शक लाइलाज बीमारी है. अगर एक बार यह किसी को, खासकर पतिपत्नी में से किसी को अपनी चपेट में ले ले, तो वह उसे हैवान बना सकती है. ऐसी एक घटना हाल ही में हैदराबाद में देखने को मिली जहां अवैध संबंधों के शक पर एक महिला ने अपने पति को ऐसी सजा दी जिस का दर्द वह शायद जिंदगी भर नहीं भूल पाएगा.

आप यह जान कर दंग रह जाएंगे कि 30 साल की इस आरोपी महिला ने पति से विवाद होने पर चाकू से उस का प्राइवेट पार्ट काटने की कोशिश की, जिस के चलते पति को गंभीर चोटें आईं.

ऐसा ही एक अन्य मामला दिल्ली के निहाल विहार इलाके में भी सामने आया, जहां पति ने ही अपनी पत्नी का मर्डर कर दिया. पकड़े जाने पर पति ने सारी बात पुलिस को बता दी. उस ने साफ किया कि उसे अपनी पत्नी के चरित्र पर शक था. दोनों ने लव मैरिज की थी, लेकिन पति को लगता था कि उस की पत्नी की दोस्ती कई लड़कों से है. इस बात को ले कर अकसर दोनों में झगड़ा होता था.

टूटते परिवार बिखरते रिश्ते

शक न जाने कितने हंसतेखेलते परिवारों को तबाह कर देता है. दांपत्य जीवन, जो विश्वास की बुनियाद पर टिका होता है, उस में शक की आहट जहर घोल देती है. हाल के दिलों में अवैध संबंधों के शक में लाइफपार्टनर पर हमले और हत्या करने की घटनाएं बढ़ रही हैं. मनोवैज्ञानिक इस के पीछे संयुक्त परिवारों के बिखरने को एक बड़ा कारण मानते हैं.

दरअसल, संयुक्त परिवारों में जब पतिपत्नी के बीच मनमुटाव होता था तो घर के बड़े उसे आपसी बातचीत से सुलझा देते थे या बड़ों की उपस्थिति में पतिपत्नी का झगड़ा बड़ा रूप नहीं ले पाता था, जबकि आज पतिपत्नी अकेले रहते हैं, आपसी झगड़ों में वे एकदूसरे पर हावी होने की कोशिश करते हैं. वहां उन के आपसी संबंधों में शक की दीवार को हटाने वाला कोई नहीं होता.

ऐसे में शक गहराने के कारण पतिपत्नी का रिश्ता दम तोड़ने लगता है. वर्तमान लाइफस्टाइल में जहां पतिपत्नी दोनों कामकाजी है और दिन में 8-10 घंटे वे घर से बाहर रहते हैं और उन का विपरीत सैक्स के साथ उठनाबैठना होता है, जो दोनों के बीच शक का कारण बनता है. ऐसे में पतिपत्नी दोनों को एकदूसरे पर विश्वास रखना होगा.

बिजी लाइफस्टाइल

शादी के बाद जहां वैवाहिक रिश्ते को बनाए रखने में पतिपत्नी दोनों की जिम्मेदारी होती है, वहीं इसे खत्म करने में भी दोनों का ही हाथ होता है. शादी के कुछ वर्षों बाद जब दोनों अपनी रूटीन लाइफ से बोर हो कर और जिम्मेदारियों से बचने के लिए किसी तीसरे की तरफ आकर्षित होने लगते हैं यानी ऐक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर रखते हैं, तो वैवाहिक रिश्ते का अंत शक से शुरू हो कर एकदूसरे को शारीरिक नुकसान पहुंचाने और हत्या तक पहुंच जाता है.

कई बार परिवार की जिम्मेदारियों के बीच फंसे होने के कारण जब पतिपत्नी जिंदगी की उलझनों को सुलझा नहीं पाते तो उन के बीच अनबन होने लगती है और उस के लिए वे बाहरी संबंधों को जिम्मेदार ठहराने लगते हैं. उन के दिमाग में शक घर करने लगता है. धीरेधीरे शक गहराता जाता है और झगड़ा बढ़ जाता है. यदि कोई उन्हें समझाए तो शक और सारी समस्याएं खत्म हो सकती हैं, लेकिन एकल परिवार में उन्हें समझाने वाला कोई नहीं होता. इस कारण हालात मारपीट से ले कर हत्या तक पहुंच जाते हैं.

तुम सिर्फ मेरे हो वाली सोच

लाइफपार्टनर के प्रति अधिक पजैसिव होना भी शक का बड़ा कारण बनता है. आज के माहौल में जहां महिलाएं और पुरुष औफिस में साथ में बड़ीबड़ी जिम्मेदारियां संभालते हैं, ऐसे में उन का आपसी मेलजोल होना स्वाभाविक है. फिर पति या पत्नी में से जब भी कोई एकदूसरे को किसी बाहरी व्यक्ति से मेलजोल बढ़ाते देखता है तो उस पर शक करने लगता है और उसे यह बरदाश्त नहीं होता कि उस का लाइफपार्टनर, जिसे वह प्यार करता है, वह किसी और से मिलेजुले, क्योंकि वह उस पर सिर्फ अपना अधिकार समझता है.

इस तरह की मानसिकता संबंधों में कड़वाहट भर देती है. पति या पत्नी जब फोन पर किसी अन्य महिला या पुरुष का मैसेज या कौल देखते हैं तो एकदूसरे पर शक करने लगते हैं. भले ही वास्तविकता कुछ और ही हो, लेकिन शक का बीज दोनों के संबंध में दरार डाल देता है, जिस का अंत मारपीट और हत्या जैसी घटनाओं में

होता है.

जासूसी का जरीया बनते ऐप्स

पतिपत्नी के रिश्ते में दूरी लाने में स्मार्टफोन भी कम जिम्मेदार नहीं हैं. जहां सोशल मीडिया ने वैवाहिक जोड़ों को शादी के बंधन से अलग किसी और के साथ प्यार की पींगें बढ़ाने का मौका दिया है, वहीं स्मार्ट फोन में ऐसे ऐप्स भी आ गए हैं, जो पतिपत्नी को एकदूसरे की जासूसी करने का पूरा अवसर देते हैं.

इन ऐप्स द्वारा पति या पत्नी जान सकती है कि उस का लाइफपार्टनर उस के अतिरिक्त किस से फोन पर सब से ज्यादा बातें करता है यानी किस से आजकल उस की नजदीकियां बढ़ रही हैं, उन के बीच क्या बातें होती हैं, वे कौन सी इमेज या वीडियो शेयर करते हैं. यानी लाइफपार्टनर के फोन पर कंट्रोल करने का पूरा इंतजाम है. ये ऐप्स लाइफपार्टनर की हर ऐक्टिविटी पर नजर रखने का पूरा मौका देते हैं. इन ऐप्स की मदद से लाइफपार्टनर का फोन पूरी तरह आप का हो सकता है.

अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप तकनीक का सदुपयोग आपसी रिश्तों में नजदीकी लाने में करें या उसे रिश्ते में दूरी बनाने का कारण बनाएं?