लेजर्स ऐसी मैडिकल डिवाइस होती हैं जो अत्यधिक ऊर्जा, प्रकाश और गरमी पैदा करती हैं. इन्हें गहन शोध और व्यापक क्लिनिकल अनुभव के बाद हासिल किया गया है. इन का प्रयोग त्वचा व शरीर के विभिन्न प्रकार के ऊतकों पर कारगर तरीके से किया जाता है. लेजर लाइट में ऊर्जा की मात्रा और वितरण को बहुत ही बारीकी से पहुंचाया जाता है. इसलिए कई सौंदर्य संबंधी व चिकित्सकीय परिस्थितियों के सफल उपचार के लिए उपकरणों या रसायनों के प्रयोग के मुकाबले इस से ज्यादा लाभ हो सकता है.

लेजर्स त्वचा, बालों को कम करने, त्वचा के कायाकल्प और त्वचा पर होने वाले घावों के उपचार के लिए 3 चीजें करती हैं:

अनचाहे बालों को खत्म करना

कौस्मैटिक प्रक्रिया में अनचाहे बालों को हटाने के लिए डायोड जैसे एक शक्तिशाली लेजर का इस्तेमाल किया जाता है.

यह प्रकाशस्रोत त्वचा में बालों के छिद्रों को गरम करता है और उन्हें नष्ट कर देता है. इस से बालों की वृद्घि थम जाती है. यह उपचार शरीर में मुख्यरूप से चेहरे, टांगों, बांहों, अंडरआर्म और बिकिनी लाइन जैसी जगहों पर किया जाता है.

यह अत्यधिक बालों की परेशानी से पीडि़त महिलाओं के लिए लाभदायक हो सकता है. आमतौर पर यह पीली त्वचा और काले बालों वाली महिलाओं के लिए कारगर है.

उपचार के लिए 4 से 6 सप्ताह के दौरान 6 सैशन लेने की सलाह दी जा सकती है. संभव है कि लेजर हेयर रिमूवल के बाद भी बाल हमेशा के लिए खत्म न हों. उन्हें पूरी तरह खत्म होने में कुछ सप्ताह से ले कर कुछ महीनों तक का वक्त लग सकता है. उचित परिणाम हासिल करने और उन्हें बनाए रखने के लिए नियमित सत्रों की आवश्यकता हो सकती है. इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि इस से सभी बाल खत्म हो ही जाएंगे. इसलिए प्रशिक्षित डाक्टर को तलाशने के लिए समय निकालें जिस के पास उपयुक्त योग्यता हो और जो स्वच्छ, सुरक्षित व उचित माहौल में काम करता हो.

डाक्टर से समय लेने से एक दिन पहले उपचार के हिस्से से बाल हटाने होते हैं. उपचार के दिन उस दौरान आंखों को सुरक्षित रखने के लिए विशेषरूप से डिजाइन किया गया चश्मा भी पहनना होता है.

उपचार करने में लोकल एनेस्थिसिया जरूरी नहीं है. उपचार करने वाला व्यक्ति आमतौर पर त्वचा के उस हिस्से में एक कूल जेल या कूलिंग एयर स्प्रे का इस्तेमाल करता है. इस के बाद वह हाथ से इस्तेमाल की जाने वाली एक डिवाइस को त्वचा के पास दबाता है और लेजर को भी दबाता है. प्रत्येक सैशन में 15 मिनट से ले कर 1 घंटे से अधिक समय भी लग सकता है. व्यक्ति को कितने सैशन की जरूरत है, यह लेजर का इस्तेमाल किए जाने वाले हिस्से और इस्तेमाल की गई प्रणाली पर निर्भर करता है.

उपचार के 24 घंटे तक उस जगह पर चकत्तों के साथ लाल निशान देखने को मिल सकते हैं. त्वचा को एक आइस पैक से ढकने से मदद मिल सकती है. लेजर हेयर रिमूवल के बाद त्वचा धूप में अत्यधिक संवदेनशील हो जाती है. ऐसे में उपचार के करीब एक सप्ताह तक धूप और टैनिंग बेड्स से बचाव व सनस्क्रीन का प्रयोग जरूरी है.

त्वचा को नया रूप देना

लेजर रिसरफेसिंग में कार्बन डाईऔक्साइड जैसी विशेष रूप से तैयार की गई थर्मल एनर्जी की बीम का इस्तेमाल किया जाता है. यह त्वचा की सतहों के भीतर काफी गहराई तक जा कर काम करती है.

