चंपकवन में एक डांस प्रतियोगिता की घोषणा की गई थी, जो अंतर्राष्ट्रीय डांस दिवस 29 अप्रैल को होना था. सभी जानवर प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए बहुत उत्साहित थे. ‘‘इस वर्ष मैं भी डांस प्रतियोगिता में भाग लेना चाहता हूं,’’ जंबो हाथी ने कहा.

‘‘मैं भी डांस करना चाहता हूं, लेकिन मैं डांस करना नहीं जानता,’’ उदास लहजे में डमरू गधे ने कहा. ‘‘भाग लेने में मुझे भी कठिनाई है क्योंकि मैं भी नहीं जानता हूं कि डांस कैसे किया जाता है,’’

चीकू खरगोश ने कहा, ‘‘मेरी इच्छा है कि मैं टीटू तितली की तरह डांस करूं. वह एक बहुत अच्छी और बड़ी डांसर है.’’ ‘‘अरे हां, वह हमारे जंगल की सब से अच्छी और खूबसूरत डांसर है,’’ जंबो ने कहा.

‘‘दोस्तो, क्या हम टीटू से कहें कि वह हमें डांस सिखाए?’’ डमरू ने पूछा. ‘‘बहुत अच्छा, चलो, उस से कहते हैं,’’ जंबो ने कहा. सभी टीटू के घर की ओर चल पड़े.

‘‘हैलो, टीटू, हम सभी यहां तुम से एक अनुरोध करने के लिए आए हैं. हमें सिखाओ कि डांस कैसे किया जाता है. हम आने वाली डांस प्रतियोगिता में भाग लेना चाहते हैं,’’ जंबो ने एक मुसकान के साथ कहा.

टीटू ने जंबो की बात सुनी और सभी को हैरानी से देखा. ‘‘प्रतियोगिता में कुछ ही दिन रह गए हैं. इतने कम समय मे मैं तुम्हें डांस कैसे सिखा सकती हूं?’’ टीटू ने पूछा. ‘‘हम सिर्फ प्रतियोगिता के लिए सीखना चाहते हैं,’’ चीकू ने कहा.

hindi stories for kids

‘‘सिर्फ प्रतियोगिता के लिए? क्या तुम बच्चे हो? मैं ने इसे सीखने में कई वर्ष लगा दिए और तुम हो कि इसे तुरंत सीख लेना चाहते हो?’’ गुस्से में टीटू ने कहा.

‘‘टीटू , हम मजे के लिए प्रतियोगिता में भाग लेना चाहते हैं. हम जानते हैं कि हम अच्छे डांसर नहीं बन सकते. लेकिन डांस के कुछ स्टैप्स हमारे आत्मविश्वास को बढ़ा देगा,’’ जंबो ने अपने विचारों से उसे अवगत कराया. ‘‘दोस्तो, डांस एक कला है. अगर तुम सीखना चाहते हो तो तुम्हें सीरियस होना होगा. मैं किसी को डांस नहीं सिखा सकती जो सिर्फ मजे के लिए डांस सीखना चाहता है. कला की कद्र करो और मेरे समय का भी. खैर, मैं बाद में अपने फैसले से तुम्हें अवगत करूंगी,’’ टीटू ने कहा और दरवाजा बंद कर लिया. सभी जानवर निराश हो गए.

‘‘क्या हम ने उसे कुछ गलत कह दिया?’’ डमरू ने पूछा.

‘‘मेरे खयाल में ऐसा कुछ नहीं कहा है,’’ जंबो ने कहा. सभी भारी मन से वापस लौट रहे थे, तभी पास से जाते हुए ब्लैकी भालू ने उन्हें देखा. ‘‘अरे, दोस्तो, तुम सब उदास दिखते हो. क्या बात है?’’ ब्लैकी भालू ने पूछा.

‘‘हम सब टीटू के पास गए थे और आगे होने वाली डांस प्रतियोगिता के लिए हमारी मदद करने के लिए कहा था. लेकिन वह हमें डांस सिखाने को तैयार नहीं है,’’ उदास डमरू ने कहा. ‘‘उस ने क्या कहा?’’ ब्लैकी ने पूछा.

‘‘उस ने कहा कि डांस एक कला है और हम इसे कुछ ही दिनों में नहीं सीख सकते,’’ चीकू ने कहा, ‘‘और हम उस प्रतियोगिता में भाग लेना चाहते हैं, जो अगले सप्ताह है.’’ ‘‘ओह, भूल जाओ उसे,’’ ब्लैकी ने मुसकराते हुए कहा, ‘‘यह सही है कि तुम कुछ ही दिनों में डांस करना नहीं सीख सकते. लेकिन इस का मतलब यह नहीं है कि तुम प्रतियोगिता में भाग नहीं ले सकते.’’

hindi stories for kids

‘‘लेकिन हम नहीं जानते कि डांस कैसे किया जाता है?’’ जंबो ने कहा. ‘‘सिर्फ एक बात ध्यान में रखो. अगर तुम डांस करना चाहते हो तो तुम्हें सिर्फ अपने आत्मविश्वास को कायम रखने की जरूरत है. यह मत सोचो कि तुम्हें डांस आता है कि नहीं या अन्य सभी तुम पर हंसेंगे. सिर्फ ताल के साथ ताल मिलाओ और मन लगा कर डांस करो. अगर तुम अपने डांस में आनंद लेने लगो?गे तो हर कोई तुम्हारे परफौरमेंस से आनंद उठाएगा,’’ ब्लैकी ने कहा.

‘‘तुम्हारी इतनी अच्छी सलाह के लिए तुम्हें धन्यवाद. हम प्रतियोगिता में जरूर भाग लेंगे,’’ जंबो ने आत्मविश्वास के साथ कहा. प्रतियोगिता वाले दिन हर किसी ने एकल और समूह डांस में भाग लिया.

उन में से कुछ ने प्राइज जीते और अन्य अपना डांस दिखा कर खुश थे. वे समझ गए कि डांस कोई भी कर सकता है. किसी भी कला काआनंद लेने के लिए उस में निपुण होना जरूरी नहीं होता.