गृहशोभा विशेष

समर सीजन में जरा सी लापरवाही आप को गंभीर बीमारियों का शिकार बना सकती है. कुछ हैल्थ प्रौब्लम्स इस मौसम में कौमन होती हैं. आइए, जानते हैं कि क्या हैं वे और कैसे बचें उन से:

सनबर्न

सनबर्न इस सीजन की आम समस्या है. धूप में ज्यादा रहने के कारण अल्ट्रावायलेट किरणों के संपर्क में आने से त्वचा के टिशूज जल जाते हैं. सनबर्न के कुछ लक्षण हैं जैसे त्वचा का लाल होना, हलका चक्कर आना और थकान महसूस होना. अगर सनबर्न यूवी किरणों के कारण है तो यह त्वचा कैंसर का कारण भी बन सकता है.

बचाव: खुद को सनबर्न से बचाने के लिए बाहर जाने से 20 मिनट पहले शरीर के खुले हिस्सों पर सनस्क्रीन लोशन लगाएं.

हीटस्ट्रोक यानी लू लगना

हीटस्ट्रोक हाइपरथर्मिया का गंभीर रूप है. शरीर में बहुत ज्यादा गरमी अवशोषित होने के कारण ऐसा होता है. इस का इलाज न करना घातक साबित हो सकता है. इस के कुछ लक्षण हैं -सांस लेने में परेशानी, पल्स बढ़ना, शरीर का तापमान बढ़ना, भ्रमित महसूस करना आदि.

बचाव: दोपहर 11 से शाम 4 बजे के बीच जहां तक हो सके घर के भीतर ही रहें. अगर इस दौरान बाहर जाना ही पड़े तो चेहरे और शरीर को स्टोल से अच्छी तरह ढक लें.

घमौरियां

इस में ज्यादा तापमान के कारण त्वचा पर लाल रैशेज हो जाते हैं. पसीने की ग्रंथियों के छेद बंद हो जाने से भी ऐसा हो सकता है.

बचाव: प्रभावित हिस्से पर प्रिक्ली हीट पाउडर लगाएं. शरीर के उन हिस्सों पर जहां पसीना ज्यादा आता है, प्रिक्ली हीट पाउडर इस्तेमाल करें. अगर फिर भी लक्षण दिखाई दें तो तुरंत डाक्टर की सलाह लें.

फूड पौइजनिंग

इन दिनों ज्यादा गरमी के कारण भोजन जल्दी खराब हो जाता है. इसलिए हमेशा ताजे खाद्य एवं पेयपदार्थों का ही सेवन करें. अगर आप भोजन को कुछ समय के लिए रखना चाहते हैं तो पूरी सावधानी बरतें. फूड पौइजनिंग आमतौर पर खराब हो चुके भोजन या दूषित पानी के सेवन से होती है. इस के लक्षण हैं- पेट में दर्द, उलटी आना, डायरिया आदि. अत: कच्चे मांस, सड़क किनारे बेचे जाने वाले खुले भोजन का सेवन कतई न करें, क्योंकि इस के खराब होने की संभावना बहुत अधिक होती है.

बचाव: बचे भोजन को हमेशा फ्रिज में रखें. भोजन को अच्छी तरह पकाएं. खाने से पहले देख लें कि यह खराब तो नहीं हो गया है. फल और सब्जियां खरीदते समय ध्यान दें कि इन से किसी तरह की गंध तो नहीं आ रही है.

डायरिया

गरमी के मौसम में भोजन जल्दी दूषित होता है, इसलिए इस मौसम में डायरिया की संभावना अधिक होती है.

बचाव: डायरिया से बचने के लिए पानी को हमेशा उबाल कर पीएं. सब्जियों को काटने से पहले और बाद में अच्छी तरह धो लें. शरीर में तरल की कमी न होने दें.

पानी से फैलने वाले रोग

हम गरमियों में पानी में ज्यादा समय बिताना पसंद करते हैं. इस से बैक्टीरियल इन्फैक्शन फैलने की संभावना अधिक होती है. पाचनतंत्र संबंधी बीमारियां नदी, झील, पूल आदि के माध्यम से फैल सकती हैं. इस के अलावा इस से त्वचा, कानों और आंखों का संक्रमण, श्वसन, न्यूरोलौजिकल और वायरल बीमारियां भी फैलती हैं.

बचाव: साफ पेयजल का सेवन करें. ध्यान रखें कि जिस स्विमिंग पूल में आप जाते है वहां हमेशा क्लोरीन सही मात्रा में डाली जाती हो.

समर कोल्ड

एक तरह का वायरस ऐसी बीमारी पैदा करता है कि आप गरमियों में भी ठंड लगने जैसे लक्षण महसूस करते हैं. इसे ऐंट्रोवायरस कहा जाता है. इस के लक्षण हैं -सिर में दर्द, गले में खराश, मुंह सूखना, रैशेज आदि.

बचाव: आमतौर पर लक्षणों के अनुसार इलाज किया जाता है. ऐसे में फौरन चिकित्सक से संपर्क करें.

क्या खाएं क्या नहीं: खाने के लिए स्वादिष्ठ और सेहतमंद आहार के बहुत से विकल्प हैं. समर में मिलने वाली कई फलसब्जियां सेहत के लिए बहुत अच्छी मानी जाती हैं. इस मौसम में आप को सिट्रस फलों, तरबूज, कच्ची सब्जियां, मछली, ठंडा सूप, सफेद योगर्ट, अंडा, स्मूदी आदि का भरपूर सेवन करना चाहिए. इन के अलावा इस मौसम में ज्यादा कैफीन, कार्बोनेटेड पेयपदार्थों, अलकोहल और ज्यादा चीनी युक्त पदार्थों के सेवन से बचें.

खूब पानी पीएं: पानी शरीर को ठंडा रखता है. हवा में नमी होने के कारण पसीना जल्दी नहीं सूखता. इसलिए चाहे आप को प्यास न लगे तो भी थोड़ीथोड़ी देर बाद पानी पीते रहें.

ऐसा आहार लें जो फाइबरयुक्त हो. आसानी से पचने वाले भोजन का सेवन करें. गरम, तले, मसालेदार भोजन का सेवन न करें.

– डा. आर एस के सिन्हा, जनरल फिजिशियन, सीनियर कंसल्टैंट, जेपी हौस्पिटल, नोएडा

VIDEO : हाउ टू अप्लाई अ ब्यूटीफुल फंकी न्यूड नेल आर्ट

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

 

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं