अकसर लड़कों को बड़े होते देख मातापिता उन के विवाह के सपने देखने लगते हैं. फिर किसी की बेटी को अपने कुल की शोभा बना कर अपने परिवार में ले आते हैं. इसी तरह लड़की को बड़ी होती देख उस के विवाह की कल्पनामात्र मातापिता को भावुक बना देती है. यही नहीं, स्वयं लड़की भी अपने विवाह की कल्पना में उमंगों से सराबोर रहती है. वह केवल पत्नी नहीं, बहू, भाभी, चाची, ताई, देवरानी, जेठानी जैसे बहुत सारे रिश्ते निभाती है.

शादी के कुछ समय बाद न जाने कौन से बदलाव आते हैं कि ससुराल वालों को बहू में दोष ही दोष नजर आने लगते हैं. उधर लड़की भी ससुराल वालों के प्रति अपनी सोच और रवैया बदल लेती है. कुछ परिवारों में तो 36 का आंकड़ा हो जाता है. लड़की के ससुराल पक्ष के लोग परिवार की हर मुसीबत की जड़ बहू और उस के परिवार वालों को ही मान लेते हैं. एकदूसरे को समझें जरूरी है कि आप एकदूसरे की भावनाओं को समझें. जब हम किसी की बेटी को अपने परिवार में लाते हैं, तो उसे अपने पिता के घर (जहां वह पलीबढ़ी) की अपेक्षा बिलकुल जुदा माहौल मिलता है. बात रहनसहन और खानपान की हो या फिर स्वभाव की, सब अलग होता है.

इस के अलावा पतिपत्नी के संबंधों को समझने में भी उसे कुछ समय लगता है. ऐसे में यदि परिवार के लोग अपेक्षाएं कम रखें और बहू को अपना मानते हुए समझ से काम लें, तो शायद परेशानियां जन्म ही न लें.

बहू के घर आने से पहले ही सासें बहुत सारी अपेक्षाएं रखने लगती हैं जैसे बहू आएगी तो काम का बोझ कम हो जाएगा. वह सब की सेवा करेगी इत्यादि.

दूसरी तरफ शादी के बाद तो लड़के का प्यार घर के अन्य सदस्यों के साथसाथ अपनी पत्नी के लिए भी बंटने लगता है, तो घर वालों को लगता है कि बेटा जोरू का गुलाम हो गया.

बहू का घर के कामों में परफैक्ट न होना या काम कम करना बहुत बड़ा दोष बन जाता है. हर सास यह भूल जाती है कि पहली दफा ससुराल में आने पर जैसे उसे पति का साथ भाता था, वैसा ही बहू के साथ भी होता होगा.

सम्मान दे कर सम्मान पैदा करें

सासबहू के संबंध मधुर बने रहें, इस के लिए सास के व्यवहार में उदारता, धैर्य और त्याग के भाव होने आवश्यक हैं. अपने प्रियजनों को छोड़ कर आई बहू से प्यार भरा व्यवहार ही उसे नए परिवार के साथ जोड़ सकता है, उसे अपनेपन का एहसास करा सकता है और उस के मन में सम्मान और सहयोग की भावना उत्पन्न कर सकता है. बहू को सिर्फ काम करने वाली मशीन न समझ कर परिवार का सदस्य माना जाए.

बहू के विचारों व भावनाओं को महत्त्व दिया जाए. उस से परिवार के हर फैसले में सलाह ली जाए, तो परिवार में सुखशांति बनी रहे और समृद्धि भी हो.

यदि सास घर के सारे काम बहू को न सौंप कर खुद भी कुछ काम करती रहे, तो सास का स्वास्थ्य तो बेहतर रहेगा ही, परिवार का वातावरण भी मधुर बना रहेगा.

दूसरी तरफ शादी के बाद लड़की के भी कुछ फर्ज हैं, जो उसे निभाने चाहिए. लड़की यह नहीं समझ पाती कि किसी भी सदस्य द्वारा समझाया जाना टोकाटाकी नहीं है. घर का थोड़ाबहुत काम भी उसे बोझ लगने लगता है.

उसे लगता है कि पति सिर्फ उस का है. वह किसी और सदस्य को समय देता है, तो वह उसे अपनी अपेक्षा समझती है. दूसरे शब्दों में ससुराल में अधिकार क्या हैं, यह तो उसे मालूम है पर कर्तव्यपालन को बोझ समझने लगती है.

