गृहशोभा विशेष

फैस्टिवल सीजन में किचन का काम अचानक बढ़ जाता है. घर में अचानक मेहमान आ जाएं और झटपट खाना तैयार करना हो, तो निम्न टिप्स अपना कर मेहमानों की तारीफ सुने बिना नहीं रह पाएंगी:

अंडे झटपट उबालने हों तो कुकर में 1 कप पानी 1 चुटकी नमक के साथ अंडे चढ़ा दें.

1-2 सीटियां आने पर उतार कर 2-3 मिनट यों ही रहने दें. फिर ढक्कन खोलें. छिलके भी बड़ी आसानी से उतर जाएंगे.

आलुओं को अच्छी तरह धो लें. फिर चाकू से छिलके सहित पतलेपतले स्लाइस काट लें. फिर उन्हें चुटकी भर सोडा डाल कर चटपटे बेसन के घोल में 1-1 कर के चम्मच से डिप करें और गरम तेल में डीप फ्राई कर लें. कम समय में बेहद कुरकुरे पकौड़े तैयार हैं.

छोले बनाने हैं तो उन में थोड़ी अजवाइन और थोड़ी चना दाल डालना न भूलें. अजवाइन पेट नहीं दुखने देगी और चना दाल गाढ़ी ग्रेवी के लिए बढि़या रहेगी.

चीजें कई बनानी हों और राजमा भीगे हुए हों, तो आप सारे मसाले, टमाटर, तेल, नमक, पानी के साथ राजमा कुकर में चढ़ा दें. अब आराम से दूसरी चीजें बनाएं. आधे घंटे बाद खोल कर देखें. कुछ कसर हो तो थोड़ा पानी डाल कर 10 मिनट के लिए फिर चढ़ा दें. यह आइटम तो तैयार ही समझो. बस धनियापत्ती बुरकना ही बाकी है.

1 कटोरी चावल में 1 कटोरी पानी और सिर्फ 2 सीटियां. बस चावल तैयार. कुकर को प्रैशर निकलने के बाद खोलें.

ग्रेवी गाढ़ी करने के लिए, उबले मसले आलू, थोड़ा भुना बेसन, काजू अथवा अंडे का पीला भाग झटपट काम करता है.

4 बड़े उबले आलुओं में 2 ब्रैडस्लाइस, चौथाई कप कटा हुआ बारीक अदरक, हरीमिर्च, धनियापत्ती व प्याज और चौथाई कप दूध मिला कर लंबे कटलेट्स का आकार दे कर सुबह ही फ्रिज में रख दें. मेहमानों के आने पर फटाफट फ्राई कर उन्हें चाय के साथ पेश कर चौंका दें.

परांठे की स्टफिंग गीली हो तो थोड़ा आटा उस में मिला लें. आटा गूंधने के लिए 1 कटोरी आटा 1/2 कटोरी पानी से थोड़ा अधिक का अनुपात रखें.

दलिया, सूजी पहले से ही भून कर रखें ताकि कभी भी तुरंत बनाए जा सकें. डिशआउट करने से पहले व्यंजन चख अवश्य लें ताकि कोई कमी हो तो दूर की जा सके.

गुलाबजामुन या रसगुल्ले का शीरा पड़ा हो तो हलवे, खीर या सेंवई में इस्तेमाल कर लें. काम भी जल्दी हो जाएगा और बढि़या भी.

गाजरें पड़ी हों और अचानक मेहमान आ धमकें तो उन्हें फटाफट धो कर बड़ेबड़े टुकड़े काट कर चौथाई कप तेल और चौथाई कप पानी डाल कर कुकर में चढ़ा दें. मीडियम आंच पर 2-3 सीटियां आने दें. प्रैशर निकलने पर मैशर से दबा लें. मावा, देशी घी डाल कर 5 मिनट भून लें. आंच बंद कर चीनी/शीरा, कटे मेवे, इलायची मिलाएं. काजू या बादाम के टुकड़ों से सजा कर सर्व करें.

साग छांट कर हमेशा गहरे बरतन में धोएं ताकि मिट्टी नीचे बैठ जाए और पत्ते भी इधर उधर गिरे नहीं. पत्तों को नल के नीचे धो कर अलग हटाती जाएं.

टीवी देखते समय धुली सब्जियां छील, काट लें. साग चुनने का बोरिंग काम भी उस समय कर डालें. लहसुन, प्याज, अदरक भी छील व काट कर रख लें. नमक ज्यादा पड़ गया हो तो आटे की छोटी गोली उबलती ग्रेवी में डाल दें. थोड़ा अमचूर और चीनी भी नमक की तेजी को कम करती है.

2 चुटकी अमचूर, 4 चुटकी चीनी, 1 चम्मच गरम किया देशी घी, सब्जी को और टेस्टी बना देगा. पर ध्यान रखें हार्ट पेशैंट घर में हों तो देशी घी न डालें.

सेबों का फ्रैश जूस निकालना हो और आप जूसर की सफाई के झंझट से बचना चाहती हैं, तो सेबों को रात भर फ्रीजर में रहने दें. सुबह धूप में रख दें. सेब का रस आराम से निकल जाएगा.

मसाला भूनते समय छोटा चम्मच दही भी सब्जियों का स्वाद बढ़ा देता है. गरम तेल में तड़का डाल कर आंच बंद कर दें. थोड़ा ठंडा होने पर सब्जी डालें. इस से खुशबू उड़ेगी नहीं बनी रहेगी. जलने का खतरा भी नहीं होगा, साथ ही छींटों की गंदगी भी नहीं होगी.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं