अगर आप गर्भधारण करने की सोच रही हैं, तो उस से पहले कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना न भूलें:

खानपान का रखें ध्यान: अगर आप गर्भधारण करने का प्लान कर रही हैं, तो गर्भधारण करने से 3 महीने पहले से पौष्टिक खाना खाने की आदत डालें. प्रोटीन, आयरन, कैल्सियम और फौलिक ऐसिड प्रचुर मात्रा में लें. फल, सूखे मेवे, हरी सब्जियां, अनाज, कम वसा वाले डेयरी उत्पाद खाने की आदत डालें. चिप्स, भुनी चीजें, सोडा तथा कैलोरी वाले खाने से बचें.

वजन संतुलित हो: जहां बहुत अधिक दुबला होना गर्भधारण करने में समस्या पैदा करता है, वहीं अधिक मोटा होना भी मधुमेह तथा उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियां दे कर मुश्किलें बढ़ा सकता है. ऐसे में नियमित रूप से हलके व्यायाम करना स्वस्थ गर्भधारण में मददगार होता है. व्यायाम किसी विशेषज्ञा की देखरेख में करें तो ज्यादा बेहतर होगा. टहलना, साइकिल चलाना, स्विमिंग आदि व्यायाम के अच्छे विकल्प हैं.

बेबी बजट बनाएं: इस के लिए अभी से योजना बनाना शुरू कर दें. बेबी फूड, डायपर्स, बच्चे की डाक्टरी जांच, उस की देखभाल आदि की जानकारी लेनी शुरू कर दें. मातृत्वपितृत्व की भूमिका अच्छी तरह निभा पाने के लिए अपना आर्थिक पक्ष मजबूत करें. मैडिकल तथा लाइफ इंश्योरैंस पौलिसीज की जानकारी लें. गर्भधारण करने से पहले अपने डाक्टर, प्रसूति विशेषज्ञा से जरूर सलाह लें.

गर्भधारण करने से 3 महीने पहले से फौलिक ऐसिड लेना शुरू कर दें. यह तंत्रिका नाल के दोषों को दूर करता है, जो मस्तिष्क तथा रीढ़ की हड्डी के गंभीर दोषों का कारण बनते हैं. किशोरावस्था से ही 400 माइक्रोग्राम फोलिक ऐसिड प्रतिदिन लेने की सलाह दी जाती है. 

कौफी से करें परहेज: डाक्टर गर्भधारण करने से पहले और गर्भावस्था के दौरान दिन में 200 मिलीग्राम कैफीन ही लेने की सलाह देते हैं.

शराब के सेवन से बचें: गर्भावस्था के दौरान शराब पीने से बच्चे में जन्मजात विकृतियां आ सकती हैं और उस की सोचनेसमझने की शक्ति भी प्रभावित हो सकती है. अत: इस के सेवन से बचें.

धूम्रपान न करें: अगर आप को धूम्रपान की आदत है तो उसे अभी से छोड़ दें. वरना धूम्रपान गर्भधारण करने में दिक्कतें पैदा कर सकता है. गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान करने से बच्चा समय से पहले पैदा हो सकता है, उस का वजन कम हो सकता है. यहां तक कि गर्भपात भी हो सकता है. इसलिए आप ही नहीं, बल्कि अपने साथी को भी इसे छोड़ने की सलाह दें, क्योंकि आप के आसपास दूसरों द्वारा किया गया धूम्रपान भी खतरनाक है.

टीके: अब टीकाकरण सिर्फ बच्चों के लिए ही नहीं रह गया, यह गर्भवती महिलाओं के लिए भी है. गर्भधारण से कम से कम 1 माह पहले रूबेला और चेचक का टीका जरूर लगवा लें.

फैमिली हिस्ट्री: अपने परिवार के इतिहास को ध्यान में रखते हुए संभावित बीमारियों के लिए जैनेटिक टैस्टिंग कराएं. उच्च रक्तचाप, अस्थमा, मधुमेह आदि के रोगी होने पर गर्भधारण से पहले डाक्टरी जांच जरूर करवाएं.

गर्भधारण करने के लिए अधिक उम्र का इंतजार न करें.

अपना कोई खास शौक अपनाएं, जिस में सप्ताह में 1 या 2 दिन कम से कम 20 मिनट आप अपने लिए आराम से गुजार सकें.

गर्भावस्था और पेरैंटिंग पर आधारित किताबें पढ़ें और फिल्में देखें.

अपनी मां या गर्भधारण कर चुकीं परिवार की अन्य महिलाओं से गर्भावस्था के दौरान के उन के अनुभव जानें. प्रसवपीड़ा और प्रसव के दौरान लेने वाली दवाओं आदि पर चर्चा करें. टीकाकरण और बाल पोषण पर भी चर्चा करें. अपने ब्लडग्रुप की जांच करवाएं.               

-डा. नूपुर गुप्ता
कंसल्टैंट औब्स्टेट्रिशियन ऐंड गाइनेकोलौजिस्ट, निदेशक, वैल वूमन क्लीनिक, गुड़गांव

Tags: