स्नेहा मेरी बचपन की सहेली और हमराज है. आज वह पूना में है और मैं दिल्ली में. विवाह से पहले हम एक दिन भी एकदूसरे से मिले बिना नहीं रह पाते थे. अब एकदूसरे को देखे 16 साल बीत गए हैं. उस से मिलने की इच्छा हो रही थी. गरमियों की छुट्टियों में मुंबई गई तो स्वयं को रोक न पाई. अगले दिन पूना के लिए रवाना हो गई. साथ में 14 वर्षीय बेटा और पति भी थे. स्टेशन पर वह भी सपरिवार आई हुई थी. हम आपस में ऐसे मिले कि एकदूसरे को छोड़ने का मन ही नहीं

कर रहा था. हंसतेबतियाते हम उस के घर पहुंचे. खाना खाया तो पता चला कि हमारी फिल्म के टिकट आए हुए हैं. स्नेहा और मैं ने तो साथ जाने को मना कर दिया, पति और बच्चों को भेज दिया. हम दोनों एकांत में यादों की पोटली खोल कर बैठ गईं. सोचा, बच्चों व पति के वापस आने पर ही घूमने जाएंगे. लेकिन स्नेहा ने बताया कि वहीं से दूसरी फिल्म देखने जाने का प्रोग्राम है और शाम को डिनर के बाद फिर नाइट शो देखा जाएगा. यह सुनते ही मैं बिफर उठी, ‘‘तेरा दिमाग खराब है क्या? एक दिन में 3 शो देखने की क्या तुक है? मेरे पति क्या सोचेंगे? घर नहीं बैठाना था तो ऐसे ही कहती मैं आती ही नहीं.’’ मैं बोलती रही और वह बुत बनी सुनती रही. एकाएक उस की आंखों में आंसू देख कर मैं चुप हो गई.

अचानक वह मुझ से लिपट कर फूटफूट कर रोने लगी. लग रहा था जैसे बरसों का बांध टूट कर बह रहा हो. थोड़ा संभलने पर उस ने जो बताया, उसे सुन कर मैं हैरान रह गई.

शक का कीड़ा

उस ने बताया कि उस के पति उसे पुरुषों से बात करते देख नहीं सकते थे, उस पर शक करते थे. यहां तक कि जब विवाह के बाद चचेरा भाई मिलने आया और उस ने स्नेहा की कलाई पकड़ ली तो उन्होंने हंगामा खड़ा कर दिया. उसे अकेले मायके जाने की भी परमिशन नहीं थी. जब जाते, साथ जाते. यदि रुकना भी होता तो होटल में रुकते ताकि किसी को उन के शहर में होने की खबर न हो. इस बीच उन की 2 बेटियां भी हो गईं. वे उसे बेटियों के सामने भी जलील करते. कोठी तो शानदार थी, लेकिन छत या बालकनी का दरवाजा तभी खुलता जब वे खुद खोलते. यदि कभी दरवाजा खुले और रिकशेवाला भी खड़ा हो तो कहते कि तुम्हारे लिए खड़ा होगा. यह तो उस की परमानेंट जगह है. आज तुम्हारे पति और बेटे को भी इसीलिए घर में नहीं रहने दिया कि कहीं वे मेरे साथ बात न करें.

यह सुन कर मैं तिलमिला उठी. उसे कोसने लगी कि उस ने बगावत क्यों नहीं की? जानवरों की तरह जुल्म क्यों सहती रही? उस का जवाब था कि वह जब भी अपनी सफाई में कुछ कहती, झगड़ा हो जाता. नौबत मारपीट तक पहुंच जाती. मैं ने पूछा कि आखिर कब तक यह चलता रहेगा तो उस का जवाब था, ‘‘जब 16 साल बीत गए तो बाकी भी काट लूंगी. 2 बेटियों की मां हूं. अकेले संघर्ष नहीं कर सकती. यहीं ठीक हूं. शायद कभी दिन फिर जाएं.’’ उस का जवाब सुन कर समझ नहीं आया कि क्या करूं. उस की सहनशीलता के आगे नतमस्तक हो जाऊं या गूंगी जबान खुलवाने के लिए उसे 2 झापड़ रसीद कर दूं.

कैसी त्रासद स्थिति है यह. जब दांपत्य जीवन में अविश्वास हो, पति चरित्र पर संदेह करे तो पत्नी की जिंदगी नारकीय बन जाती है. कभीकभी ऐसा भी होता है कि पतिपत्नी तो एकदूजे पर जान छिड़कते हों, लेकिन सासससुर (दोनों के मातापिता) उन का जीना दूभर कर देते हों जैसा कि तरुणी और तेजस के साथ हुआ. दोनों की मुलाकात एक पार्टी में हुई, जो प्रेम में तबदील हो गई. दोनों ने विवाह करने का निश्चय कर लिया, लेकिन परिस्थितियां प्रतिकूल थीं. तेजस के पिता शाम होते ही शराब की बोतल ले कर बैठ जाते थे. नशे में चूर अनापशनाप भी बकते थे. जब उन्हें तेजस के प्रेम का पता चला तो जायदाद से बेदखल करने की धमकी दे दी. उधर तरुणी की मां कर्कशा थीं, गालियों के बिना बात नहीं करती थीं. जब उन्हें तरुणी के प्रेम का पता चला तो उन्होंने तेजस के पूरे खानदान पर गालियों की बौछार कर दी. बेटी को भी कुलच्छिनी, वेश्या जैसी गालियां दीं.

स्पष्ट है कि प्रेम कितना भी अटूट हो, ऐसी स्थिति में विचलित होना स्वाभाविक है. किसी तरह मन को पक्का कर के दोनों ने कोर्टमैरिज कर ली. सोचा, अलग हो कर जुदाई का दुख भी तो सहना पड़ेगा. अत: मिल कर दुख बांटें तो बेहतर है. मन को पक्का कर के तेजस तरुणी को घर ले गया. तरुणी को देखते ही उस के पिता चिल्लाने लगे, ‘‘ले आया अपनी माशूका को. अब क्या लेने आया है? दफा हो यहां से.’’

यह था तरुणी का अपने ससुर के साथ पहला साक्षात्कार. उधर तेजस भी अपनी सासूमां की गालियां खाने के लिए तैयार था. जब वह अपनी ससुराल पहुंचा तो उस की मां उसे देखते ही चिल्लाई, ‘‘कुलच्छिनी कहीं की. ले आई खसम को. मर्द के बिना रह नहीं सकती थी?’’ पतिपत्नी एकदूसरे पर कितनी भी जान छिड़कते हों, लेकिन ऐसे हालात में बेडरूम में प्रेमालाप की जगह सन्नाटा होता है, जहां दोनों अपने मातापिता के कारण एकदूसरे को सांत्वना भी नहीं दे पाते या यों कहें कि हालात पर शोक प्रकट करने के लिए शब्द जुटाने भी मुश्किल हो जाते हैं.

दांपत्य जीवन और विपरीत हालात

विवाह 2 अपरिचित प्राणियों का संयोगवश आपस में मिलन है, जिस में सारी जिंदगी साथ निभाने की अपेक्षा की जाती है. विवाह बेशक एक इंद्रधनुषी सपने के समान रंगीन लगे, लेकिन जब हालात विपरीत हों तो सपने बिखरने में देर नहीं लगती. जैसा कि तरुणी, तेजस और स्नेहा के साथ हुआ. इन की त्रासद स्थिति कोई एक दिन की नहीं है, जो कट जाएगी. ये कोई साधारण जख्म नहीं हैं, जो समय के साथ भर जाएंगे. ये तो कैंसर के फोड़े हैं जो मरते दम तक सालते रहेंगे. लेकिन मरना भी आसान नहीं होता और न ही यह कोई सार्थक हल है. ऐसे हालात में एक ही रास्ता बचता है कि या तो चुपचाप सब कुछ सह लिया जाए या फिर तलाक ले कर एकाकी जिंदगी की नई शुरुआत की जाए.

एकाकी जिंदगी : समस्याएं ही समस्याएं

तलाक लेना इतना आसान नहीं होता. इस के लिए कोर्टकचहरियों के धक्के खाने पड़ते हैं, पैसा पानी की तरह बह जाता है, सालों गुजर जाते हैं. किसी तरह तलाक हो भी जाए तो उस के बाद की जिंदगी भी कम दुष्कर नहीं होती. तलाक के साथ ही जहां पुरुष पर तलाकशुदा का लेबल लग जाता है, वहीं स्त्री को संदेह की नजर से देखा जाता है. यदि दोबारा विवाह करना हो तो पहले तलाक के बारे में सफाई देनी पड़ती है, खासी जलालत झेलनी पड़ती है. पुनर्विवाह के बाद भी समझौते करने पड़ते हैं. यदि बच्चे हों तो उन की समस्याएं और भी बढ़ जाती हैं. स्त्री के लिए स्थिति और भी दुखद होती है. वह तो कटीपतंग के समान होती है, जिसे लूटने के लिए कई हाथ आगे बढ़ते हैं, जिन का उद्देश्य कुछ पल मजे लेना होता है.

तलाकशुदा औरत को मायके में सामंजस्य न होने पर और रास्ते ढूंढ़ने पड़ते हैं. यदि पढ़ीलिखी है तो नौकरी कर के अपना गुजारा कर सकती है, लेकिन सिर छिपाने के लिए उसे सुरक्षित जगह की जरूरत तो पड़ती ही है. उसे पेइंगगेस्ट के तौर पर, विमन होस्टल या किराए पर जगह ले कर रहना पड़ता है. किराए का मकान ढूंढ़ने में उसे परेशानी उठानी पड़ सकती है. आतेजाते लोगों की कुत्सित निगाहों को झेलना पड़ता है. उस पर छींटाकशी होती है, चरित्र पर लांछन लगाए जाते हैं, उसे शक की नजरों से देखा जाता है. यदि कभी स्वास्थ्य खराब हो तो अकेले जूझना पड़ता है.

तलाकशुदा अभिभावकों के बच्चे भी कम परेशान नहीं करते. वे मांबाप के आगे हठधर्मिता से पेश आते हैं, ब्लैकमेल करते हैं. कानूनी तौर पर वे बेशक अपने माता या पिता के साथ रहते हों लेकिन छोड़े गए मातापिता के प्रति उन के मन में सौफ्ट कौर्नर अवश्य होता है, जो कभी भी रंग दिखा सकता है. इस का कारण यह है कि बच्चों को भी कम ताने नहीं सुनने पड़ते. आर्थिक अभाव बेशक उन की समस्या न हो लेकिन मातापिता का अभाव कहीं अधिक गंभीर होता है. तलाकशुदा स्त्री हो या पुरुष दोनों को ही अपने बच्चों के तानों, क्रोध और अवहेलना का शिकार होना पड़ता है.

तलाक कोई हल नहीं

स्पष्ट है कि दांपत्य संबंधों में आई दरार का हल तलाक कदापि नहीं हो सकता. वैवाहिक जीवन में समस्याएं जहां एक तरफ कुआं हैं, वहीं तलाक खाई के समान है. तलाक किसी भी परिस्थिति में कारगर नहीं हो सकता. अगर तलाक के बाद के कुछ महीने सुख से निकल भी जाएं तो भी आजीवन कष्ट उठाने पड़ते हैं. जीवन भर का सुखदुख आप के हाथ में है. अत: दांपत्य जीवन की समस्याओं का इलाज ढूंढि़ए. यदि परिस्थितियां लाइलाज हों तो भी कष्ट सहते रहने में कोई बुराई नहीं है, क्योंकि कष्टों का अंत करना आप के हाथ में नहीं है, लेकिन कष्टों को स्वीकार कर के जीना आप के हाथ में है. कुछ समस्याएं अनदेखी भी की जा सकती हैं. उदाहरण के लिए तरुणी और तेजस की समस्या, जो अभिभावकों की वजह से है, इसे अनदेखा करने में ही भलाई थी. यदि दंपती में आपस में प्रेम हो तो अभिभावकों को छोड़ कर अकेले रहा जा सकता है, बशर्ते मेहनतमशक्कत कर के दालरोटी कमाने और घर बनाने की क्षमता हो. यदि छोड़ना किसी कारण से संभव न हो तो भी अनदेखा करना ठीक है. आखिर कोई कब तक बोलता रहेगा. यदि बोलता भी रहे तो भी एक कान से सुन कर दूसरे से निकालने मे ही भलाई है.

यदि पति या पत्नी का किसी परस्त्री या परपुरुष से संबंध भी हो जाए तो भी लड़नेझगड़ने या अलग होने से समस्या हल नहीं होगी. आमतौर पर ये संबंध आएगए होते हैं, लेकिन यदि प्रेम संबंध प्रगाढ़ हो, जिसे तोड़ पाना असंभव हो तो भी अनदेखा करने में ही भलाई है. फिल्म अभिनेता धर्मेंद्र की पत्नी प्रकाश ने हेमामालिनी को बेशक घर में स्वीकार नहीं किया, लेकिन होहल्ला नहीं मचाया, न ही तलाक की मांग की. आज उन के बच्चे भी तनावमुक्त हैं. धर्मेंद्र और हेमामालिनी का विवाह वस्तुत: उदाहरण है, जहां समस्याएं न होने का पूरा श्रेय धर्मेंद्र की पहली पत्नी प्रकाश को जाता है, जिस ने सच को स्वीकारा. बगावत का रास्ता चुने बगैर निभाया. दूसरी तरफ हेमा की सहनशीलता और त्याग भी कम नहीं है, जिस ने प्रेम की खातिर एकाकी जीवन को आदर से जीया. धर्मेंद्र की एडजस्टमेंट की कुशलता काबिलेतारीफ है ही, जिस ने दोनों हाथों में लड्डू ले कर मजे किए. आजकल टीवी पर दिखाए जा रहे कई धारावाहिक भी यही दर्शाते हैं.