सर्दीयों का मौसम है पर बिजली की कमी तो हमेशा ही खलती है. बैकअप पर बिजली मिल तो जाती है लेकिन इतनी महंगी कि बल्ब जलाने में भी डर लगता है. इस डर को दूर करने का सबसे बेहतरीन विकल्प है सोलर एनर्जी.

आप सोच रहे होंगे कि सोलर पैनल लगाने के लिए तो काफी जगह की जरूरत होगी और आज के समय में जगह की ही तो सबसे ज्यादा कमी है. पर अब घबराने की जरूरत नहीं है. आप चाहें तो गमले के साइज में भी सोलर पैनल लगा सकते हैं. या यूं कहें कि सोलर ट्री उगा सकते हैं. डेढ़ फुट के गमले में आप ये सोलर ट्री आसानी से उगा सकते हैं.

यूं तो सोलर पैनल लगाने के लिए काफी जगह चाहिए होती लेकिन नई तकनीक की मदद से आप कम जगह में ज्यादा एनर्जी प्राप्त कर सकते हैं.

ये हैं वो वजहें जिनसे कम जगह में मिलती है ज्यादा एनर्जी:

– आमतौर पर पारंपरिक सौर ऊर्जा की एक SPV (solar photo voatic) प्लेट लगाने में प्रति किलो वॉट के लिए 100-125 स्क्वायर फीट जमीन की जरूरत होती है. इतनी जमीन की कीमत करोड़ों रुपये होती है. जबकि इस सोलर प्लांट को 1.5X1.5 फुट की जगह में ही फिट किया जा सकता है.

– पारंपरिक सोलर पार्क में एक किलोवाट ऊर्जा के लिए प्लेट लगाने की लागत 75 से 80 हजार रुपये आती है. हालां‍कि सोलर ट्री की लागत करीब एक लाख पंद्रह हजार से सवा लाख रुपये तक आती है लेकिन ये नहीं भूलना चाहिए कि इससे करोड़ों रूपये की जमीन की बचत होती है. जिसे दूसरे कामों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

– इसका रखरखाव काफी आसान है. इसे बनाने वालों ने इस पेड़ के मूल तने पर एक फव्वारा भी लगाया है. इसे पानी के पाइप से जोड़ देने पर फुहारें सभी प्लेटों की सफाई भी कर देती हैं.