गृहशोभा विशेष

मैं बैंगलुरु की एक एमएनसी में कार्यरत 42 वर्षीय पुरुष हूं. पिछले कुछ समय से मुझे अनियमित रूप से दिल धड़कने का एहसास हो रहा है. मुझे कई बार सांस लेने में तकलीफ तथा चक्कर आने का भी अनुभव होता है. क्या ये सब हार्ट अटैक के लक्षण हैं?

दिल के अनियमित रूप से धड़कने या दिल की हर बीमारी का ताल्लुक हार्ट अटैक से नहीं होता. सांस लेने में तकलीफ या चक्कर आने जैसे लक्षण, खासकर अनियमित रूप से दिल का धड़कना एस्थिमिया के संकेत हैं. एस्थिमिया के मरीजों में दिल धड़कने की दर असामान्य रूप से अनियमित हो जाती है.

मेरे 65 वर्षीय पिता का इंजैक्शन फ्रैक्शन गिर कर 40% हो गया है. क्या इस उम्र में सर्जरी कराना उचित रहेगा?

सामान्य स्थिति में इंजैक्शन फ्रैक्शन दर 60 से 70% रहती है. आप के पिता को किसी कार्डियोलौजिस्ट से संपर्क करना चाहिए, जो उन्हें इंप्लांटेबल कार्डियोवर्टर डिफाइब्रिलेटर (आईसीडी) प्रत्यारोपित कराने या रेडियोफ्रिक्वैंसी एब्लेशन कराने की सलाह दे सकते हैं. स्थिति बिगड़ने से

पहले तत्काल उपाय करना जरूरी है, क्योंकि आगे यह और घातक हो सकती है.

मेरी बहन कई बार बहुत ज्यादा थक जाती है और बेहोशी की स्थिति में पहुंच जाती है. अकसर वह सही तरीके से सांस भी नहीं ले पाती. वह सिर्फ 16 साल की है. क्या इस उम्र का व्यक्ति एस्थिमिया से पीडि़त हो सकता है?

एस्थिमिया का उम्र से कोई लेनादेना नहीं है और यह किसी को भी हो सकता है. चक्कर आना, अत्यधिक थकान, सांस लेने में तकलीफ, व्यायाम करने में असमर्थता, सीने में दर्द और बेहोशी की स्थिति एस्थिमिया के लक्षण हो सकते हैं और ऐसे हालात में दिल की धड़कनें भी अनियमित हो सकती हैं. कुछ प्रकार के एस्थिमिया नुकसानरहित होते हैं लेकिन बाद में ये जानलेवा भी हो सकते हैं. किसी को भी दिल की असामान्य धड़कनों की शिकायत को अनदेखा नहीं करना चाहिए क्योंकि इस से दिल की धड़कनें पूरी तरह से रुक जाने का भी खतरा रहता है.

दिल की अनियमित धड़कनों की समस्या से नजात पाने में इंप्लांटेबल कार्डियोवर्टर डिफाइब्रिलेटर (आईसीडी) कितना मददगार है? क्या इस तरह के डिवाइस पर बहुत ज्यादा खर्च करना पड़ता है?

आईसीडी दिल की धड़कन दर पर निरंतर निगरानी रखते हुए स्वत: काम करता है और वैंट्रिकुलर टेकीकार्डियो तथा वैंट्रिकुलर फाइब्रिलेशन घटनाएं शुरू होते ही इन का पता लगा लेता है. वैंट्रिकुलर टेकीकार्डियो तथा वेंट्रिकुलर फाइब्रिलेशन घटनाओं का पता लगाने के तत्काल बाद ही आईसीडी कम ऊर्जा की इलैक्ट्रिकल नब्ज या इलैक्ट्रिक शौक के रूप में उपचार शुरू कर देता है ताकि मरीज को नुकसान पहुंचाने से पहले एस्थिमिया से बचाया जा सके. कई प्रकार के आईसीडी उपलब्ध हैं, मसलन सिंगल चैंबर तथा डबल चैंबर आदि.

खराब लाइफस्टाइल के कारण दिल संबंधी बीमारियां एक बड़ी समस्या बनती जा रही है. आजकल तो 20 वर्ष की उम्र वाले युवाओं में भी दिल की बीमारियां होने लगी हैं. मेरी उम्र 26 साल है. दिल की बीमारियों से बचने के लिए मुझे किस प्रकार की सावधानियां बरतनी चाहिए?

कुछ खास प्रकार के लाइफस्टाइल आप के उच्च रक्तचाप और कोलैस्ट्रौल स्तर को कम कर सकते हैं तथा दिल की बीमारियों की चपेट में आने की आशंका को कम कर सकते हैं. आप को धूम्रपान तथा अल्कोहल के सेवन से बचना चाहिए. कई युवा नियमित व्यायाम को अहमियत नहीं देते. कुछ युवा तो किसी तरह का शारीरिक श्रम भी नहीं करना चाहते. व्यायाम न करने की इस आदत को बदलना चाहिए. आप को नियमित रूप से व्यायाम या प्रतिदिन 45 मिनट तक तेज कदमों से चलने की आदत डालनी होगी. इस के अलावा तनाव दूर करने के लिए कोई शौक पालना दिल के लिए अच्छा होता है.

किसी व्यक्ति के एस्थिमिया से पीडि़त होने के क्या लक्षण हो सकते हैं? क्या समय पर इस का इलाज नहीं कराना घातक साबित हो सकता है?

चक्कर आना, अत्यधिक थकान, सांस का फूलना, व्यायाम करने की असमर्थता, सीने में दर्द तथा बेहोश होने के लक्षण एस्थिमिया के संकेत हो सकते हैं. कुछ प्रकार के एस्थिमिया नुकसान नहीं पहुंचाते, लेकिन कुछ प्रकार के एस्थिमिया घातक हो सकते हैं. आप को दिल की अनियमित धड़कनों की कमी अनदेखी नहीं करनी चाहिए, क्योंकि इस वजह से दिल की धड़कन पूरी तरह से थम भी सकती है.

मुझे 10 साल पहले 19 साल की उम्र में ही धूम्रपान की लत लग गई थी और अब चेन स्मोकर हो गया हूं. धूम्रपान से दिल की समस्याओं का खतरा कितना बढ़ सकता है?

धूम्रपान से दिल की समस्याएं बढ़ जाती हैं. तंबाकू के इस्तेमाल से रक्त थक्का बनने की संभावना बढ़ जाती है और रक्त द्वारा औक्सीजन संचारित करने की दर कम हो जाती है. दिल की आर्टरीज में कहीं भी रक्त थक्का जमने से कई तरह की दिल की बीमारियां बढ़ सकती हैं और स्ट्रोक भी हो सकता है. चेन स्मोकिंग की लत और ज्यादा खतरनाक है, लिहाजा, अच्छी सेहत रखने के लिए आप को धूम्रपान कम कर देना चाहिए.

-डा. वनीता अरोड़ा

मैक्स हौस्पिटल, साकेत में कार्डियक इलैक्ट्रोफिजियोलौजी लैब ऐंड एस्थिमिया सर्विसेज की प्रमुख और ऐसोसिएट डायरैक्टर.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं