां पा सकते हैं.

हमारे देश के बहुत से उत्सवों, विवाहों, पर्वों में केवल शाकाहारी खाना दिया जाता है. वहां अच्छे ट्रेंड किए शैफों की बहुत आवश्यकता रहती है.

कोर्स में न हों शर्त

अगर केवल शाकाहारियों को बिना शर्तों के होटल मैनेजमैंट कोर्सों में लिया जाए तो उन्हें अच्छा टेलैंट भी मिलेगा, क्योंकि 12वीं कक्षा में अच्छे अंक पाने वाले बहुत से छात्रछात्राएं

इस क्षेत्र की ओर रुख ही नहीं करते. अगर यह कोर्स केवल शाकाहारियों के लिए स्थान लाए तो गृहिणियां भी यह कोर्स करना पसंद करेंगी.

ढाबों और छोटे रेस्तराओं में जो केवल शाकाहारी खाना परोसते हैं, अकसर क्वालिटी ठीक नहीं होती, क्योंकि वहां प्रशिक्षण की कमी रहती है. मुझे खुद अच्छे, सस्ते, साफ, सड़क के किनारे बने शाकाहारी खाने की जगहों की कमी अकसर दिखती है, क्योंकि मुझे दौरों पर बहुत रहना होता है.

चंद्रशेखर के प्रयासों का नतीजा है कि अहमदाबाद, भोपाल और जयपुर की कुछ होटल मैनेजमैंट संस्थाओं ने अलग शाकाहारी  किचन बनाने का फैसला लिया है. यह शाकाहारियों के लिए अच्छी खबर है.

VIDEO : प्रियंका चोपड़ा लुक फ्रॉम पीपुल्स चॉइस अवार्ड मेकअप टिप्स

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं