गृहशोभा विशेष

आप की सगाई हो चुकी है और शादी होने में कुछ वक्त बाकी है, तो ऐसे में आप मोबाइल पर एकदूसरे से बात भी करते होंगे या व्हाट्सऐप के जरिए संदेशों का आदानप्रदान करते होंगे. यदि मंगेतर उसी शहर में है, तो व्यक्तिगत रूप से मुलाकात भी होती होगी. यहां तक तो सब सामान्य है, लेकिन जब आप घंटों आपस में बतियाते हैं या रूबरू होते हैं तो जानेअनजाने कोई बात बुरी भी लग सकती है, जिस की वजह से मंगेतर रूठ सकता है.

यदि आप का मंगेतर आप से रूठ गया है तो क्या किसी बिचौलिए का इंतजार करेंगी या स्वयं इस की पहल करेंगी? कैसे मनाएंगी रूठे मंगेतर को?

रूठे मंगेतर को मनाना आसान भले ही न हो, लेकिन मुश्किल भी नहीं है. उस का आप से रूठना, नाराज होना थोड़े समय के लिए ही होता है, क्योंकि लंबे समय तक वह भी बात किए बिना नहीं रह सकता. हां, पुरुष होने का अहम उसे हो सकता है, इस के चलते वह सोचता है कि आप उसे मनाएंगी.

यदि आप दोनों के बीच असंवाद की स्थिति बनी हुई है, तो इसे लंबा न खींचें. कई बार यह रिश्ता टूटने का कारण भी बन जाती है. इसलिए सौरी कहने में देर न करें.

जब आप अकेली होती हैं और मोबाइल पर उस से बात करते नहीं थकतीं, तो कई बार कोई ऐसी बात निकल जाती है, जो उसे चुभ जाती है. यही नहीं फोन पर या व्हाट्सऐप पर आप झगड़ भी लेती हैं. इस लड़ाईझगड़े को आप तूल देती हैं तो रिश्ता टूटते देर नहीं लगती.

यदि छोटीमोटी बात को ले कर तकरार हुई भी हो तो उसे प्रतिष्ठा का प्रश्न न बनाएं. आप को लगता है कि गलती उस की है और उसे लगता है कि आप गलत हैं. इस का फैसला कौन करेगा? बेहतर होगा कि आप ही झुक जाएं ताकि उस का ईगो शांत हो जाए.

कई बार गलतफहमी की वजह से अर्थ का अनर्थ हो जाता है, जिस से बात का बतंगड़ बन जाता है. इस स्थिति से बचने और गलतफहमी दूर करने के लिए संवाद स्थापित करना बहुत जरूरी है.

रूठे मंगेतर को मनाना भी एक कला है और यदि यह कला आप को आती है तो आप को उसे मनाने में देर नहीं लगेगी. आप की एक मुसकराहट से उस का सारा गुस्सा काफूर हो जाएगा. बस, प्यार भरी दो बातें कर के तो देखिए, वह घुटनों के बल आप के सामने नतमस्तक न हो जाए तो कहिएगा, लेकिन यदि आप यह सोचती हैं कि मैं उसे क्यों मनाऊं? तो बैठी रहिए उस के इंतजार में. यह इंतजार कब खत्म होगा, कह नहीं सकते?

याद रहे, मानमनौअल से प्यार बढ़ता है और रिश्ते में मजबूती आती है. आप चाहें तो उसे मनाने के लिए किसी कवि, गीतकार की प्यार भरी कोईर् कविता, गजल उसे व्हाट्सऐप कर दें या फिर सुंदर खिला गुलाब या गुलदस्ता व्हाट्सऐप कर दें. हां, यदि व्यक्तिगत रूप से मिलना संभव हो तो उस के लिए गुलाब के साथसाथ कोई अच्छा तोहफा भी ले जाएं. और हां, उसे आई लव यू कहने में कोताही न बरतें. 

दो बातें युवकों से

आप उस के होने वाले पति हैं. यदि वह आप से नाराज है, तो उस की नाराजगी दूर होने तक इंतजार करें.

यदि आप की मंगेतर किसी बात पर आप से रूठ जाती है तो क्या आप उसे नहीं मनाएंगे? अपने पुरुष अहम को छोड़ कर उसे मनाने की कोशिश करें. सौरी कह कर देखिए, वह मान जाएगी. एक सौरी सारे गिलेशिकवे दूर कर देती है.

युवतियां स्वभाव से काफी भावुक होती हैं. यदि मंगेतर रूठ जाए तो उन की आंखों से आंसू थमने का नाम नहीं लेते. क्या आप उस के आंसू पोंछने नहीं जाएंगे? उसे मनाने के लिए एक चौकलेट ही काफी है. युवतियां इस की दीवानी होती हैं तथा इसे प्रेम का प्रतीक भी मानती हैं. यदि व्यक्तिगत तौर पर मुलाकात हो तो चौकलेट के साथ कोई अच्छा सा तोहफा और प्यार का प्रतीक गुलाब देना न भूलें.

– डा. अनुभा गुप्ता बडेस

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं