अपने मकान के लिए सुविधाएं जुटाने से पहले ज्यादा सोचविचार की आवश्यकता नहीं होती, परंतु यदि किराए के मकान में रह रहे हैं, तो कोई भी सामान लेने से पहले माथापच्ची करना जरूरी होता है. किराए के मकान में यदि समझदारी के साथ सुविधाएं जुटाई जाएं, तो शिफ्ंिटग के समय आने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है. जरूरी नहीं कि हर मकान एक जैसा ही हो, इसलिए फर्नीचर से ले कर इलैक्ट्रौनिक सामान तक सब कुछ ऐसा होना चाहिए कि किसी भी मकान में फिट हो सके और शिफ्ंिटग के समय टूटफूट का खतरा भी कम रहे.

सजावटी सामान

झूमर, लाइट्स एवं कंदील आदि बहुत नाजुक होते हैं. घर को सजाने के लिए इस सामान से परहेज करें, क्योंकि शिफ्ंिटग के समय इस के टूटने का खतरा सब से ज्यादा रहता है. कांच या चीनीमिट्टी के गमलों के बजाय मिट्टी के गमले लेना उचित रहता है, क्योंकि ये जल्दी टूटते नहीं और अगर टूट भी जाएं तो ज्यादा नुकसान नहीं होता.

बिजली के उपकरण

फ्रिज, टीवी, कंप्यूटर, पंखा व कूलर जैसे बिजली के आवश्यक उपकरणों के अलावा अन्य सामान, जैसे ए.सी., माइक्रोवेव, गीजर इत्यादि बहुत आवश्यकता पड़ने पर ही खरीदें. शिफ्ंिटग के दौरान ये महंगे उपकरण जल्दी खराब होते हैं और इन को ठीक करवाने में पैसा भी ज्यादा खर्च करना पड़ता है. इस के अलावा बिजली का बिल बढ़ाने में भी इन उपकरणों का खासा योगदान होता है.

वाहन

अपना मकान लेने तक यदि बहुत ज्यादा आवश्यकता न हो तो चौपहिया वाहन लेने से परहेज करें, क्योंकि अधिकतर किराए के मकानों में पार्किंग की सुविधा नहीं होती और पब्लिक पार्किंग पहले से ही बुक होती है. ऐसे में यदि आप वाहन गली में या सड़क के किनारे खड़ा करेंगे, तो वह गैरकानूनी होने के साथसाथ असुरक्षित भी रहेगा.

पालतू जानवर

किराए के मकान में पालतू जानवर रखने का शौक न ही पालें तो बेहतर होगा, क्योंकि अधिकतर मकानमालिक इस की इजाजत नहीं देते. इस के अलावा दूसरा सब से बड़ा कारण यह है कि यदि आप को मकान ग्राउंड फ्लोर के बजाय ऊपर की किसी मंजिल पर मिला है, तो पालतू जानवर को समयसमय पर बाहर ले जाना आप के लिए सिरदर्द बन सकता है.