गृहशोभा विशेष

मैं 34 वर्षीय महिला हूं. 7 सालों से बच्चेदानी में बारबार इन्फैक्शन होने से परेशान हूं. दवा लेने पर कुछ समय तक आराम रहता है, पर कुछ दिनों बाद समस्या फिर शुरू हो जाती है. कृपया बताएं क्या करूं?

अच्छा होता आप हमें अपनी समस्या के बारे में अधिक खुल कर लिखतीं. पहली जरूरत यह है कि यह ठीक से जानाबूझा जाए कि यह ऐसा कौन सा इन्फैक्शन है, जो बारबार आप को परेशान कर रहा है. कहीं ऐसा तो नहीं कि आप अपने पर्सनल हाइजीन के बारे में लापरवाही बरत रही हों या फिर ऐसे किसी इन्फैक्शन से आप के पति भी पीडि़त हों, इसलिए उन की दवा न होने से यह इन्फैक्शन बारबार उन से आप में लौट आता हो?

अच्छा होगा कि आप अपनी गाइनोकोलौजिस्ट से इस विषय पर खुल कर बात करें और अपने बचाव के लिए उपयुक्त कदम उठाएं. यदि पति को भी इलाज की जरूरत हो तो उन्हें भी दवा लेने के लिए प्रेरित करें. इस प्रकार बारबार इन्फैक्शन होना ठीक नहीं. लापरवाही बरतने से स्थिति कभी अचानक ज्यादा भी बिगड़ सकती है.

*

मैं 13 साल की लड़की हूं. मेरी लंबाई 4 फुट 9 इंच है. कुछ ऐसे व्यावहारिक उपाय बताएं जिन से कि मेरी लंबाई बढ़ सके?

आप की लंबाई बढ़ने की अभी 2-3 साल तक अच्छी संभावना है. कुछ छोटेछोटे उपाय अमल में लाने से आप को लाभ मिल सकता है.

बेहतर होगा कि आप नियमित अच्छी प्रोटीनयुक्त डाइट लें. दूध, दही, दालें, अन्न, अंडा, गोश्त और मछली प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं. शरीर को अच्छी मात्रा में कैलोरी और प्रोटीन मिलते रहने से कद लंबा होने की संभावना बढ़ जाती है. इस के विपरीत अगर कैलोरी और प्रोटीन पर्याप्त न लें तो कद छोटा रह जाता है. दूसरा, खूब खेलेंकूदें, भागेंदौड़ें, शारीरिक कसरत करें. इस से भी शरीर में अधिक ग्रोथ हारमोन स्रावित होता है और लंबाई बढ़ाने में मदद मिलती है. तीसरा, रात में 7-8 घंटे की नींद लें. यह न केवल स्वास्थ्य अच्छा बनाए रखने का जरूरी नुसखा है, बल्कि लंबाई बढ़ाने में भी मददगार सिद्ध होता है. इस से शरीर की जैव रासायनिकी पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है. चौथा, कभी कोई रोग हो तो समय से उस का इलाज कराएं. उस के प्रति लापरवाही न बरतें.

इन 4 नियमों को अमल में लाने के बाद आगे मातापिता से विरासत में मिले जींस पर यह बात छोड़ दें कि आप की लंबाई कितनी बढ़ेगी.

*

मेरी उम्र 62 साल है. मैं बहुत दुबलीपतली हूं. दूध, घी, हरी सब्जियां, फल, जूस सभी कुछ खातीपीती हूं, पर चेहरे पर रौनक नहीं आती. नींद न आने की भी थोड़ी समस्या है, जिस के लिए मुझे नींद की गोली लेनी पड़ती है. रोजाना सुबह 2 किलोमीटर की सैर भी करती हूं, 1 घंटा व्यायाम करती हूं. फिर भी न तो वजन बढ़ता है, न ही चेहरे पर चमक आती है. सोशल गैटटुगैदर और पार्टी वगैरह में जाते समय सोचती हूं कि काश मेरा शरीर थोड़ा अधिक भरा होता. कृपया समाधान बताएं?

सब से पहले यह बात जान लें कि हर किसी के शरीर की संरचना दूसरे से भिन्न होती है. यह संरचना हमारी आनुवंशिकी, हमारे बचपन, हमारे शारीरिक विकास, हमारी मानसिक प्रवृत्तियों और अगर वर्तमान के नए आयुर्विज्ञान सिद्धांतों को समझें तो हमारी आंतों में जी रही बैक्टीरिया की बस्ती, जिसे वैज्ञानिक माइक्रोबायोम कहते हैं, इन तमाम चीजों पर निर्भर करती है.

आप जिस उम्र में आ पहुंची हैं, उस में इन चीजों को बदलना नामुमकिन है. बस खुश रहिए, चिंता कम करें और जीवन का पूरा आनंद लें. वजन कम होना स्वास्थ्य के लिए अच्छा ही है. उस से शरीर के जोड़ों और रीढ़ पर कम भार रहता है और व्यक्ति आर्थ्राइटिस तथा दूसरी बहुत सी बीमारियों से बचा रहता है.

चेहरे की रौनक शारीरिक वजन से अधिक मन की अवस्था पर निर्भर करती है. आप का भरापूरा परिवार है, आप के पास सुख के सभी साधन हैं, उन का आनंद लेने से ही जीवन में खुशियों का वसंत खिला रह सकता है.

*

मैं 35 वर्षीय विवाहिता हूं. मेरी 13 साल की बेटी है. 2 बार गर्भपात से भी गुजर चुकी हूं. मेरी वैजाइना बिलकुल ढीली हो गई है. इस वजह से मेरे पति और मुझे सैक्स के समय संतुष्टि नहीं मिलती. कोई ऐसा इलाज बताएं जिस से कि यह पहले जैसी टाइट हो जाए. इंटरनैट पर मैं ने कुछ जैल क्रीम के बारे में पढ़ा था. क्या जैल क्रीम असरदायक होती है? पति औपरेशन के लिए राजी नहीं हैं. बताएं, क्या करूं? 

आप का इशारा शायद ऐस्ट्रोजन युक्त क्रीम और जैली की ओर है. इस की उपयोगिता उन महिलाओं के लिए होती हैं, जो मेनोपौज से गुजर चुकी होती हैं, जिन के शरीर में प्राकृतिक रूप से ऐस्ट्रोजन बनना बंद हो चुका होता है उन की योनि की प्राकृतिक नमी भी खत्म हो चुकी होती है. यह स्थिति 45 से 50 साल की उम्र के बाद ही कुछ महिलाओं में देखने को मिलती है. उस शुष्क हुई योनि की अंदरूनी सतह में कोशिकीय भरणपोषण और तरलता लौटाने में ऐस्ट्रोजन युक्त क्रीम उपयोगी सिद्ध होती है. आप के मामले में जरूरत योनि की ढीली हुई पेशियों में फिर से पहले जैसी चुस्ती लौटाने की है. इस के लिए नियम से श्रोणि पेशियों का व्यायाम करें. यह व्यायाम बिलकुल सरल है. आप इसे लेटे हुए, बैठे हुए या खड़े हुए किसी भी मुद्रा में कर सकती हैं. बस, श्रोणि पेशियों को इस प्रकार सिकोड़ें और भींच कर रखें मानो मूत्रत्याग की क्रिया पर रोक लगा रही हैं. 10 की गिनती तक श्रोणि पेशियों को भींचे रखें और फिर उन्हें ढीला छोड़ दें. अगले 10 सैकंड तक श्रोणि पेशियों को आराम दें. इस के लिए 10 तक गिनती गिनें. यह व्यायाम पहले दिन 10-12 बार दोहराएं. फिर धीरेधीरे बढ़ाते हुए सुबहशाम 20-25 बार करने का नियम बना लें. 2-3 महीनों के भीतर ही आप योनि की पेशियों को फिर से कसा हुआ पाएंगी.