ससुराल में बेटी जैसे अधिकार मिलें, यह तो जरूरी है पर किसी के टोकने पर वह यह भूल जाती है कि मायके में भी तो ऐसी परिस्थितियां आती थीं. डांट तो मायके में भी पड़ जाती थी. माना कि उस का ससुराल में किसी से (अपने बच्चों को छोड़ कर) खून का रिश्ता नहीं है पर इनसानियत और प्यार का रिश्ता तो है.

उसे भी इस सच को दिल से स्वीकार करना चाहिए कि थोड़ी सी मेहनत से सब का मन जीत कर वह सब को अपना बना सकती है. जौब पर जाने वाली लड़कियों को परिवार के साथ रहने का अधिक समय भले ही न मिलता हो, लेकिन समय निकाला तो जा सकता है और फिर परिवार का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा बनने के लिए कुछ कर्तव्य तो उस के भी हैं.

परिवार वालों को स्नेह और सम्मान दे कर वह अपने पति के दिल को जीत सकती है.

वर्चस्व की लड़ाई से बचें

दरअसल, वर्चस्व की लड़ाई ही सासबहू के बीच टकराव पैदा करती है. किसी भी संयुक्त परिवार में सास और बहू ज्यादातर समय एकदूसरे के साथ व्यतीत करती हैं. उन के ऊपर ही घर के कामकाज की जिम्मेदारी होती है. ऐसे में घर में अशांति का मुख्य कारण भी सास और बहू के कटु संबंध होते हैं.

आज टीवी पर अधिकतर धारावाहिक सासबहू के रिश्तों पर मिलते हैं. अधिकांश में दोनों में से कोई एक चालें चल रही होती है, कुछ में रिश्तों को व्यंग्यात्मक तरीके से पेश किया जाता है. विभिन्न सर्वेक्षणों व शोधों में यह बात सामने आई है कि संयुक्त परिवारों में तनाव का 60% कारण सासबहू के बीच का रिश्ता होता है.

जिन घरों में बहुत ही चाव से उन धारावाहिकों को देखा जाता है वहां विवाद ज्यादा होते हैं. वे घंटों उस पर डिस्कस भी करते हैं कि वह सास कितना गलत कर रही है या उस सीरियल की बहू कैसी शातिर है. तभी यह सास और बहू के मन में बैठ जाता है कि धारावाही के पात्रों की तरह ही दूसरी है और टीवी पर जाना जीवन में उतरने लगता है. जब बात खुद पर आती है तो हम भी वैसा ही करते हैं.

हम सभी किसी न किसी फिल्म या धारावाही के पात्रों से स्वयं को जुड़ा महसूस करते हैं और उस के जैसा ही बनना चाहते हैं. आप कैसी सास बनना पसंद करेंगी? ‘कुछ रंग प्यार के’ सीरियल की ईश्वरी देवी जैसी या फिर ‘बालिका वधू’ की दादीसा जैसी?

बहू का कौन सा किरदार आप को सूट करता है? आप सासबहू के किसी भी किरदार के रूप में ढलें, पर एक सवाल अपनेआप से जरूर करें कि क्या घर के किसी भी सदस्य को दुख पहुंचा कर आप खुश रह सकती हैं? क्या परिवार के सदस्यों के आत्मसम्मान को चोट पहुंचाने से आप का जमीर आप को धिक्कारता नहीं? परिवार एक माला की तरह है और सदस्य मोती हैं. फिर क्या आप इस माला के बिखरने से खुश रह सकेंगी?

बहुओं के लिए जरूरी है कि वे बुजुर्गों के साथ कभी बहस न करें. किसी भी टकराव की स्थिति से बचें. अपनी बात उन के सामने जरूर रखें पर शांतिपूर्ण तरीके से.

इन सब से ऊपर लड़के की समझदारी भी जरूरी है. समझदारी एक अच्छे पति, बेटे और दामाद के रूप में.

मुंबई में रहने वाली वाणी का कहना है, ‘‘मैं तमिल परिवार से हूं और मेरी शादी एक पंजाबी परिवार में हुई है. मुझे सास का बहुत डर था. मेरी सहेली और रिश्तेदारों ने मुझे सास नाम से डरा दिया था. हमारी शादी अलग धर्म में हुई थी. रहनसहन, खानपान सब अलग था, लेकिन जितना मैं डर रही थी, उस का उलटा ही हुआ.

‘‘मेरी सास ने मुझे प्यार से सब कुछ बनाना सिखाया, हिंदी बोलना सिखाया. वे मुझे सास कम और दोस्त ज्यादा लगीं.’’

