कहते हैं इंसान के विचार समुद्र की लहरों की तरह हरदम मचलने को तैयार रहते हैं, वहीं उस की भावनाओं की कोई थाह नहीं होती और यही भावनाएं हमें अपनों से जोड़े रखती हैं. भावनात्मक रिश्ता सीधा दिल से जा कर जुड़ता है. जरूरी नहीं कि भावनात्मक रिश्ता सिर्फ अपनों से ही जोड़ा जाए बल्कि यह कभी भी किसी के भी साथ जुड़ सकता है.

कई भावनात्मक रिश्ते ऐसे होते हैं, जिन का कोई नाम नहीं होता. इन में एकदूसरे के प्रति प्रेम, अपनेपन का भाव होता तो है लेकिन जरूरी नहीं कि इन के बीच शारीरिक आकर्षण भी हो. इसे हम दिल का रिश्ता कहते हैं. इस में उम्र का कोई बंधन नहीं होता है.

पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के 24 वर्षीय बेटे बिलावल भुट्टो और पाकिस्तान की 35 वर्षीय विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार के बीच कुछ ऐसा ही रिश्ता देखने को मिला, जिस में उम्र का कोई बंधन नहीं दिखा.

क्यों होता है इमोशनल अफेयर

आज के तनाव भरे माहौल में लोग सुकून के पल तलाशते हैं. खासकर विवाहित पुरुष चाहते हैं कि घर पहुंच कर पत्नी उन की बातों को सुने व समझे, लेकिन घर के कामों व औफिस के बीच उलझी पत्नी, जब ऐसा नहीं कर पाती तो पति वह सुख बाहर तलाशने लगता है. अधिकतर देखा गया है कि कुछ विवाहित लोग अपने साथी को भावनात्मक लगाव प्रदान नहीं कर पाते या अपनी व्यस्तता के कारण अपने साथी को जरूरी समय नहीं दे पाते. ऐसे में उन के साथी का ध्यान अपने दोस्तों या सहकर्मियों की तरफ जाता है और वह अपना अधिक समय उन के साथ बिताने लगता है.

अगर इन दोस्तों या सहकर्मियों के बीच उसे ऐसा व्यक्ति मिल जाए, जो उस के रोते मन को भरने में सफल रहे तो उस व्यक्ति से रिश्ता बनने में ज्यादा समय नहीं लगता, क्योंकि आजकल अधिकतर लोग अकेलेपनके दौर से गुजर रहे हैं.

इस बारे में बालाजी ऐक्शन मैडिकल इंस्टिट्यूट की मनोवैज्ञानिक शिल्पी का कहना है, ‘‘आजकल समय की कमी के कारण अपने साथी से इमोशनल सपोर्ट न मिल पाना एक आम बात है. उसे जहां इमोशनल सपोर्ट मिलता है, वह उस तरफ आकर्षित होता चला जाता है. आजकल शारीरिक जरूरतें और सुंदरता प्राथमिकता नहीं हैं, क्योंकि हर रोज इंसान की जरूरतें बदल रही हैं. आज सब को अपने स्तर का साथी चाहिए, जिस के साथ वह अपने विचारों का आदानप्रदान कर सके.

‘‘यह मानव स्वभाव है कि खाना, पीना, सैक्स, सेफ्टी मिले तो हम सेफ महसूस करते हैं. समझसमझ की बात है आजकल लोगों का नजरिया बदल रहा है. युवावस्था में बच्चों को ऐक्सपोजर मिल रहा है और फिर कहते हैं न ‘दिल तो बच्चा है जी’ वह कभी भी किसी पर भी आ सकता है.’’ 

शिल्पी कहती हैं, ‘‘अगर आप के स्तर का साथी आप को नहीं मिला है, तो इस का मतलब यह नहीं कि आप उसे छोड़ दें या दूसरी तरफ मुड़ जाएं. आप को जरूरत है समझदारी दिखाने की. आप समझदारी दिखा कर रिश्ते को संभाल भी सकते हैं. जहां तक हो सके रिश्ते को संभालने की कोशिश करें.

‘‘किसी से इमोशनल रिश्ता जोड़ने से पहले सोचिए, समझिए. क्या वास्तव में इमोशनल रिश्ता है या सिर्फ टाइम स्पैंड करने के लिए एक साथी की जरूरत है. यह भी सोचिए कि यह इमोशनल रिश्ता कितने समय तक चलेगा. अगर आप किसी के साथ खुश रहते हैं, तो आप में हैप्पी हारमोंस आते हैं जो आप के जीवन में त्वरित बदलाव लाते हैं.‘‘

भावनात्मक लगाव निंदनीय नहीं है

कुछ लोग इमोशनल अफेयर्स में कोई बुराई नहीं मानते, क्योंकि उन्हें ऐसा महसूस होता है कि यह सिर्फ एक भावनात्मक जुड़ाव है. इसलिए इस का वैवाहिक जीवन पर कोई असर नहीं पड़ेगा. भावनाएं हमारे व्यक्तित्व का अभिन्न अंग हैं. दिमाग के 2 मुख्य हिस्से होते हैं. एक तार्किक होता है, जो चीजों को तर्क के हिसाब से देखता है और दूसरा भावनात्मक, जिस का तर्क से दूरदूर तक कोई रिश्ता नहीं है. जब भी किसी से कोई नया रिश्ता जुड़ता है, तो वह भावनात्मक रूप से ही जुड़ता है.

किसी भी व्यक्ति के साथ भावनात्मक लगाव पहले से ही निर्धारित नहीं होता, न ही इस का कोई अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोई कब, कहां, किस के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ जाए और यह  लगाव इतना गहरा हो जाए कि व्यक्ति स्वयं को सुरक्षित महसूस करने लगे.

भावनात्मक लगाव ही व्यक्ति का मनोबल बढ़ाता है. उन्हें आगे बढ़ने की प्रेरणा देते हैं, जिस से व्यक्ति के जीवन में उत्साह बना रहता है और यही उत्साह सुकून दिलाता है. ऐसे रिश्ते को गलत नजरिए से न देखते हुए एक भावनात्मक रिश्ते की शुरुआत कह सकते हैं, जिस में एक ऐसा दोस्त जिस के साथ वह अपने सुखदुख बांट सके, जो उस की परेशानियों में उस का भरपूर साथ दे. कदमकदम पर अच्छेबुरे का ज्ञान कराए.

अपने जीवन में उपेक्षा झेल रहे व्यक्ति का बाहर किसी दोस्त के साथ एक स्वस्थ संबंध बनाना गलत नहीं है. अगर उस नए संबंध के कारण वह खुशी के चार पल बिता ले, तो इस में कुछ बुराई नहीं है.

भावनात्मक जुड़ाव में असुरक्षा

किसी भी व्यक्ति का अकेला होना भावनात्मक असुरक्षा का सब से बड़ा लक्षण होता है. जब कोई अपनों के बीच रहते हुए भी अकेलापन महसूस करे, तो उस में असुरक्षा की भावना पनपने लगती है. इस के कई कारण हैं

– कई बार व्यक्ति बिना वजह ही छोटीछोटी बातों पर गुस्सा हो जाता है या चिड़चिड़ा हो जाता है, जिस से भावनात्मक रिश्ते प्रभावित होते हैं.

– भावनात्मक असुरक्षा में व्यक्ति केयरलैस हो जाता है और अपने साथी की कोई परवा नहीं करता.

– उपेक्षा झेल रहा साथी तनाव के दौर से गुजरता है. उस का किसी काम में मन नहीं लगता.

– कई बार ऐसा होता है कि उन के संबंधों में दरार आ जाती है, जब एक साथी सही तरीके से प्रतिक्रिया नहीं करता तो दूसरा साथी भावनात्मक रूप से परेशान हो जाता है.

– कुछ लोग जब भावनात्मक रूप से किसी अन्य व्यक्ति से जुड़ जाते हैं, तब उन्हें कुछ खोने या अपने साथी से दूर होने का डर सताता है.

गहरे होते हैं भावनात्मक धोखे

भावनात्मक धोखे सैक्सुअल धोखे से कहीं ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं, क्योंकि इस में व्यक्ति पूरी तरह से दिल से जुड़ा होता है. जब यह टूटता है, तो व्यक्ति अवसाद की स्थिति में पहुंच जाता है.

भावनात्मक शोषण से बचने के लिए जरूरी है मानसिक, भावनात्मक और व्यावहारिक तैयारी से स्वयं को मजबूत बनाया जाए.