‘‘मम्मी, प्लीज मुझे एक कहानी सुनाओ,’’ आर्यन ने एक कहानी की किताब मम्मी के हाथों में देते हुए कहा. ‘‘आर्यन, तुम अब 7 साल के हो गए हो, अब कहानियां पढ़ना खुद सीखो,’’ मम्मी ने कहा.

‘‘सिर्फ आज सुना दो, मम्मी, प्लीज. आज के बाद मैं खुद ही कोशिश कर के पढ़ लूंगा,’’ आर्यन ने विनती करते हुए कहा तो मम्मी तैयार हो गईं. ‘‘आज एक नई कहानी सुनाओ, ‘‘ कह कर आर्यन किताब के पेज पलटने लगा.

‘‘यह कहानी अच्छी लग रही है,’’ कह कर आर्यन एक ऐसे पेज पर रुक गया, जिस में कई जानवरों के चित्र के साथ एक कहानी छपी थी. आर्यन को कहानी सुनना बहुत पसंद था. मम्मी ने उसे कई बार कहा?था कि कहानियां उसे खुद पढ़नी चाहिए, लेकिन आर्यन मम्मी से ही कहानियां सुनाने को कहता रहता. ऐसा नहीं था कि वह पढ़ने की कोशिश नहीं करता था, लेकिन कहानियां लंबी होतीं, तो वह पढ़तेपढ़ते बीच में ही छोड़ देता.

hindi-story-for-kids-aryabn-ne-padhi-kahani

एक दिन आर्यन अपने दोस्त सोनू के घर गया. सोनू ने उसे एक किताब देते हुए कहा, ‘‘आर्यन, तुम्हें यह किताब पढ़नी चाहिए. इस में कुछ अच्छी कहानियां हैं.’’

आर्यन किताब ले कर घर तो आ गया, लेकिन दोबारा उस किताब की तरफ देखा तक नहीं. ‘‘मम्मी, सोनू ने मुझे एक नई किताब दी है. कृपया उस में से कोई कहानी सुना दो,’’ उस ने फिर से मम्मी से विनती की.

‘‘मैं सचमुच बहुत व्यस्त हूं, आर्यन. तुम दादीमां से क्यों नहीं कहते?’’ मम्मी ने सलाह दी. ‘‘ठीक है,’’ कह कर आर्यन दादीमां के पास चला गया.

‘‘आर्यन, मैं तो इतने छोटेछोटे शब्द नहीं पढ़ सकती, मुझे तो माफ करो,’’ दादीमां ने कहा. ‘ओह,’ आर्यन दुखी हो कर सोचने लगा, ‘अब तो मुझे खुद ही कहानी पढ़नी होगी.’

वह सोफे पर बैठ कर पढ़ने लगा. ‘‘यह तो बहुत अच्छी किताब लग रही है,’’ वह उत्साह से बोला.

शुरुआत में उसे पढ़ने में दिक्कत हुई. कुछ शब्द भी उस के लिए मुश्किल थे. लेकिन धीरेधीरे वह अच्छी तरह पढ़ने लगा. हंसीमजाक वाली बातों पर वह जोरजोर से हंसता भी जा रहा था. ‘‘और सभी ने हैप्पी के सुझबूझ की खूब तारीफ की,’’ कहानी की अंतिम लाइन पढ़ते हुए आर्यन बहुत खुश था.

‘‘मैं ने पूरी कहानी खुद ही पढ़ ली,’’ खुशी से आर्यन जोरजोर से चिल्लाने लगा. ‘‘मम्मी, आप कहां हो?’’ अपनी मम्मी को आवाज लगाते हुए आर्यन किचन की ओर भागा.

‘‘क्या बात है?’’ आर्यन की मम्मी किचन से बाहर आती हुई बोलीं. ‘‘मम्मी, आप प्रत्येक दिन मुझे कहानी सुनाती हैं. लेकिन आज मैं आप को भी कहानी सुना सकता हूं,’’ कह कर आर्यन एक कहानी जोरजोर से पढ़ने लगा. मम्मी ने प्यार से आर्यन को गले लगा लिया.