पसीना निकलना शरीर की स्वाभाविक क्रिया है. पसीना आना स्वास्थ्य के लिए जरूरी है, पर पसीने में दुर्गंध अच्छा लक्षण नहीं है. कई लोगों के पसीने की दुर्गंध इतनी तेज होती है कि उनके पास बैठना मुश्किल हो जाता है. पसीने की दुर्गंध से आप खुद तो परेशान होती ही हैं, दूसरे भी दुखी रहते हैं. पसीने में बदबू के कई कारण हैं.

तनाव

तनाव में होने पर शरीर से कार्टिसोल नामक हार्मोन निकलता है. ज्यादा पसीना निकलने की वजह से वह बैक्टीरिया के संपर्क में आता है, जिसकी वजह से पसीने से बदबू आती है.

सिंथेटिक कपड़े

सिंथेटिक कपड़े पसीना नहीं सोखते, बल्कि गरमी को बढ़ाते हैं, जिससे पसीना अधिक आता है. पॉलिएस्टर वाले कपड़े पहनने वाले लोगों को सूती कपड़े पहनने वाले लोगों की अपेक्षा अधिक पसीना आता है. इसलिए गरमी में पौलिएस्टर के कपड़े नहीं पहनने चाहिए. इन कपड़ों में पसीना सोखने की क्षमता नहीं होती है. अधिक पसीना आने पर कपड़े पर पसीना चिपका रहता है और वह अधिक दुर्गंध देता है.

शरीर में पानी की कमी

विशेषज्ञों का मानना है कि जो लोग पानी कम पीते हैं उनके पसीने से ज्यादा बदबू आती है.

इत्र का उपयोग

क्या आपको मालूम है कि जो इत्र आप खुशबू और पसीने की बदबू मिटाने के लिए लगाते हैं, उसकी वजह से भी पसीने से बदबू आती है. कुछ इत्र ऐसे होते हैं, जिनमें एंटी-बैक्टीरियल गुण नहीं होते, जिससे बैक्टीरिया अधिक बढ़ जाता है और वह पसीने की बदबू का कारण बनता है.

ज्यादा दवाइयां खाना

जो लोग दवाइयां ज्यादा खाते हैं, उनके पसीने से भी दुर्गंध आती है. दवाइयों में रासायनिक तत्त्व शामिल होते हैं. शरीर का पसीना और दवाइयों की दुर्गंध मिल कर बदबू में बदल जाती है.

पोषण की कमी

अगर शरीर को संतुलित मात्रा में पोषण नहीं मिलता, तो उससे भी पसीने से बदबू आती है. दरअसल, अगर आपके खानपान में मैग्नीशियम नहीं है तो उसकी कमी की वजह से भी पसीने से बदबू आती है.

स्वस्थ आहार

पोषण में कमी की वजह से भी पसीने से बदबू आती है, इसलिए स्वस्थ आहार का सेवन करना चाहिए. इससे शरीर को सभी तरह के पोषक तत्त्व मिलते रहते हैं और पसीने से बदबू नहीं आती.

बेसन और दही का उबटन

शरीर को ठंडा रखने के लिए पसीना जरूरी भी होता है, लेकिन पसीने से बदबू आने लग जाए तो यह परेशानी का सबब बन जाता है. अगर ज्यादा पसीना आता है और वह बदबूदार है तो आप उससे छुटकारा पा सकते हैं. रोज नहाने के बाद दही और बेसन का उबटन बना कर लगाएं. इससे रोम छिद्र खुल जाते हैं.

कसरत से बनेगी बात

पसीने की बदबू से बचने के लिए नियमित कसरत करना न भूलें. इससे आपके शरीर का दूषित जल निकल जाएगा और दिन भर पसीने से बदबू नहीं आएगी.

ठीक से नहाएं

कई बार काम के दबाव के कारण हम ठीक से नहाते भी नहीं हैं, जिससे शरीर का मैल ठीक से साफ नहीं हो पाता है. जब शरीर के रोम छिद्र बंद होंगे तो पसीना कम निकलेगा और उससे बदबू आएगी. शरीर के मैल में कई तरह के बैक्टीरिया पलते रहते हैं, उन्हें ठीक से धोकर साफ करना बहुत जरूरी होता है. इसलिए रोज ठीक से नहाएं.

साफ कपड़े पहनें

बहुत से लोगों की आदत होती है कि भयंकर गरमी में भी न तो रोज नहाते हैं और न कपड़े बदलते हैं. एक ही कपड़े को दो या तीन दिन तक पहनने से पसीने में कपड़े की दुर्गंध आने लग जाती है. इसलिए जरूरी है कि नियमित साफ कपड़े पहने जाएं.

सूती वस्त्र पहनें

सूती कपड़ों में पसीना सोखने की क्षमता होती है. वे गरमी पैदा नहीं करते. इसलिए गरमी में सूती कपड़े ही पहनें. खासकर मोजे सूती ही पहनें. नॉयलान के मोजे बदबू पैदा करते हैं.

Tags: