जंबो हाथी कुछ दिनों से दुखी था, क्योंकि उस के खेत से गाजरों की चोरी हो रही थी. खेत के एक कोने में जंबो ने एक झोंपड़ी बना रखी थी. वहीं से वह खेत की निगरानी करता था. गाजर कौन चुरा रहा था, यह उसे समझ नहीं रहा था.

जंबो ने अपने जासूस दोस्त कोको कुत्ते को अपनी परेशानी बताई. ‘‘जंबो, तुम चिंता मत करो, मैं कोई उपाय सोचता हूं. चोर जल्द ही पकड़ा जाएगा.’’ कोको ने भरोसा दिया.

अगले दिन कोको जंबो की खेत में पहुंचा. काफी खोजबीन के बाद भी कोको को कोई सुराग नहीं मिला.

‘‘जंबो, मुझे लगता है चोर बहुत चालाक है. उसे पकड़ने के लिए हमें भी अच्छी योजना बनानी पड़ेगी,’’ कोको बोला. ‘‘तो क्या हम गाजर चोर नहीं पकड़ पाएंगे?’’ जंबो ने चिंतित हो कर पूछा.

‘‘अरे तुम्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है. मेरे पास एक योजना है.’’ कोको बोला. ‘‘क्या?’’ जंबो ने पूछा.

‘‘मैं तुम्हारी झोंपड़ी की छत में एक सीसीटीवी कैमरा लगा देता हूं, इस से खेत में क्या हो रहा है, सब पता चल जाएगा. वीडियो देख कर हम चोर का पता लगा लेंगे.’’ उसी रात कोको ने जंबो की झोंपड़ी की छत में एक सीसीटीवी कैमरा लगा दिया.

‘‘अब तुम घर जा कर आराम करो. यदि फिर से चोरी हो जाए तो तुम मुझे खबर कर देना,’’ कोको ने कहा. कुछ दिनों बाद फिर गाजर चोरी की घटना घटी. जंबो ने तुरंत कोको को फोन किया, ‘‘कोको, कल फिर किसी ने खेत से गाजर चुरा लिए.’’

hindi story kids pakda gaya gaajar ka chor

कोको तुरंत जंबो की खेत पर पहुंचा. उस ने रात के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज की जांच की. उसे अंधेरे में खेत की जमीन पर 2 लंबे कान नजर आए. वह धीरेधीरे आगे की ओर बढ़ता गया. कुछ गाजर तोड़ने के बाद वह वापस कोने में जा कर पत्थर के पीछे गायब हो गया. कोको ने सीसीटीवी फुटेज को थोड़ा बड़ा कर जंबो को दिखाते हुए पूछा, ‘‘जंबो, क्या तुम इसे पहचान सकते हो?’’

जंबो ने ध्यान से देख कर कहा, ‘‘अरे, यह तो मेरा पड़ोसी बन्नी खरगोश है.’’ ‘‘मुझे लगता है, यही तुम्हारे खेतों से गाजर की चोरी कर रहा है,’’ कोको ने कहा.

फिर दोनों खेत में गए. एक कोने में रखे पत्थर को हटाया तो कोको दंग रह गया. वहां एक सुरंग थी. सुरंग सीधे बन्नी खरगोश के घर की ओर जा रही थी. ‘‘बन्नी इसी सुरंग के रास्ते गाजरों की चोरी कर रहा है,’’ कोको ने बताया.

‘‘चलो, अभी चल कर उसे पकड़ते हैं,’’ जंबो गुस्से से चिल्लाया.

‘‘नहीं, तुम्हें कहीं जाने की जरूरत नहीं. चोर खुद हमारे पास चल कर आएगा.’’ कोको ने मुसकरा कर कहा.

कोको ने जंबो को धीरे से अपनी योजना बताई. थोड़ी देर बाद जंबो खेत में पानी डालने वाला पाइप उठा लाया. कोको ने पाइप का एक सिरा नल में लगा कर दूसरे सिरे को सुरंग में डाल दिया. फिर नल चालू कर दिया.

hindi story kids pakda gaya gaajar ka chor

देखते ही देखते पानी की तेज धार से सुरंग भर गया. कुछ ही देर बाद बन्नी भागता हुआ जंबो के खेत की ओर आया. वह मिट्टी और पानी से बुरी तरह लथपथ था. ‘‘जंबो, तुम्हारे खेतों का पानी मेरे घर में आ रहा है. यह क्या मजाक है. मेरा पूरा घर पानी से भर गया है. जल्दी से पानी बंद करो,’’ बन्नी चीखा.

‘‘मैं तो अपने खेतों में पानी डाल रहा था. तुम्हारे घर में पानी कैसे गया, मुझे नहीं मालूम.’’ जंबो ने मासूमियत से कहा. ‘‘अगर तुम ने पानी बंद नहीं किया, तो मैं तुम्हारी शिकायत पुलिस से करूंगा.’’ बन्नी ने चेतावनी दी. ‘‘पुलिस से शिकायत तो जंबो को करनी है. एक तो चोरी, ऊपर से सीना जोरी,’’ कोको ने कहा.

‘‘क्या मतलब?’’ बन्नी घबरा गया. ‘‘हम जानते हैं कि तुम ने जंबो की खेत से गाजर चुराए हैं. तुम्हें सबक सिखाने के लिए हम ने सुरंग के रास्ते पानी डाला, ताकि तुम अपना अपराध स्वीकार कर लो,’’ कोको बोला.

‘‘मैं ने कोई चोरी नहीं की,’’ बन्नी ने कहा. ‘‘हम ने जंबो की झोंपड़ी में सीसीटीवी

कैमरा लगा दिया था. रात को गाजर चुराने की तुम्हारी तस्वीर आई है. हम पुलिस को इसे सौंपने जा रहे हैं,’’ जंबो बोला.

बन्नी गिड़गिड़ाने लगा, ‘‘जंबो, मुझे माफ कर दो. प्लीज, पुलिस के पास मत जाना.

‘‘रात में मैं अपने घर की छत से जंबो की खेत पर नजर रखता था. आधी रात को जब जंबो सो जाता तो मैं उसी मौके का फायदा उठा कर गाजर खाने के लालच में चोरी करने जाता. सुरंग के रास्ते जाने से मैं किसी को नजर भी नहीं आता. आइंदा फिर कभी मैं चोरी नहीं करूंगा,’’ बन्नी बोला.

hindi story kids pakda gaya gaajar ka chor

जंबो और कोको को बन्नी पर दया आ गई. जंबो बोला, ‘‘बन्नी, दोबारा चोरी मत करना. तुम्हें जब भी गाजर खाने की इच्छा हो मुझ से आ कर मांग लेना.’’ यह सुन कर बन्नी भी बहुत खुश हुआ.