गृहशोभा विशेष

मॉनसून के दस्तक देने के बाद बारिश का लुत्फ उठाने का आनंद ही कुछ और है, लेकिन बारिश का पानी जब घरों में घुस जाता है तो परेशानी का सबब बन जाता है. यही नहीं लीकेज कभी-कभी जबरदस्त नुकसान का कारण बन जाती है. ऐसे में यूपीवीसी दरवाजे और खिड़कियां इन परेशानियों को दूर कर सकती हैं.

यूपीवीसी (अनप्लास्टीसाइज्ड पॉलीविनइल क्लोराइड) के दरवाजों और खिड़कियों की स्टाइलिश रेंज में केसमेंट, टिल्ट एंड टर्न, स्लाइडिंग, लिफ्ट एंड स्लिड, टॉप हंग, स्लाइडिंग एंड फोल्डिंग शामिल हैं.

क्‍या है यूपीवीसी

यूपीवीसी ऐसी सामग्री है, जिसमें न तो किसी तरह की जंग लगती है, न ही ये गलती है. यह आपको और आपके परिवार को पूरी तरह से सुरक्षित रखती है. लकड़ी से बने दरवाजे गल जाते हैं और एलुमिनियम या स्टील के दवाजों में जंग लग जाता हैं, ये फास्टनर्स के साथ गैल्वेनिक प्रतिक्रिया करते हैं.

इन्हें रख रखाव की ज्यादा जरूरत होती है, साथ ही इनके कई अन्य साइड इफेक्ट्स भी हैं. वहीं यूपीवीसी के दरवाजे और खिड़कियां हवा, पानी, धूप आदि के लिए भी प्रतिरोधी है.

हर मौसम में उपयुक्‍त है यूपीवीसी

मॉनसून में खिड़कियों और दरवाजों के आस-पास नमी जमा होती है. इससे एलुमिनियम की खिड़कियों में जंग लगने लगती है, ऐसे में ये कम टिकाऊ होती हैं और इनके रखरखाव की लागत भी अधिक आती है. वहीं दूसरी ओर यूपीवीसी विंडो फ्रेम नमी रोधी होते हैं. ये हर मौसम के लिए उपयुक्त हैं. इनकी विशेष संरचना दरवाजों और खिड़कियों की भीतरी परतों को बारिश के पानी और हवा से सुरक्षित रखती है.

रीसाइकल किए जा सकते हैं दरवाजे-खिड़कियां

विंडो मैजिक की यूपीवीसी दरवाजे और खिड़कियां रीसाइकल किए जा सकते हैं. इनमें लेड स्टेबिलाइजर के बजाए कैल्सियम जिंक स्टैबिलाइजर होता है जिससे उत्पादन के दौरान हानिकर गैसें नहीं निकलती है और इसलिए पर्यावरण को भी नुकसान नहीं पहुंचाता. यूपीवीसी के पर्यावरण के अनुकूल फीचर्स को देखते हुए कहा जा सकता है विंडो मैजिक अपनी टैगलाइन ‘ग्रीन लाइन’ पर खरा उतरता है.

सस्‍ते पड़ते हैं यूपीवीसी फ्रेम

एलुमिनियम फ्रेम से तुलना करें तो यूपीवीसी फ्रेम सस्ते पड़ते हैं. साथ ही वे न तो गलते हैं, न ही इनमें जंग लगता है और न ही इनका रंग फीका पड़ता है. ऐसे में इनके रख रखाव की लागत बेहद कम होती है. ये फ्रेम टिकाऊ और तापरोधी एवं ध्वनिरोधी गुणों से युक्त हैं. इतना ही नहीं, ये उच्चस्तरीय सुरक्षा भी देते हैं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं