आज ऐसे बहुत से लोग हैं जो कमर दर्द (बैक पेन) की शिकायत से परेशान हैं. यह कमर के निचले हिस्से में होता है, इसलिए इसे लो बैक पेन भी कहा जाता है. अकसर बैक पेन में लोगों को सुबह-शाम या दिनभर कमर दर्द होता है. इस समस्या में चलने-फिरने और उठने में भी दिक्कत होती है. कुछ लोगों को कमर दर्द के साथ एड़ियों और मांस पेशियों में सूजन की भी शिकायत होती है. कुछ को कमजोरी तो किसी को कमर दर्द के साथ-साथ यूरिन में ब्लड आने की शिकायत भी हो जाती है.

कारण

इस समस्या का मुख्य कारण ज्यादा देर तक बैठे-बैठे या खड़े होकर काम करना, शरीर का कमजोर होना, अनियमति जीवनशैली, नरम गदों पर सोने और औफिस या घर पर भारी वजन उठाने की वजह से हो सकती है. इसके अलावा मधुमेह या हाइपरटेंशन वाले रोगियों को भी कमर दर्द की आशंका रहती है.

आइए आज हम आपको बैक पेन की समस्या में काम आने वाले घरेलू उपायों के बारे में बताते हैं.

अदरक: अदरक को कमर दर्द में आराम पाने के लिए औषधि की तरह असरदायक माना जाता है. इसमें मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेटरी कंपाउंड्स लो बैक पेन में राहत पहुंचाते हैं. इसके इस्तमाल के लिए आधा चम्मच काली मिर्च, डेढ़ चम्मच लौंग पाउडर और एक चम्मच अदरक का पाउडर मिलाकर हर्बल टी बनाकर पिएं.

तुलसी: एक कप पानी में 8-10 तुलसी की पत्तियां डालकर तबतक उबालें जबतक कि यह उबलकर आधा न हो जाए. अब इसके ठंडा होने के बाद इसमें एक चुटकी नमक डालकर रोजाना पिएं. इससे कमर दर्द में लंबे समय के लिए आराम मिलने लगेगा.

आइस पैक: बर्फ की ठंडी तासीर दर्द और सूजन को कम करने में कारगर उपायों में से एक है. तो जब आपको कमर में दर्द हो रहा हो तो बर्फ से सिकाई करें इससे थोड़ी देर के लिए वह हिस्सा सुन्न भी कर देगा और आपको आराम महसूस होगा. या बर्फ को कूटकर एक कपड़े में बांध लें और इसे दर्द वाली जगह पर 10 से 15 मिनट के लिए रख दें. ऐसा इसे हर दो घंटे में दोहराएँ. आपको जल्द ही दर्द से छुटकारा मिलता महसूस होगा.

दूध: दूध कैल्शियम का स्रोत है जो हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाये रखने में मदद करता है. शरीर में कैल्शियम की कमी के कारण भी कमर दर्द की समस्या होती है. इसलिए दूध का नियमित रूप से सेवन करें. और यदि मीठे की जरूरत महसूस हो तो शहद मिलाकर पिएं.

योगा: योगा शरीर को फिट रखने और तनाव से छुटकारा पाने के लिए लाभकारी होता है. हर रोज नियमित रूप से सुबह शाम योग करने से बैक पेन की परेशानी दूर हो जाती है. आप योग में पवनमुक्तासन, हस्तपादासन, सुखासन, हस्तपादासन, सुखासन के अलावा भुजंगासन और धनुरासन भी कर सकते हैं.

मसाज: मसाज थेरेपी लुम्‍बर बैक पेन में फायदेमंद है. एक अध्‍ययन से भी साफ हो चुका है कि मसाज लुम्‍बर बैक पेन के उपचार में कारगर है. मसाज कराने वाले लोगों को 10 हफ्ते में काफी राहत मिली है.