दिल्ली की मधु कहती हैं, ‘‘मैं सिर्फ 16 साल की उम्र में खुशीखुशी अपनी ससुराल आ गई. मेरे मन में किसी तरह का डर और पूर्वाग्रह नहीं था. मैं ने सोच रखा था कि कोई उलटा जवाब नहीं दूंगी. फिर कोई मुझ से नाराज क्यों होगा?

‘‘सासूजी वैसे तो बात बड़े प्यार से करती थीं, लेकिन मन ही मन न जाने क्यों उन्हें अपने बेटे के बदल जाने का डर था, जिस की वजह से वे मेरे हर काम में कोई न कोई कमी निकालती रहतीं. मैं कोई वादविवाद नहीं करती, फिर भी बात धीरेधीरे बढ़ने लगी.

‘‘सासूजी अब बाहर के लोगों के सामने भी मेरी बेइज्जती करने लगीं. वे हर समय मेरी बुराई करतीं. मेरी भी सहनशक्ति जवाब देने लगी थी. मैं उन्हें पलट कर बातें सुनाने लगी. इन सब बातों से घर का वातावरण खराब होने लगा. पति हर समय तनाव में रहते. वे न तो मां को समझा पाते और न ही मुझ को.

‘‘इस बीच मेरी सास बीमार हुईं पर जब मैं ने उन की खूब सेवा की तो उन का मन मेरे प्रति बदल गया और वे मुझे प्यार करने लगीं. मुझे नहीं मालूम कि उन का मन परिवर्तन मेरी सेवा से हुआ या मेरी समझदारी से. महत्त्वपूर्ण यह है कि आज घर का माहौल शांत है.’’

इन 2 मामलों से बिलकुल अलग एक मामला है मोहिनी का. वे बताती हैं, ‘‘मेरी शादी के बाद से ही परेशानियों का दौर शुरू हो गया था. पूरे घर में सास और ननद का वर्चस्व था. कहने को तो ननद शादीशुदा थीं पर शुरू से ही मेरी काट करती रहतीं. मैं सासससुर और ननद के त्रिकोण में फंसी थी.

‘‘पति हमेशा चुप रहते. उन दोनों की कुटिल चालों से हमारे अलग होने तक की नौबत आ गई. फिर अचानक कुछ ऐसा हुआ कि हालात ने करवट बदल ली. पति अब समझ गए हैं कि कमी कहां है.

‘‘ननद अपनी हरकतों के कारण मायके में ही है. सासूजी को भी अब मेरी उपयोगिता पता चल गई है. बेटी और बहू के बीच एक बहुत बारीक सी रेखा होती है. जरूरत सिर्फ उसे खत्म करने की होती है. पीछे मुड़ कर देखती हूं तो बहुत दुख होता है, क्योंकि जो गोल्डन पीरियड था वह खत्म हो गया था. फिर भी एक सुकून है कि चलो देर आए दुरुस्त आए.’’

पराई नहीं अपनी बेटी मानें

कुछ घरों में सासबहू का रिश्ता मांबेटी जैसा होता है जबकि कुछ घरों में हालात बहुत खराब होते हैं. कमी न मां में होती है न बहू में, कमी तो उन की समझ, उन के प्यार में होती है.

सवाल यह है कि आखिर सास बहू को पराया क्यों मानती है? कहने को अगर घर की बात है तो हम हमेशा यही सुनना पसंद करेंगे कि घर उस का है. लेकिन घर के साथ जिम्मेदारियां भी होती हैं.

वहीं दूसरी ओर कुछ बहुएं ऐसी भी होती हैं, जो सिर्फ अपने पति की या बच्चों की ही जिम्मेदारी उठाना चाहती हैं, सासससुर की नहीं. इसे घर संभालना नहीं कहते.

घर में तो सभी लोग होते हैं. सब के बारे में सोचना चाहिए जैसे वह अपने मायके में सब के लिए सोचती है.

वस्तुत: घर पूरे परिवार का होता है. हर सदस्य को अलगअलग अपनी जिम्मेदारियां उठानी चाहिए. घर को सिर्फ सास का कहना या बेटे और उस की पत्नी का कहना गलत होगा, क्योंकि घर में बाकी लोग भी तो रहते हैं. किसी एक इनसान से घर नहीं बनता. घर तो पूरे परिवार से बनता है.

छोटीछोटी बातों का ध्यान रखा जाए, तो परिवार का वातावरण सहज, सुखद एवं शांतिपूर्ण बन सकता है.