त्वचा की सतह उतरने या छूटने के उलट हीट की ये लेजर बीम मुख्यरूप से खराब हो चुकी त्वचा को लक्ष्य बनाती है और उन्हें ठीक करती है. पुरानी त्वचा में घाव करने से रिसरफेसिंग से बाहरी त्वचा को हटाया जाता है और यह त्वचा की भीतरी सतह तक पहुंचती है जो नई कोलाजेन पैदा करती है. इस से त्वचा की स्थिति में सुधार होता है और नई त्वचा उभर कर सामने आती है.

आमतौर पर इस उपचार का प्रयोग झुर्रियों या मुहांसों के धब्बों को कम करने या त्वचा की अन्य खामियों को सुधारने के लिए किया जाता है. उपचार में लगने वाला समय उपचार की जगह और आकार पर निर्भर करता है. होंठ के ऊपरी हिस्से और ठुड्डी जैसी छोटी जगहों में 20-30 मिनट लगते हैं.

बर्थ मार्क, टैटू और त्वचा के घावों को हटाना

शरीर के निशानों को खत्म करने के मामले में लेजर उपचार काफी कारगर साबित हुआ है. लेजर द्वारा इन निशानों का कारण रही असामान्य रक्तनसों का आकार कम कर दिया जाता है. परिणामस्वरूप, उपचार किए हिस्से का रंग दब जाता है. त्वचा की वृद्घि, चेहरे पर उभरी नसें, मस्सों और कुछ टैटू को लेजर सर्जरी से ठीक किया जा सकता है.

ज्यादातर मौकों पर एक से अधिक बार लेजर उपचार की जरूरत होती है लेकिन कुछ चीजें एक ही बार में ठीक हो जाती हैं. टैटूज को एक विशेष प्रकार के लेजर द्वारा हटाया जा सकता है.

नई प्रौद्योगिकी के साथ इस्तेमाल करने के लिहाज से लेजर सुरक्षित हो गए हैं. लेकिन एक प्रशिक्षित कौस्मैटिक सर्जन के पास जाना आवश्यक है, जिस के पास इस प्रकिया के दौरान लेजर के प्रयोग की जानकारी हो.

उचित ढंग से प्रयोग न किए जाने पर लेजर्स नुकसानदायक हो सकती हैं. प्लास्टिक सर्जन आमतौर पर न्यूनतम लेजर तीव्रता का प्रयोग करते हैं. न्यूनतम तीव्रता की वजह से उपचार के लिए कई बार जाना पड़ता है. हालांकि न्यूनतम तीव्रता जहां तक संभव है ऊतकों को सेहतमंद बनाए रखती है. इस के प्रयोग से सौंदर्य के लिहाज से उपयुक्त परिणाम देखने को मिलते हैं. इन में से कई लेजर सर्जरी अस्पतालों में बाह्यरोगी उपचारों के तौर पर की जाती हैं.

सर्जन द्वारा सर्जरी में लेजर के उपयोगी होने के संकेत देने के बाद वह लेजर की उपयोगिता व उस के परिणामों के बारे में बताता है. प्रत्येक प्रकार की सर्जरी की ही तरह लेजर की अपनी सीमाएं हैं. आमतौर पर परिणाम बहुत ही अच्छे रहे हैं. सर्जन विशेष प्रकार की प्रक्रिया के लिए आप को सर्वश्रेष्ठ जानकारी देगा.

कुछ सर्जन सर्जरी से पहले उपचार के हिस्से को सुन्न करने के लिए लोकल एनेस्थिसिया का प्रयोग कर सकते हैं. कई बार सर्जरी सर्जन के औफिस में की जा सकती है, कई बार यह सर्जरी एक क्लिनिक या अस्पताल में बाह्यरोगी विभाग में की जा सकती है. सर्जन सर्जरी की प्रकृति के मुताबिक उचित तरीका तय करेगा. चूंकि सुरक्षा लेजर के प्रयोग का एक अहम तत्त्व है, इसलिए सर्जन सर्जरी से पहले सुरक्षा संबंधी सावधानियों के बारे में बताता है.

सर्जरी के बाद संभवतया कई दिनों तक कुछ हद तक सूजन और त्वचा में लालपन महसूस होता है. घाव भरने की प्रक्रिया के दौरान एंटीबायोटिक औइंटमैंट का प्रयोग किया जा सकता है. मरीज के लिए सर्जन द्वारा औपरेशन के बाद के लिए बताए गए दिशानिर्देशों का पालन करना महत्त्वपूर्ण है, खासतौर पर सन ब्लौक क्रीम का प्रयोग करने और धूप से बचने को ले कर दिए गए निर्देशों का पालन करना.

Tags: