एक समय था जब घर में किचन को सब से कम महत्त्व दिया जाता था. तब किचन का मतलब एक छोटे से कमरे से होता था, जहां बस जैसेतैसे खाना पक सके. उस में किसी भी तरह के कोई आधुनिक उपकरण नहीं होते थे और न ही किसी तरह की कोई सजावट होती थी. अगर कभी कोई खास पकवान बनाना हो तो घंटों समय लग जाता था.

धीरेधीरे बदलते समय के साथ किचन के रूप में भी बदलाव आने लगा. किचन सिटिंग की जगह स्टैंडिंग होने लगा. इंडियन स्टाइल किचन की जगह आधुनिक कौंसैप्ट ने ले ली और किचन को मौड्यूलर किचन कहा जाने लगा.

इंटीरियर डिजाइनर मनोज पांडेय कहते हैं, ‘‘ये किचन देखने में पहली नजर में भले ही महंगे और शोबाजी वाली चीज लगें पर ये काफी यूजरफ्रैंडली होते हैं. मौड्यूलर किचन को इंस्टौल करना काफी ईजी होता है. इस में काफी ट्रैंडी फिटिंग्स, जैसे किचन कैबिनेट्स, बास्केट्स, कौर्नर ट्रौलीज, शैल्फ्स, स्लाइडिंग ड्राअर्स आदि लगे होते हैं. इन में आप रसोई का सामान, उपकरण वगैरह व्यवस्थित ढंग से रख सकते हैं.’’

आधुनिक उपकरणों से तैयार मौड्यूलर किचन में हर चीज की जगह फिक्स होती है. कोई भी सामान निकालने और काम करने में दिक्कत नहीं होती. रसोई में स्टोरेज की पर्याप्त सुविधा होने की वजह से काफी जगह रहती है क्योंकि सामान कैबिनेट्स और ट्रौलीज के अंदर रखा जाता है. ये गोल, टेढ़ेमेढ़े व त्रिकोणीय सभी प्रकार के किचन में आसानी से फिट हो जाते हैं. नतीजतन, खाना बनाने में समय की भी बचत होती है.

मौड्यूलर किचन को कई अलगअलग वैराइटी, डिजाइन व रंगों में तैयार किया जा सकता है, जैसे कैबिनेट्स को मैटल, वुड, स्टील या ग्लास का बनाया जा सकता है और इन के कलर टिपिकल गे्र, ब्राउन व बेज आदि रखने के बजाय रैड, लीफी ग्रीन, रौयल ब्लू जैसे विकल्पों को चुन कर किचन को अट्रैक्टिव लुक दिया जा सकता है.

मौड्यूलर किचन का बजट मुख्य रूप से इस के साइज पर निर्भर करता है. अगर आप 8×6 फुट का किचन बनवाना चाहती हैं तो इस की कीमत लगभग 1 लाख रुपए हो सकती है. जैसेजैसे आप के किचन का साइज बढ़ता है, इस की कीमत भी बढ़ती जाती है. लेकिन इस किचन को आप कम बजट व अपनी पसंद के अनुसार भी आसानी से तैयार करवा सकती हैं.

बाजार में आज आधुनिक और ट्रैंडी किचन ऐप्लाएंसेज की कमी नहीं है. ये ऐप्लाएंसेज आप के मौड्यूलर किचन को एक स्टाइलिश लुक देते हैं. आइए, एक नजर डालें, ऐसे ही कुछ ऐप्लाएंसेज पर.

माइक्रोवेव ओवन

सब से पहले यह जरूरी है कि आप यह तय कर लें कि आप माइक्रोवेव ओवन लेना चाहती हैं या सिंपल ओवन. ये दोनों अलगअलग काम करते हैं. सिंपल ओवन का काम सामान को बेक करना होता है, वहीं माइक्रोवेव ओवन में आप खाने की चीजों को गरम कर सकती हैं, उबाल सकती हैं और पका भी सकती हैं. मार्केट में कई कंपनियों के माइक्रोवेव ओवन उपलब्ध हैं, जिस की शुरुआत लगभग 3 हजार रुपए से है.

हुड्स ऐंड होब्स

हुड्स यानी चिमनी और होब्स यानी स्टोव्स (गैसचूल्हा). इन दोनों ऐप्लाएंसेज के बिना किचन अधूरी रहती है क्योंकि एक के बिना भोजन तैयार नहीं हो सकता तो दूसरे के बिना खूबसूरत किचन.

बाजार में बर्नर्स की भी कई किस्में उपलब्ध हैं, जैसा कि आप जानती ही होंगी कि पहले बर्नर ब्रास के बनाए जाते थे, लेकिन अब यह एलोय के बने होते हैं. इन की खासीयत यह होती है कि ये कभी काले नहीं पड़ते. इस के अलावा कई बर्नर वाले होब्स भी बाजार में आ रहे हैं. जिन की मदद से आप एक ही समय में 3-4 रैसिपीज बना सकती हैं. इस से आप के समय की काफी बचत होगी.

अगर चिमनी की बात की जाए तो इस में ज्यादा बदलाव तो नहीं हुए हैं, लेकिन फिल्टर वाली चिमनी आने लगी हैं जो धुएं को बाहर निकालने की जगह घर के वातावरण में ही घुला देती हैं, वह भी वातावरण को बिना नुकसान पहुंचाए.

एयरफ्रायर

यह आधुनिक रसोई में एक बेहतरीन उपकरण है. साथ ही, यह कई सारे भारतीय व्यंजनों को पकाने में तेल की 80 फीसदी तक बचत करता है. पैटेंटेड रैपिड एयर तकनीक से सुसज्जित यह उपकरण तीव्रता से घूमता हुआ गरम हवा को ग्रिल ऐलिमैंट के साथ जोड़ कर तेलरहित स्वादिष्ठ फ्राइड फूड पकाता है. इस की कीमत बाजार में 14,995 रुपए से शुरू होती.

फ्रिज

बदलते वक्त के साथ अब लोगों की जरूरतें भी बदलती जा रही हैं, खासकर फूड हैबिट की. अब लोग विधिपूर्ण खाना पकाने से ज्यादा ‘रेडी टु ईट’ फूड खाना पसंद कर रहे हैं, जिन्हें फ्रिज में ही स्टोर कर के रखना होता है. रसोई में यह सब से जरूरी चीज है. मार्केट में एक नौर्मल फ्रिज 8 हजार रुपए में उपलब्ध है.

हैंडब्लैंडर

किसी चीज को छोटेछोटे टुकड़ों में काटना हो या फिर पेस्ट तैयार करना हो, अब यह मिनटों का खेल है. हैंड ब्लैंडर तकनीक ने इस काम को काफी आसान बना दिया है. मार्केट में अलगअलग कंपनियों के हैंड ब्लैंडर अलगअलग रेंज में उपलब्ध हैं. इस की शुरुआती कीमत 700 रुपए है.

इलैक्ट्रिक केटल

रसोई में केटल आजकल जरूरी ऐप्लाएंसेस में से एक है. इस में पानी, दूध, चाय, कौफी व मैगी आसानी से बनाई जा सकती है. ये 700-2500 रुपए के बीच उपलब्ध हैं.

रोटी मेकर

आज के जमाने में रोटी बनाना भी आसान हो गया है. अब रोटी बनाने के लिए बारबार बेलने की जरूरत नहीं है. बस, आटे की लोई को मशीन में रख कर दबाया और रोटी तैयार. अगर आप रोटी मेकिंग मशीन खरीदना चाहती हैं तो इस की कीमत 1 हजार रुपए रुपए से शुरू होती है.

मिक्सर ग्राइंडर

मिक्सर ग्राइंडर किचन के उपयोगी उपकरणों में से एक है. इस के बिना किचन अधूरी है. मार्केट में यह 2 हजार से ले कर 5 हजार रुपए तक के बीच उपलब्ध हैं.

मौडर्न कुकर

कुकर 2 तरह के होते हैं. पहला इलैक्ट्रिक कुकर और दूसरा स्टीम कुकर. इलैक्ट्रिक कुकर में चावल, पुलाव इत्यादि बनाना आसान होता है. वहीं, स्टीम कुकर में खासकर स्टीम प्रोडक्ट, जैसे मोमोज, इडली इत्यादि बनाना आसान होता है. इसलिए इसे खरीद कर आप अपनी रसोई को ईजी टू कुक बना सकती हैं.

इलैक्ट्रिक तंदूर

आज के समय में संभव नहीं है कि किचन में तंदूर रखा जाए. इसलिए तंदूरी व्यंजन बनाने के लिए मार्केट में इलैक्ट्रिक तंदूर आ गए हैं. इस की मदद से अलगअलग प्रकार के तंदूरी व्यंजन तुरंत तैयार हो जाते हैं. इस की शुरुआती कीमत 3 हजार रुपए है.

मेजरिंग इक्विपमैंट

कभीकभी खाना बनाते समय समझ नहीं आता कि चीजों को किस अनुपात में मिक्स किया जाए. अगर किसी भी चीज को थोड़ा ज्यादा डाल दिया जाए तो खाने में मजा नहीं आता. इसलिए रसोई में मेजरिंग इक्विपमैंट जरूर रखें.

आइसक्रीम मेकर

आधुनिक रसोई में यह एक नई तकनीक आई है. इस में बिना फ्रिज के भी आसानी से आइसक्रीम बनाई जा सकती है. मार्केट में आइसक्रीम मेकर की कीमत 4 हजार रुपए से शुरू होती है.

कुछ ऐसे रखें किचन

किचन में आधुनिक उपकरण लगाने के साथसाथ जरूरी है कि उसे अच्छी तरह से सजाया भी जाए ताकि वह ट्रैंडी के साथसाथ व्यवस्थित भी नजर आए. किचन की दीवारें हमेशा लाइट कलर की रखें ताकि कीड़ेमकोड़े और गंदगी का पता जल्दी चल सके.

किचन ऐसी हो कि उस में स्वच्छता और हाईजीन साफ नजर आए. इसलिए साफसफाई का ध्यान रखें. किचन को प्रदूषणरहित रखने के लिए चिमनी लगवा लें ताकि किचन धुआंरहित रहे. किचन की दीवार पर एक सुंदर बड़ा प्लानर लगा लें ताकि उस पर गैस लगाने की तिथि, अखबार, दूध वाले और हाउस हैल्पर के पैसे की तिथि नोट की जा सके. किचन में रेडियो या टैलीविजन का स्पीकर लगवा लें, इस से आप काम के साथ एंजौय भी कर सकती हैं.

अब जमाना बदल रहा है तो फिर आप का किचन क्यों पीछे रहे. देर किस बात की. आज ही अपने किचन का कायापलट कर डालिए और आधुनिक उपकरणों का मजा लीजिए.