बहुत से बच्चे अभिभावकों से पूछते हैं, ‘मम्मी मैं कहां से आया’, ‘सैक्स क्या होता है?’ कल तक परियों व राजाओं की कहानियां सुनने वाले बच्चों के मुंह से ये सवाल सुन कर अभिभावक परेशान हो जाते हैं. जब मम्मी को नहीं सूझता कि वह इन सवालों के क्या जवाब दे या बच्चों को कैसे समझाए, तो वह उन्हें अभी आप छोटे हो कह कर या फिर डांट कर चुप करा देती है. मगर इस बारे में दिल्ली के अपोलो हौस्पिटल की चाइल्ड स्पैशलिस्ट डाक्टर रोशनी मेहता का कहना है कि बच्चों के ऐसे सवाल जिन के जवाब देने में आप सहज महसूस नहीं कर रही हैं, तो अभी आप की यह जानने की उम्र नहीं है, बड़े होगे तो खुद ही समझ जाओगे जैसे जवाब दे कर टालें नहीं, क्योंकि संचार क्रांति के युग के बच्चे इस से संतुष्ट नहीं होंगे. 

अगर आप बात नहीं करेंगी तो वे इस की जानकारी अन्य माध्यमों, जैसे अपने दोस्तों, मीडिया, इंटरनैट या अन्य संचार माध्यमों से लेंगे. ऐसे में संभव है कि उन्हें सही जानकारी न मिले और उन के मन में यह बात बैठ जाए कि सैक्स एक ऐसा विषय है, जिस पर सार्वजनिक रूप से चर्चा नहीं की जाती है. यह वर्जित विषय है. इस से बेहतर है कि हम उन्हें घुमाफिरा कर, लेकिन सरल भाषा में जवाब दें.

जैसेकि 3-4 साल की उम्र का बच्चा यह पूछ सकता है कि उस के पास पेनिस है. लड़कियों के पास यह क्यों नहीं है? ध्यान रहे कि यह शरीर के अंगों के बारे में जानने की बच्चों की सहज और सामान्य उत्सुकता है, इसलिए मातापिता को चाहिए कि अपनी क्षमता के अनुसार वे बच्चे को भरसक संतुष्ट करने की कोशिश करें.

जैसे मातापिता अपनी स्थानीय भाषा में बच्चे को शरीर के हिस्सों के बारे में बताएं. लेकिन देरसवेर उन्हें बताना पड़ेगा कि लड़के के प्राइवेट पार्ट को पेनिस कहते हैं और लड़कियों के प्राइवेट पार्ट को वैजाइना. इस तरह बच्चे के मन में यह विश्वास जगाएं कि उस के सवालों के लिए आप हमेशा तैयार हैं. अगर उस के मन में कोई शंका है तो आप उस का निवारण करेंगे.

आइए जानें कुछ ऐसे ही सवाल और उन के जवाब जिन्हें बच्चों के लिए जानना जरूरी है ताकि वे जिम्मेदारी के साथ विकसित हों और साथ ही अपने निर्णय स्वयं लेने में सक्षम.

4 से 9 साल के बच्चों के सवाल

मम्मी मैं कहां से आया?

यह सवाल इस उम्र के हर बच्चे के मन में उठना स्वाभाविक है और अगर पूछे जाने पर आप उसे सही जवाब नहीं देंगे और डांट देंगे तो यह गलत बात होगी. बच्चे से यह भी न कहें कि तुम भगवान या बाबा के घर से आए हो, बल्कि उसे सच बताएं. वरना बच्चा बचपन से अंधविश्वासी बन जाएगा और उसे लगेगा कि हर चीज भगवान के घर से मंगवाई जा सकती है. बच्चे इस उम्र में जानवरों या फूलपौधों के उदाहरणों से हर बात अच्छी तरह समझ जाते हैं, इसलिए उन के सवालों के जवाब उन्हें उन की इसी भाषा में समझाएं. फूलों का उदाहरण दे कर उन्हें बताएं कि वे कैसे पैदा होते हैं और फिर मां के शरीर से अलग हो कर कैसे अपनी बढ़ोतरी करते हैं. उन से यह भी कह सकते हैं कि मां के शरीर में एक खास अंग गर्भाशय होता है जहां से तुम आए हो. उन्हें जन्म की पूरी प्रक्रिया बिताने की जरूरत नहीं है.

सैक्स क्या होता है?

इस सवाल के जवाब में कहा जा सकता है कि मम्मी और पापा एकदूसरे से खास तरह से प्यार करते हैं, जिसे सैक्स कहते हैं.

भैया और मेरे प्राइवेट पार्ट्स अलग क्यों हैं?

बच्ची को बताएं कि जिस तरह कुत्ते, हाथी, घोड़े, गाय इन सभी की शारीरिक बनावट अलगअलग होती है, उसी तरह लड़के और लड़की के शरीर की बनावट और उन के अंग भी अलगअलग होते हैं.

सैनिटरी नैपकिन क्या होता है?

टीवी में विज्ञापन देख कर यह सवाल बच्चे अकसर पूछते हैं? इस सवाल का घबरा कर उलटासीधा जवाब न दें, बल्कि उन्हें समझाएं कि जिस तरह नाक व हाथ पोंछने के लिए मम्मा तुम्हें नैपकिन देती हैं उसी तरह के ये नैपकिन भी हैं. बस फर्क इतना है कि ये नैपकिन सिर्फ प्राइवेट पार्ट्स पोंछने के लिए होते हैं और इन का इस्तेमाल बड़े होने पर किया जाता है. ये बच्चों के लिए नहीं होते. जिस तरह मम्मा और बच्चों के कपड़े और रूमाल अलगअलग होते हैं उसी तरह बच्चों और बड़ों के नैपकिन भी अलगअलग होते हैं.

कंडोम क्या होता है?

गृहशोभा विशेष

टीवी में विज्ञापन देख कर बच्चे यह सवाल भी पूछते हैं. इस स्थिति में बच्चे से कुछ छिपाएं नहीं, बल्कि बताएं कि जिस तरह हाथों को किसी बीमारी से बचाने के लिए हम दस्ताने पहन लेते हैं उसी तरह कंडोम भी एक तरह का दस्ताना ही होता है, जो पुरुषों को बीमारियों से बचाता है. हां, अगर बच्चा 10 साल से बड़ा है, तो उसे बता सकते हैं कि कंडोम सैक्स के दौरान पुरुषों को बीमारियों से बचाता है.

10-15 साल के बच्चों के सवाल

मेरी मूंछें और प्राइवेट पार्ट्स पर बाल क्यों आ रहे हैं? मेरी आवाज क्यों बदल रही है?

सब से पहले तो बच्चों को इस बात का विश्वास दिलाएं कि आवाज बदलना, मुंहासे होना, दाढ़ी आना आदि आम बात है. उन्हें कोई बीमारी नहीं है, बल्कि यह किशोरावस्था की सामान्य प्रक्रिया है. उन्हें तो खुश होना चाहिए कि वे बड़े हो रहे हैं. उन्हें बताएं कि आप भी ऐसे ही बड़े हुए थे. यह बदलाव लड़कों और लड़कियों में अलगअलग हो सकते हैं, इसलिए एकदूसरे के बदलाव को देख कर कन्फ्यूज न हों.

पीरियड्स क्या होते हैं?

पीरियड्स के बारे में हर मां को अपनी बेटी के पूछने से पहले ही बता देना चाहिए. 10 साल की उम्र में लड़की के पहुंचते ही उसे इस बारे में बता देना चाहिए. अगर उसे कहीं बाहर से पता चलेगा तो वह परेशान हो जाएगी. इसलिए बेटी को बताएं कि यह सामान्य प्रक्रिया है. हर लड़की को इस से गुजरना पड़ता है. आप उसे अपने पहले अनुभव के बारे में भी बताएं कि आप को भी दर्द हुआ था, पर धीरेधीरे आदत हो गई. इस समय की जाने वाली साफसफाई और अन्य बातें भी बेटी को समझाएं ताकि उसे कोई परेशानी न हो.

नाइटफाल क्या होता है?

बच्चे के इस तरह के सवाल पर सकपकाएं नहीं, क्योंकि हो सकता है कि वह इस उम्र से गुजर रहा हो, इसलिए उसे समझाएं कि यह बिलकुल नौर्मल बात है. जिस तरह हमारे शरीर में टौयलेट बनता रहता है और निकलता रहता है उसी तरह लड़कों के शरीर में हर वक्त सीमन बनता रहता है और जब यह ज्यादा इकट्ठा हो जाता है तो सोते वक्त निकल जाता है. इस में कुछ गलत नहीं है. इस से घबराएं नहीं.

मास्टरबेशन क्या होता है?

सीमन को जब खुद अपने प्राइवेट पार्ट को टच कर के निकाला जाता है तो उसे मास्टरबेशन कहते हैं. ऐसा करने पर शरीर में कोई कमजोरी नहीं आती है. हां, अति हर चीज की बुरी होती है. इसलिए अपना ध्यान पढ़ाई अथवा अन्य गतिविधियों में लगाएं. छोटे बच्चे को यह भी बताना जरूरी है कि शरीर के जो अंग ढके रहते हैं उन्हें छूने का हक सिर्फ मां को है. मां नहलाते वक्त ऐसा कर सकती है या फिर डाक्टर कर सकता है. लेकिन अगर इस के अलावा कोई दूसरा व्यक्ति ऐसा करता है फिर चाहे वह व्यक्ति आप के दादा, मामा, भाई ही क्यों न हो और यह कहता हो कि किसी को मत बताना तो तुम्हें यह बात अपने मम्मीपापा को जरूर बतानी चाहिए. बच्चे को यह भी सिखाइए कि अगर कोई उस के प्राइवेट पार्ट्स को छूने की कोशिश करता है तो उसे क्या करना चाहिए. आप उसे सिखा सकती हैं कि ऐसा होने पर वह यह कहे कि मुझे हाथ मत लगाना वरना मैं तुम्हारी शिकायत कर दूंगा या दूंगी. बच्चे को बताइए कि वह शिकायत करने से न डरे भले ही वह व्यक्ति डराएधमकाए.

रेप क्या होता है? अगर वह यह पूछे तो रेप शब्द को समझाने के लिए कहें कि जिस तरह आप अपनी गुडि़या को किसी दूसरे को छूने नहीं देतीं, वह आप की है, उसे प्यार करने का हक सिर्फ आप का है, उसी तरह आप हमारी गुडि़या हो. आप को सिर्फ मम्मापापा, दादादादी ही प्यार कर सकते हैं. यदि कोई अनजान व्यक्ति इस तरह छूता है या जानपहचान का व्यक्ति भी इस तरह छुए जो आप को खराब लगे तो उस जबरदस्ती और अच्छा न लगने वाले व्यवहार को रेप कह सकते हैं. 

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं