गृहशोभा विशेष

रोहन और मीरा बड़े अच्छे दोस्त थे. दोनों एक ही स्कूल में पढ़ते थे. एक दिन जब मीरा ने रोहन को स्कूल के ग्राउंड में उदास बैठे हुए देखा तो पूछा कि वह उदास क्यों है? ‘‘मैं शशि और उस के दोस्तों के व्यवहार से बहुत परेशान हूं. शशि और उस के दोस्त अकसर अन्य बच्चों को परेशान करते रहते हैं. आज उन्होंने गौतम की डायरी फाड़ डाली. मैं ने अपनी आंखों के सामने सब कुछ देखा तो भी मैं कुछ नहीं कर सका,’’ रोहन ने उदास हो कर कहा.

‘‘ओह, तो यह बात है. तुम जानते हो न, वे नहीं सुधर सकते. तुम उन के बारे में सोच कर अपना दिमाग क्यों खराब कर रहे हो?’’ उसे खुश करने की कोशिश करती हुई मीरा ने कहा. रोहन उस से सहमत हो गया लेकिन तुरंत परीक्षा की तैयारी के बारे में बातें करने लगा.

hindi stories for kids

अगले दिन प्रिंसिपल ने क्लास में एक घोषणा करवाई कि जो छात्र ‘हमारा कैंप’ पर एक अच्छा निबंध लिखेगा, उस को समर कैंप का वालंटियर बनाया जाएगा. हर क्लास से तीन विजेता छात्र चुने जाएंगे.

सभी छात्र बड़े उत्साहित थे और जल्दी से निबंध लिखने में लग गए. शशि ने दूसरे छात्रों को परेशान करना शुरू कर दिया और किसी को भी निबंध लिखने नहीं दिया. ‘‘अगर तुम इसी तरह हमें परेशान करते रहे तो

हम प्रिंसिपल से तुम्हारी शिकायत कर देंगे. वे बड़े सख्त हैं और वे तुम्हें कैंप से बाहर कर देंगे,’’ रोहन ने कहा. शशि ने गुस्से में रोहन को देखा और अपनी सीट पर न चाहते हुए भी बैठ गया.

ठीक इसी समय मीरा वाशरुम गई थी. जब वह वापस लौटी तो उस ने देखा कि जिस कागज पर वह निबंध लिख रही थी, वह कागज उस के डैस्क पर नहीं था. ‘‘मेरा निबंध वाला कागज कहां है?’’ मीरा चिल्लाई. उस ने चारों ओर देखा. शोरगुल सुन कर उन के टीचर क्लासरूम में आए.

‘‘सर, शशि ने मीरा के निबंध वाला कागज चुराया है,’’ सोनिया ने कहा, और सभी छात्र उस के साथ हो लिए. वे शशि पर आरोप लगाने लगे कि यह शशि ही है जो हमेशा उन्हें परेशान करता रहता है.

hindi stories for kids

टीचर ने गुस्से में कहा, ‘‘शशि, मैं लंबे समय से तुम्हारे खिलाफ शिकायत सुनता आ रहा हूं. चोरी करना अच्छी बात नहीं है. इसलिए मैं तुम्हें कैंप से बाहर कर रहा हूं.’’

रोहन तुरंत शशि के बचाव में खड़ा हो गया. रोहन को ऐसा करते देख कर क्लासरूम के सभी छात्रों के साथसाथ टीचर भी हैरान रह गए. ‘‘सर, शशि ने मीरा का निबंध वाला कागज नहीं चुराया है. मैं पूरे समय शशि को ध्यान से देख रहा?था इसलिए कि वह किसी दूसरे छात्र को परेशान नहीं कर सके और इसलिए मैं यह दावे के साथ कह सकता हूं कि शशि ने वह कागज नहीं चुराया,’’ रोहन ने कहा.

टीचर ने कहा कि वह सभी के बैग को चैक करेंगे. हर छात्र से कहा गया कि क्लासरूम से बाहर चला जाए ताकि खोज शुरू की जा सके. जब टीचर ऐसा कर रहे थे, सोनिया ने चुपके से मीरा के निबंध वाले कागज को फाड़ा और कागज के टुकड़ों को शशि के बैग में डाल दिया.

तलाशी के दौरान, जैसा कि संदेह था, निबंध का कागज शशि के बैग में मिला. उसे इस बारे में बताने के लिए अंदर बुलाया गया. ‘‘अब बताओ शशि, क्या अब भी तुम यही कहोगे कि तुम ने वह कागज नहीं चुराया था? लेकिन शशि ये कागज तो तुम्हारे बैग में पाए गए.’’

टीचर ने कागज के फटे हुए टुकड़े शशि को दिखाते हुए कहा. रोहन ने फिर शशि का बचाव किया. ‘‘सर, मैं साबित करूंगा कि शशि नहीं, बल्कि सोनिया चोर है,’’ रोहन ने कहा.

‘‘सर, निबंध वाले कागज के ये टुकड़े हैं जिन्हें मैं ने सोनिया के बैग में देखा. सोनिया ने वह कागज अपने बैग के अंदर ही फाड़ दिया. ‘‘अगर शशि ने कागज चुराया था, तो इस का वैसा ही टुकड़ा सोनिया के बैग में क्यों है,’’ रोहन ने निबंध के टुकड़े को सोनिया के बैग में दिखाते हुए पूछा.

सोनिया को खुद की सफाई देने के लिए कहा गया.

सोनिया ने तब बताया कि वह मीरा से जलती थी और उस का निबंध चुराना मीरा को कैंप का वालंटियर बनने से रोकना था. सोनिया ने आगे कहा कि शशि की छवि परेशान करने वाले की बनी हुई थी, इसलिए उस पर आरोप ?लगा देना आसान था.

टीचर ने सोनिया को कैंप से बाहर निकाल दिया. शशि ने रोहन को उस की सहायता करने के लिए धन्यवाद दिया और वादा किया कि अब से आगे वह अपने में सुधार लाएगा. कुछ समय बाद रोहन और शशि बहुत अच्छे दोस्त बन गए.