सर्द हवाएं अपने साथ कई तरह की बिमारियां साथ लेकर आती हैं. इस दौरान जरा सी लापरवाही आपको सर्दी की गिरफ्त में ला सकती है. ऐसे में आपको अपना बचाव करने की जरूरत है. सर्दियों में जुकाम-खासी होना बेहद हा आम बात है, लेकिन यदि समय रहते इनका उपचार नहीं किया जाए तो यह आपकी सेहत पर भारी पड़ सकता है. इससे बचने के लिए दवाओं के सेवन की बजाय यदि आप घरेलू नुस्खे इस्तेमाल करें तो आपके लिए ज्यादा फायदेमंद साबित होंगे.

गर्म पानी का सेवन और गरारे

गर्म पानी पीने से कफ कम होने के साथ ही आपको गले की खराश से भी राहत मिलेगी. सर्दी होने पर दिन में तीन से चार बार गर्म पानी का सेवन करें. बेहतर होगा कि खाने के बाद भी गर्म पानी ही पीये. आप सर्दी से ज्यादा परेशान हैं तो गर्म पानी में नमक मिलाकर सुबह-शाम गरारे करें.

हल्दी का दूध

रात को सोने से पहले गर्म-गर्म हल्दी दूध सर्दी-जुकाम में आराम देता है. इसे लेने के बाद ठंडा पानी न पिएं.

सरसों का तेल

एक चम्मच सरसों के तेल को हल्का गुनगुना करके इसमें से चार बूंद सरसों के तेल को सोते समय नाक के छिद्रों में डाल लें. ऐसा करने के बाद सुबह उठने पर आपको जुकाम से काफी हद तक आराम मिलेगा. लगातार दो से तीन दिन ऐसा करने से राहत मिलेगा.

अदरक व नींबू

एक कप पानी में अदरक, दो काली मिर्च और दो लौंग पकाएं. इसमें आधा नींबू मिला लें. दिन में कम से कम तीन बार इसका सेवन करें. इसके अलावा दो चम्मच शहद और एक चम्मच नींबू के रस को एक ग्लास गुनगुने पानी या फिर गर्म दूध में मिलाकर पीने से भी सर्दी में आराम मिलता है.

पुदीना और तुलसी

तुलसी का तासीर बेहद गर्म होती है. कफ की परेशानी होने पर तुलसी के पत्तों का रस निकालकर इसमें शहद मिलाकर पीने से आराम मिलेता है. इसके अलावा पुदीने और तुलसी के पत्तों से बनी चाय भी आपके गले और नाक को साफ कर देगी. अगर आप चाहें तो इसमें काली मिर्च और लौंग भी डाल सकती हैं.

पान के पत्ते का पानी

यदि छोटे बच्चे को कफ की परेशानी है तो पान के पत्ते को एक ग्लास पानी में उबाल लें. इस पानी को बच्चे को दो-दो चम्मच दिन में तीन से चार बार दें. इससे कफ मल के रास्ते बाहर निकल जाएगा. इसके सेवन से बच्चे को कफ में काफी राहत मिलता है.

लहसुन का सूप

लहसुन की फलियों को छीलकर हल्का पीस लें. अब इन्हें एक कप पानी में डालकर कुछ देर तक उबालें. आधा कप बचने पर इसे छानकर पी लें. इससे सर्दी की समस्या में आराम मिलेगा.

भाप

नाक बंद होने और गले में खराश होने की स्थिति में स्टीम वेपोराइजर से ली गई भाप आपको तुरंत राहत देती है. भाप आपके नेजल ट्रेट में मौजूद कीटाणुओं को खत्म करती है. पर ध्यान रखें भाप लेते वक्त पानी ज्यादा गर्म न हो.

Tags: